आइंस्टीन के बारे में कुछ अनसुने रोचक तथ्य

1250

अल्बर्ट आइंस्टीन का नाम दुनिया के सबसे महान वैज्ञानिकों में गिना जाता है। उनकी सोच और वैज्ञानिक प्रतिभा का लोहा दुनिया के हर वैज्ञानिक मानते हैं। अपने जीवन में उन्होंने कई ऐसे गूढ़ रहस्यों पर शोध किये जिससे लोगों को ब्रम्हांड और भोतिकी के कई नियमों का सटीक पता चला।

इतना ही नहीं वे सिर्फ फिजिक्स के ही ज्ञाता नहीं थे बल्कि दर्शन शास्त्र में भी उनकी अत्यंत रूचि थी। इसका अंदाज़ा उनकी रिसर्च और उनकी कही हुई बातों से पता चलता है। आज हम आपको उनके जीवन से जुड़ी ऐसे कुछ ख़ास बातें बता रहे हैं जो शायद ही आपने पहले कहीं पढ़ी हो।

1) आइंस्टीन का जन्म 14 मार्च 1879 को हुआ था और इसीलिए इस दिन को पूरी दुनिया में ‘जीनियस डे’ के रूप में सेलिब्रेट किया जाता है।

2) जन्म के समय आइंस्टीन के सिर का आकार सामान्य शिशु के आकार से चार गुना बड़ा था।

3) आइंस्टीन स्कूल के दिनों में एक औसत छात्र थे लेकिन बचपन से ही उनका फेवरेट सब्जेक्ट गणित था।

4) आइंस्टीन को बचपन से ही क्लासिकल संगीत का बहुत शौक था और वे खाली समय में वायलिन बजाते थे।

5) आइंस्टीन बचपन में एक ख़ास किस्म की बीमारी से ग्रसित थे जिस वजह से वे तीन साल की उम्र तक बोल नहीं पाते थे। आगे चलकर बच्चों में होने वाली इस बीमारी का नाम ही उनके नाम पर “आइंस्टीन सिंड्रोम” रख दिया गया।

6) आइंस्टीन इतने ज्यादा भुलक्कड़ किस्म के थे कि कभी कभी वे अपने घर का पता और टेलीफोन नंबर भी भूल जाते थे।

7) आइंस्टीन का ये कहना था कि “मैं उस चीज को याद करने में क्यों दिमाग खर्च करूँ जो किताबों में खोजने से आसानी से मिल सकती है“, इसी वजह से वे गणित और फिजिक्स के कुछ ख़ास सूत्रों को भी याद नहीं रखते थे।

8) वैसे तो आइंस्टीन ने एक से एक गूढ़ सिद्धांतो और सूत्रों की खोज की लेकिन उन्हें सबसे ज्यादा प्रसिद्धि E = mc2 के लिए ही मिली।

9) बेशक परमाणु हथियार बनाने में उन्ही के दिए सूत्रों का अहम रोल है। लेकिन बाद में उन्हें इस बात का बहुत अफ़सोस हुआ कि उनके दिए सूत्र समूचे मानवता को ही खत्म कर सकते हैं।

10) साल 1952 में आइंस्टीन को इजराइल का राष्ट्रपति बनाने की पेशकश की गयी थी लेकिन उन्होंने यह कहकर इस ऑफर के लिए मना कर दिया कि उनका जन्म राजनीती करने के लिए नहीं बल्कि खोज करने के लिए हुआ है।

11) ऐसा माना जाता है कि जब आइंस्टीन ने सापेक्षता का सिद्धांत प्रतिपादित किया तो उस समय पूरी दुनिया में सिर्फ 2-4 वैज्ञानिक ही इस सिद्धांत को ठीक से समझ पाए बाकि किसी की समझ में ही नहीं आया।

12) टाइम मशीन की कल्पना सबसे पहले आइंस्टीन ने ही की है और इस विषय पर उन्होंने कई शोध भी लिखें हैं।

13) अभी भी कई लोगों को यह नहीं पता है कि साल 1921 में भौतिकी का नोबेल प्राइज उन्हें फोटोइलेक्ट्रिक इफ़ेक्ट की खोज के कारण मिला था ना कि सापेक्षिकता के सिद्धांत के लिए।

14) आइंस्टीन को सोना बहुत अच्छा लगता था और इसी वजह से वे रोजाना कम से कम 10 घंटे सोते थे।

15) आइंस्टीन की मृत्यु 18 अप्रैल 1955 को हुई और उनकी मृत्यु के बाद वैज्ञानिकों ने उनका दिमाग रिसर्च करने के लिए निकाल लिया था।

“संस्कृत भाषा के कुछ महत्वपूर्ण और रोचक तथ्य”
“अंतरिक्ष से जुड़े कुछ बेहद दिलचस्प तथ्य”
“गणित से जुड़े बेहद अनोखे तथ्य”

Add a comment