एजुकेशन लोन लेने से पहले इन बातों का रखें खास ध्यान

182

बेहतर नौकरी के लिए एक बेहतर एजुकेशन होना बेहद जरुरी है और हर युवा चाहता है की वो बेहतर से बेहतर एजुकेशन ले या विदेश में पढ़ने जाएँ, लेकिन हर कोई आर्थिक रूप से इतना सक्षम नहीं होता की वो बेहतर एजुकेशन के लिए भारी भरकम फीस दे पाएं। पेरेंट्स को अपने बच्चों की बेहतर पढाई के लिए एजुकेशन लोन लेने का ही एक जरिया दिखाई देता है। लेकिन एजुकेशन लोन लेने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरुरी है ताकि हम किसी तरह की धोखाधड़ी में ना फंसें। कई बार बैंक हमे सभी जानकारियां खुल कर नहीं बताते और हम खुद को ठगा हुआ महसूस करते हैं ऐसे में हमे जागरूक होना आवश्यक है। आइये आपको बताते हैं कुछ ऐसी बातें जिनका एजुकेशन लोन लेते समय ख़ास ध्यान रखें ताकि आप ठगे ना जाएँ।

सावधानीपूर्वक करें बैंक का चयन
सबसे पहली बात ध्यान में रखने वाली ये है की आपको इस बात का पता होना चाहिए की आप जिस विश्वविद्यालय में एडमिशन ले रहे हैं असल में उसकी फीस कितनी है क्योंकि कई विश्वविद्यालय स्कॉलरशिप देते हैं जिनका आप फायदा उठा सकते हैं। इसके अलावा एडमिशन के लिए किसी एजेंट या बिचोलिये का सहारा ना लें। अगर आप विदेश में एजुकेशन लेने के लिए एजुकेशन लोन ले रहे हैं तो पहले जाँच लें की जिस बैंक से लोन ले रहे हैं वो उस सम्बंधित देश की एम्बेसी में लिस्टेड है या नहीं क्योंकि ऐसा ना होने पर आपका वीजा भी रद्द हो सकता है।

ब्याज दरों की तुलना करें
विदेश में पढाई के लिए बैंक 20 लाख रुपये तक का एजुकेशन लोन दे सकता है और इसके लिए पहले वो सभी तरह की जाँच कर संतुष्ट होता है। इसके साथ ही हर बैंक के लोन का इंटरेस्ट और स्कीम अलग अलग होती है जिसका आपको ख़ास ध्यान रखना आवश्यक है। ज्यादा लोन दर होने से आपको लोन की राशि ज्यादा चुकानी पड़ती है जो घाटे का सौदा है इसके लिए बाकी सभी बैंकों की ब्याज दर से भी तुलना करें।

सतर्क होकर बनायें अपना गारंटर
बैंक एजुकेशन लोन देने से पहले गारंटर मांगता है जो आपके माता-पिता या कोई दूसरे रिश्तेदार हो सकते हैं और बैंक आवेदक के डिफाल्टर होने पर गारंटर से राशि वसूलता है। ऐसे में लोन के लिए गारंटर किसी सक्षम और जिम्मेदार व्यक्ति को बनायें ताकि किसी प्रकार के व्यवधान में वो आपके एजुकेशन लोन की जिम्मेदारी ले सके और आपकी पढाई में रुकावट ना आये।

लोन की समय सीमा की जानकारी पहले कर लें
विश्वविद्यालय में एडमिशन की एक समय सीमा होती है उससे पहले आपको अपनी फीस जमा करा कर एडमिशन लेना होता है लेकिन लोन की प्रक्रिया कई बार उस समय सीमा को लांघ जाती है और हमे अपना मनचाहा विश्वविद्यालय देरी होने के कारण नहीं मिल पाता। इससे बचने के लिए पहले बैंक से जांच लें की उसकी लोन के प्रोसेस की अवधि कितनी है ताकि एडमिशन की समय सीमा के अंदर लोन प्राप्ति हो सके।

लोन चुकाने की प्लानिंग्स पहले से करें
एजुकेशन लोन चुकाने की अवधि का ध्यान रखें और इसके लिए पहले से प्लानिंग करें। हालाँकि लोन चुकाने की अवधि जितनी अधिक होगी लोन चुकाना उतना ही आसान होगा लेकिन अधिक समय के ब्याज से बचने के लिए ऐसी प्लानिंग करें की आप लोन की समय अवधि से पहले ही लोन पूरा चुका दें। कई स्टूडेंट पार्ट टाइम जॉब करके भी लोन की राशि जमा कर लेते हैं और समय सीमा से पहले ही लोन चुका देते हैं ताकि लोन का भार ज्यादा ना पड़े। अगर आप भी पढाई के साथ थोड़ा समय पार्ट टाइम जॉब के लिए निकाल सकते हैं तो इससे लोन की राशि जमा करें या फिर भविष्य की प्लानिंग ऐसी करें की लोन जल्दी चुकाया जा सके।

“एक बेहतर जिंदगी के लिए जरुरी है इन 5 बातों का ध्यान रखना”
“जीवन बीमा लेने से पहले इन बातों का ध्यान रखें”
“परीक्षा में टॉप करना है तो इन बातों का रखें ध्यान”

Add a comment