आज़ादी के जश्न में गाँधी जी शामिल क्योँ नहीं थे जानिए

भारत को आजाद हुए 69 साल पूरे हो चुके हैं। लेकिन गिने चुने ही लोग हैं जो 15 अगस्त 1947 की रात की यह बातें जानते हैं। आखिर ऐसा क्या हुआ था की आजादी को रात के 12:00 बजे ही दिया गया। इस प्रकार के कुछ अनसुने कथन हम आज आपके सामने लाए हैं जो हर भारतीय को पढ़ लेने चाहिए।

यह बात बहुत कम लोग जानते हैं कि भारत में आजादी का जश्न रात के 12:00 बजे से बनाना शुरु कर दिया गया था। आजादी की घोषणा संसद भवन की सेंट्रल हॉल से की गई थी। इसी रात 15 अगस्त 1947 को नेहरू जी ने भारत के नाम एक ऐतिहासिक भाषण दिया था जिसमें यह बात की स्पष्ट कर दी गई थी कि भारत एक आजाद देश है। लेकिन बहुत कम लोग ये बात जानते हैं कि इस रात महात्मा गांधी नदारद थे।

बहुत लोगों के मन में यह प्रश्न उठा रहा होगा कि जिस भारत के लिए गांधीजी ने इतनी लंबी लड़ाई लड़ी वही आजादी वाले दिन कहां नदारद थे। तो इसके लिए आपको बता दें कि गांधीजी को इस बात का बहुत दुख था कि भारत का विभाजन किया जा रहा है और इस विभाजन के दौरान कई लोगों को अपनी जान से भी हाथ धोना पड़ा था। इसीलिए वह आजादी के जश्न में शामिल नहीं हुए।

यह बात बहुत कम लोग जानते हैं कि भारत के अंतिम वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन में आजादी के लिए सबसे पहले जिस तारीख का चुनाव किया था वह 3 जून 1948 था लेकिन उन्होंने अकस्मात इस तारीख को बदलकर 15 अगस्त 1947 कर दिया। लेकिन भारतीय ज्योतिषियों ने इस तारीख को बहुत ही अमंगल बताया भारतीय नेताओं ने बहुत कोशिश की किस तारीख को बदल दिया जाए लेकिन माउंटबेटन अपनी इस तारीख को लेकर अडिग रहें। इसीलिए भारतीय ज्योतिषियों ने इसका एक उपाय निकाला और आजादी की घोषणा रात के 12:00 बजे की। भविष्य में इस बात को अमंगल के तौर पर ना समझा जाए और यही कारण था कि रात के 12:00 बजे आजादी की घोषणा की गई।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

“महान वैज्ञानिक डॉ. होमी जहाँगीर भाभा”

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment