भगवान कृष्ण से जुड़े कुछ ऐसे तथ्य जो हर कोई नहीं जानता

आज जन्माष्टमी के इस शुभ अवसर पर हम आपको भगवान कृष्ण से जुड़े कुछ ऐसे तथ्य बताने जा रहे हैं जो शायद बहुत ही कोई जनता हो। यह बात तो सब लोग जानते हैं कि भगवान कृष्ण को माखन चुराना और गोपियों को सताना बहुत पसंद था लेकिन इसके अलावा भी बहुत कुछ ऐसा है जो आप को जान लेना चाहिए।

भगवान श्री कृष्ण के 108 नाम है यह बात शायद आपको चौंका दे लेकिन यह सत्य है कि भगवान कृष्ण के 108 नाम थे। जिसमें से गोपाल, गोविंद, देवकीनंदन, मोहन, श्याम, घनश्याम, हरीश गिरधारी, बांके बिहारी सबसे ज्यादा प्रचलित नाम है।

भगवान श्री कृष्ण की 16108 पत्निया थी यह बात सुनने में थोड़ी-सी अजीब लगती होगी लेकिन यह सत्य है की कृष्ण भगवान की 16108 पत्निया थी। इन मुख्य आठ पत्नियों के नाम इस प्रकार है रुक्मिणी, सत्यभामा, जाम्बवती, नाग्नजिती, कालिंदी, मित्रविंद, भद्रा, लक्ष्मणा। यह बताया जाता है कि श्री कृष्ण ने 16100 औरतों को नरसुखा नामक राक्षस से बचाया था। जब यह सारी महिलाएं अपने घर वापस गई तो इनमें से किसी को भी अपने घर पर स्वीकार नहीं किया गया। इसीलिए श्रीकृष्ण भगवान ने इनको अपनी पत्नी का दर्जा दिया। लेकिन यह बात बताई जाती है कि श्री कृष्ण ब्रह्मचारी थे।

भगवान कृष्ण की जितनी भी तस्वीरें बनाई जाती हैं वह ज्यादातर नीले रंग की होती हैं। लेकिन आपको बता दें कि भगवान कृष्ण का असली रंग काला था। लेकिन उनकी तस्वीरों में नीले रंग का इस्तेमाल किया जाता है।

भगवान कृष्ण ने जब अपनी सारी पढ़ाई पूरी कर ली तो उनके गुरु को वह गुरु दक्षिणा देना चाहते थे। जिसके लिए जब उन्होंने अपने गुरु से इस बात का आग्रह किया तो गुरु संदीपआनी मुनि ने उन्हें अपने पुत्र के प्राण बचाने के लिए कहा क्योंकि एक राक्षस की कैद में था। श्रीकृष्ण भगवान ने अपनी गुरु दक्षिणा देते हुए अपने गुरु के पुत्र के प्राण बचाए।

यह बताया जाता है की महाभारत के युद्ध के दौरान श्री कृष्ण ने पांडवों का साथ इसलिए दिया था क्योंकि वासुदेव जोकि कृष्ण के पिता थे उनकी बहन कुंती थी जो कि पांडवों की माता थी।

“साँपों से जुड़े अनसुने रोचक तथ्य”
“चावल से जुड़े कुछ आश्चर्यजनक तथ्य”
“दाढ़ी से जुड़े कुछ अनसुने रोचक तथ्य”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment