दुनिया की 7 सबसे बड़ी ताकतें, पूरी दुनिया खाती है इनसे खौफ

दुनिया के तमाम देशों की सेना उसकी ताकत को प्रदर्शित करती है। जहां तक ​​दुनिया में सबसे शक्तिशाली सेनाओं की सूची का सवाल है, पश्चिम के सामान्य नाम वाले देश अब ज्‍यादा प्रभावी नहीं रह गए। अब विश्‍व का हर देश बाहरी आक्रमणों से बचने और अपनी देश की सुरक्षा के लिये अपनी सैन्‍य सख्‍याओं को बढाने और उन्‍हें मजबूती प्रदान करने के लिये उन पर अरबों रूपए खर्च करने के लिये तैयार है। यहां हम आपको उन देशों की सेना के बारे में बताने जा रहे हैं जो सैनिकों की संख्या, सेना के पास उपलब्ध तकनीकी क्षमता, सेना पर बजट समेत तमाम पहलुओं के मामले में बेहद आगे हैं। आइए जानते हैं दुनिया की 7 सबसे ताकतवर देशों की सेना के बारे में।

अमेरिका – अमेरिका का सैन्य क्षेत्र में दबदबा लगातार बना हुआ है। अमेरिका अपने बजट का एक बड़ा हिस्सा सेना के आधुनिकीकरण पर खर्च करता है। इसके लिए वह तक़रीबन 612 बिलियन डॉलर खर्च करता है। ये कई देशों की सकल अर्थव्यवस्था से भी ज्यादा है। अमेरिका के पास 19 एयरक्राफ्ट करियर है, जो बाकी पूरी दुनिया के 12 करियर के मुकाबले डेढ़ गुने से भी ज्यादा हैं।

रूस – सोवियत संघ के विखराव के दो दशकों बाद रूस ने फिर से अपनी सेना को मजबूत करना शुरु कर दिया है। यही वजह है कि उसके अपने सैन्य बजट में 44 फीसदी से भी ज्यादा की बढ़ोतरी की है। रूस के पास 7 लाख 66 हजार सक्रिय सैनिक हैं, तो 24 लाख 85 हजार प्रशिक्षित सैनिक रिजर्व में हैं। यही नहीं, रूस के पास 15,500 से ज्यादा टैकों की दुनिया की सबसे बड़ी टैंक है।

चीन – चीन की सेना के बारे में दुनिया ज्यादा नहीं जानती। इसीलिए वो चीन से खौफ भी खाती है। चीन अपनी सेना के बजट में लगातार बढ़ोतरी करती आई है। साल 2016 में उसने 12.2 फीसदी की बढ़ोतरी की, जो कि मौजूदा समय में 126 बिलियन डॉलर है। चीन का अपने पड़ोसियों जापान, फिलीपींस और भारत के साथ सीमा विवाद भी है, जिसकी वजह से वो अपनी सेना को ताकतवर बनाने में कोई कमी नहीं छोड़ता है।

भारत – नि:संदेह भारत की सैन्य क्षमता भी काफी मजबूत है। हालांकि भारत अपने बजट का काफी छोटा हिस्सा ही सेना पर खर्च करता है। मौजूदा समय में भारत का सैन्य बजट महज 46 बिलियन डॉलर का है, जो कि अधिकतर तकनीकि को हासिल करने में खर्च हुआ है। भारत के पास इस समय बैलिस्टिक मिसाइलों का बड़ा जखीरा है, जो पड़ोसी दुश्मन देशों पाकिस्तान और चीन के छक्के छुड़ाने के लिए काफी है।

इंग्लैंड – एक समय दुनिया की सबसे मजबूत सेना रखने वाला इंग्लैंड अपने सैन्य शक्ति में लगातार कमी कर रहा है। इंग्लैंड की योजना 2010-2018 के बीच अपने सैन्य बजट को 20 फीसदी तक कम करने की है। फिलहाल इंग्लैंड का सैन्य बजट 54 बिलियन का है। हालांकि इंग्लैंड दुनिया भर में लड़ाइयों की संभावित जगहों को देखते हुए इंग्लैंड 40 एफ-35 फाइटर प्लेनों का नया बेड़ा बनाने की तैयारी कर रहा है।

फ्रांस – फ्रांस की सेना हमेशा से मजबूत रही है। हालांकि वो पिछले कुछ समय से सैन्य बजट में काफी कमी ला रही है। फ्रांस ने 2013 में सैन्यक्षेत्र की नौकरियों में 13 फीसदी की कमीं की। फ्रांस अपनी सेना पर कुल जीडीपी का महज 1.9 फीसदी खर्च करती है। लगभग 43 बिलियन डॉलर के खर्च के साथ फ्रांस का सैन्य खर्च ‘नेटो’ में शामिल अन्य देशों के मुकाबले सबसे कम है।

जर्मनी – जर्मनी सैनिकों के लिहाज से खर्च और सुविधाओं के मामले में दुनिया में सबसे ज्यादा खर्च करता है। दूसरे विश्वयुद्ध के बाद से लड़ाई के विरोधी देश में जर्मनी के पास महज 1 लाख 83 हजार सक्रिय और 1 लाख 45 हजार रिजर्व सैनिक हैं, जो कि दुनिया के तमाम मोर्चों पर डटे हैं।

साल 2017 के लिए 8 सबसे शक्तिशाली ताकतों की सूची में भारत को छठा स्थान मिला है। अमेरिका की विदेश नीति से जुड़ी एक प्रमुख मैगजीन ने भारत को छठे स्थान पर रखा है। इतना ही नहीं इस मैगजीन ने प्रधानममंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ भी की है।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

“ऐसे देश जिनके पास आज भी नहीं है खुद की सेना”
“भारतीय सेना के सबसे खतरनाक हथियार”