टमाटर के फायदे

दिसम्बर 14, 2015

टमाटर विश्व में सबसे ज़्यादा प्रयोग में आने वाली सब्जी है। इसका उपयोग लगभग सभी सब्जियों में किया जाता है। लाल-लाल दिखने वाले टमाटर खट्टे-मीठे, रसीले और पौष्टिक होते है। इसका उपयोग सब्जी बनाने से लेकर सलाद, चटनी, सूप यहां तक की सौंदर्य प्रसाधन तक में किया जाता है। आइए जानते हैं टमाटर के फायदे और इससे जुड़ी जानकारियाँ।

टमाटर में विटामिन- ए, बी6, सी, के, केल्शियम, फासफ़ोरस, फॉलेट, वसा, लाइकोपीन, प्रोटीन, पोटेसियम आदि तत्व प्रचुर मात्रा में मौजूद है। कार्बोहाइड्रेट की मात्रा टमाटर में बहुत कम होती है जिस कारण इसे एक उत्तम भोजन के रूप में माना गया है। यह सेव और संतरा दोनो के गुणों से युक्त है। भारतीय व्यंजनों को टमाटर के बिना बनाने की कल्पना भी नही कि जा सकती। टमाटर मिलाकर बनाई गई सब्जी का स्वाद और गुण दोनो ही दुगना हो जाता है। इसकी विशेषता यह है कि पकाने के बाद भी टमाटर के पौष्टिक तत्व नष्ट नही होते। इस कारण यह सेहत के लिहाज से बहुत ही फायदेमंद है। इसके खट्टे स्वाद का कारण यह है कि इसमें साइटिक एसिड और मौलिक एसिड पाया जाता है, जिस के कारण ये एंटासिड के रूप में काम करता है और अम्लीय स्वाद के कारण यह शरीर में क्षारीय प्रतिक्रियाओं को जन्म देता है।

विश्व भर में टमाटर के कई नाम है। कहा जाता है 15 वीं सदी में अमेरिका के रोलको द्वीप पर इस सब्जी की खोज हुई थी। जैसे-जैसे टमाटर के गुणों का पता चला वैसे-वैसे यह भारतीयों के रसोई की शान बन गया। आज पूरे देश में इसकी खेती व्यापक स्तर पर होती है। जिस वजह से टमाटर हर मौसम में बाजारों में उपलब्ध रहने वाली सब्जी है। आज टमाटर को विश्व भर में टोमेटो के नाम से पहचान प्राप्त है। एक टमाटर में केवल 12 कैलोरीज ही होती है, जिस वजह से इसे मोटापा घटाने के लिए उपयुक्त माना गया है। टमाटर को विटामिनों की ख़ान व स्वाद का राजा भी माना गया है, अपने इन्हीं गुणों के कारण टमाटर भूख बढ़ाने में भी सहायक है। इसके नित्य सेवन से कब्ज, रक्त विकार, गठिया, सूखा रोग, एक्जिमा, मधुमेह, नजला, रक्तस्त्राव, जुखाम, नेत्र रोगों में टमाटर को रामबाण ओषधि के रूप में माना गया है।

लंदन की यूनिवर्सिटी ऑफ पोट्समाउथ के द्वारा भारतीय मूल के शोधकर्ता की उपस्थिति में वैज्ञानिकों की एक टीम ने यह दावा किया है कि प्रतिदिन टमाटर के सेवन से प्रोस्टेट कैंसर का ख़तरा ना के बराबर हो जाता है। इतना ही नही, टमाटर प्रोस्टेट कैंसर की कोशिकाओं की बढ़त को न केवल रोकता है बल्कि उनको समाप्त भी करता है। हाल ही में हुई एक रिसर्च यह भी साबित करती है कि एक सप्ताह में 10-11 बार टमाटर खाने से कैंसर का खतरा 45% तक कम हो जाता है। अगर टमाटर को सलाद के रूप में रोजाना खायें तो 60% तक कैंसर का खतरा घट जाता है। इसका कारण यह है कि टमाटर में लाइकोपीन प्रचुर मात्रा में होता है जो कई तरह के कैंसर को रोकने में सहायक है। लाइकोपीन के कारण ही टमाटर का रंग भी लाल होता है। इतना ही नही टमाटर में बीटा कैरोटिन, आइकोपिन, फाइबर, नियासिन, दो एंटी एजिंग कंपाउंड्स भी पायें जाते है। जो लीवर, दिल और त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद है। हरे टमाटर की तुलना में लाल टमाटर को अपने आहार का हिस्सा बनाएं। खट्टा-मीठा लाल टमाटर पकने के बाद खाने के स्वाद को बढ़ा देता है। कार्बोहाइड्रेट की मात्रा कम होते हुए भी टमाटर खाने के कई स्वास्थ्य लाभ है। यह एक सब्जी ही नही है बल्कि यह शरीर में एक औषधि के रूप में काम करता है।

आइये टमाटर के फायदे और गुणों को निम्न उपायों से समझे और उपयोग में लायें-

1. पेट में कीड़े होने पर रोज सुबह खाली पेट टमाटर में कालीमिर्च लगा कर खाने से कीड़े मर जाते है।
2. हर रोज टमाटर सूप पीने से यकृत की कार्यक्षमता में वृद्धि होती है।
3. एक गिलास टमाटर रस में तैयार कर के जरा सी सौंठ व अजवायन का चूर्ण मिलाकर सुबह-शाम पीने से गठिया की समस्या में आराम आता है।
4. सुबह-शाम एक गिलास टमाटर रस पीने से मोटापा घटता है।
5. 2-3 टमाटर पर कालीमिर्च, सेंधा नमक व हरा धनिया मिलाकर खाना खानें से पहले खायें, चेहरे पर निखार आयेगा। टमाटर के गूदे में कच्चा दूध और नींबू मिलाकर चेहरे पर लगाने से भी चेहरा खिल जाता है।
6. बच्चों के सूखा रोग हो तो एक गिलास टमाटर रस रोजाना पिलाने से आराम आता है।
7. टमाटर में विटामिन-ए प्रचुर मात्रा में होता है जो आँखो की समस्या में बहुत लाभकारी है।
8. बच्चों को रोजाना टमाटर खिलाने से मानसिक व शारीरिक विकास शीघ्र होता है।
9. मधुमेह के रोगी प्रतिदिन एक-एक खीरा-टमाटर मिला कर कच्चा खायें।
10. प्रातःकाल बिना कुल्ला किये टमाटर खाना स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभप्रद है।

कुछ और टमाटर के फायदे – प्रतिदिन टमाटर के सेवन से पेट की समस्या, कोलेस्ट्रॉल, खांसी, कफ, उच्च रक्तचाप, चर्म रोग, दमा, दिल के रोग, पाचन क्रिया, गैस, लीवर की समस्या, कब्ज आदि कई रोगों से बचाव होता है। स्वस्थ जीवन शैली के लिए प्रतिदिन टमाटर का सेवन किसी न किसी रूप में अवश्य करें। आहार विशेषज्ञ का मानना है कि टमाटर में इतनी पौष्टिकता होती है कि सुबह नाश्ते में सिर्फ दो टमाटर में, संपूर्ण भोजन के बराबर गुण है। गर्भवती महिलायें एक गिलास टमाटर जूस रोजाना पिये तो विटामिन-सी की कमी नही आती है। अम्ल पित्त, सूजन, पथरी, आंतों की समस्या, मांस पेशियों का दर्द जैसी समस्या अगर किसी को पहले से है तो वो व्यक्ति टमाटर का सेवन ना करे।

टमाटर शरीर में रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। इसमे औषधीय गुण और पौष्टिकता का खज़ाना कूट-कूट कर भरा है। फिर भी आपको पहले से अगर कोई समस्या है तो आप अपने आहार विशेषज्ञ से टमाटर की प्रतिदिन खुराख का अनुमान अवश्य ले। टमाटर के फायदे बहुत है लेकिन किसी भी चीज़ की अति सदा नुकसानदायक ही होती है। इसलिए टमाटर का संतुलित सेवन करते हुए स्वस्थ जीवन जियें।

हमारा उद्देश्य आपका सामान्य ज्ञान बढ़ाना है। टमाटर के फायदे और उपयोग कितनी मात्रा में और कैसे करे उसके लिए आप अपने आहार चिकित्सक से सलाह ज़रूर ले।

“आयुर्वेद के सदा स्वस्थ रहने के 10 मन्त्र”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें