गर्दन दर्द सताए तो करें ये योग

लगातार कंप्यूटर पर काम करते हुए या एक ही पोजीशन में बैठकर काम करते रहने की हमारी आदतों ने हमारे शरीर को बहुत नुकसान पहुँचाया हैं और सबसे ज़्यादा तकलीफ हमारी गर्दन को उठानी पड़ती है जिसे हम शायद ही दिन में 1-2 बार मूव करते होंगे। ऐसे में गर्दन दर्द की शिकायत और इससे जुड़ी बीमारियां भी बहुत आम हो गयी हैं लेकिन इससे निजात पाना भी तो ज़रूरी है। तो चलिए, आज आपको ऐसे आसन बताते हैं जिन्हें करने से आपको इस गर्दन दर्द से बहुत राहत मिलने लगेगी और लगातार अभ्यास से आप इससे निजात भी पा सकेंगे –

बालासन-

  • इस योग मुद्रा का अभ्यास करने से गर्दन के दर्द में काफी राहत मिलती है और पीठ के दर्द से भी निजात मिलती है।
  • इस आसन को करने के लिए, योगा मैट या चटाई पर घुटने के बल बैठें।
  • अब सिर को ज़मीन से लगाने का प्रयास करें।
  • अपने हाथों को सिर के नजदीक रखते हुए, आगे की ओर सीधा रखें।
  • इस समय आपकी हथेलियाँ ज़मीन को छूती हुयी होनी चाहिए।
  • अब हिप्स को एड़ियों की ओर ले जाते हुए सांस छोड़ें।
  • इस स्थिति में 15 -20 सेकंड तक रहें और फिर सामान्य स्थिति में आ जाएँ।
  • इस आसन से ना केवल गर्दन दर्द में राहत मिलती है बल्कि मन भी शांत होने लगता है और कूल्हे, जांघें और पिंडलियाँ
  • भी लचीली होने लगती है।

मत्स्यासन-

  • ये आसन गर्दन और कन्धों की मांसपेशियों को तनावमुक्त करता है ।
  • इस आसन को करने के लिए चटाई पर पीठ के बल लेट जाइये।
  • अब अपनी कोहनियों के सहारे सिर और धड़ भाग को ज़मीन पर रखें जबकि पीठ का ऊपरी हिस्सा और गर्दन ज़मीन से
  • ऊपर की ओर उठायें।
  • अपने हाथों को सीधा करके पेट पर रख लें।
  • जितनी देर इस अवस्था में रुक सकें, उतनी देर रुककर सामान्य स्थिति में वापिस आ जाएँ।

विपरीतकर्णी आसन-

  • इस आसन को करने से गर्दन के पिछले हिस्से को मालिश जैसा फायदा मिलता है और थकान दूर होने के अलावा पैरों
  • की ऐंठन भी दूर होती है।
  • इसे करने के लिए पीठ के बल लेट जाएँ।
  • अपने पैरों को दीवार का सहारा देते हुए ऊपर की ओर उठायें।
  • अपने हाथों को फैलाकर, शरीर के दोनों तरफ ज़मीन पर रख लें और हथेलियों को आसमान की ओर खुली रखें।
  • कुछ सेकण्ड्स इस मुद्रा में रहते हुए गहरी साँस लें और छोड़ें और धीरे-धीरे सामान्य स्थिति में आ जाएँ।

मार्जरी आसन-

  • इस आसन को करने से गर्दन के दर्द से छुटकारा मिलने के साथ-साथ पेट और रीढ़ की हड्डी की मालिश भी हो जाती है।
  • इस आसन को करने के लिए अपनी रीढ़ की हड्डी को कूबड़ की तरह गोल करते हुए अपने सिर को नीचे की ओर ले जाएँ।
  • अपनी ठोड़ी को गर्दन से लगाने का प्रयास करें।
  • कुछ देर इस अवस्था में रुकें और फिर सामान्य स्थिति में आ जाएँ।

भुजंगासन-

  • ये आसन गर्दन, कंधे और पीठ दर्द में राहत दिलाता है।
  • इसे करने के लिए पेट के बल लेट जाएँ और अपने दोनों पैरों को जोड़ लें।
  • हाथों को अपने कन्धों के बगल में रख लें।
  • आपका सिर ज़मीन को छूना चाहिए।
  • अब गहरी साँस लेते हुए अपने सिर को ऊपर उठायें और आसमान की ओर देखने का प्रयास करें।
  • थोड़ी देर इसी अवस्था में रुकते हुए सांस लें।
  • अब साँस छोड़ते हुए धीरे-धीरे सिर को नीचे ले आएं और सामान्य स्थिति में आ जायें।
  • इसी क्रिया को 3-5 बार करें।

शवासन-

  • ये आसन करने में एकदम सरल है और बहुत प्रभावी भी है। इस आसन को आख़िर में किया जाना चाहिए।
  • इसे करने के लिए ज़मीन पर सीधे लेट जाएँ।
  • हाथों को शरीर के दोनों तरफ रख लें, आपकी हथेलियां आसमान की ओर होनी चाहिए।
  • पैरों के बीच थोड़ा गैप रखें।
  • इस स्थिति में कुछ देर रहने के बाद सामान्य स्थिति में आ जायें।
  • इस आसन को करने से शरीर की मांसपेशियों को बहुत आराम मिलता है और थकान दूर होती है।

अब आप जान चुके हैं कि गर्दन दर्द से राहत पाने के लिए आपको कौनसे आसन करने चाहिए। लेकिन इस दौरान ये ध्यान रखें कि शुरुआत में धीरे-धीरे अभ्यास करे और किसी तरह का खिंचाव ना होने दें। इसके अलावा ये भी ध्यान रखें कि गर्दन या उसके आसपास किसी तरह की चोट लगे होने की स्थिति में इन आसनों को ना करें और बेहतर यही होगा कि गर्दन में किस तरह का दर्द है, उसे समझकर ही उचित आसन का चुनाव करें।

दोस्तों, अपने गर्दन दर्द के लिए आसन जान लेने के बाद ये आपकी जिम्मेदारी है कि आप अपना पॉश्चर सही रखें और अपनी गर्दन को मूव करते रहें ताकि गर्दन दर्द की ऐसी स्थिति से आपको बार-बार गुज़रना ना पड़े।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“विद्यार्थियों में योग शिक्षा का महत्व”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment