गर्मी में प्याज खाना क्यों जरूरी है? – गर्मी में प्याज खाने के ये फायदे नहीं जानते होंगे आप

442

गर्मियाँ शुरू होते ही लोगों के खानपान में बहुत से बदलाव आते है. कई लोग ठंडी चीजों पर ज्यादा ध्यान देते है तो कई लोग भोजन ही कम कर देते है और कुछ लोग तो अपने भोजन में ही ऐसी चीजों को शामिल कर लेते है जो मौसम के अनुकूल हो. भारतीय भोजन में स्वाद से कोई समझोता नहीं किया जाता. इसी स्वाद को बढ़ाने में एक नाम है गर्मी में प्याज खाना. जिसका उपयोग भारत में आलू के बाद दूसरे नंबर पर है. लगभग सभी रसोई में प्याज का इस्तेमाल किसी ना किसी रूप में अवश्य किया जाता है. सलाद और ग्रेवी बनाने में प्याज का उपयोग सबसे ज़्यादा होता है. भारतीय रसोई में यह वैरायटी सिर्फ इतने तक ही सीमित नहीं है. प्याज को सलाद, ग्रेवी, सब्जी, अचार, रायता, औषधि आदि कई तरह से इस्तेमाल किया जाता है.

प्याज खाने के जायके को कई गुना बढ़ा देता है. जो लोग खाने के बहुत शौकीन होते है वो स्वाद को बड़ा महत्व देते है. साधारण सा दिखने वाला प्याज एक बेजोड़ औषधि भी है. इतना ही नहीं पीढ़ियों से प्याज का इस्तेमाल कई बीमारियों में होता आया है. इसलिए इसे रामबाण नुस्खे के रूप में लिया जाता है. लेकिन कई घरों में प्याज को उसकी दुर्गंध की वजह से पसंद नहीं किया जाता और कई लोग तो इसी वजह से दिन में प्याज भी नहीं खाते. खैर, सबकी अपनी-अपनी पसंद होती है. पर इसके स्वास्थ्य लाभ बहुत ज्यादा है. इसके सेवन से इम्युनिटी पावर बढ़ती है. चेहरे की झुरियों को कम करता है, आँखों की रोशनी बढ़ाता है. प्याज में कई पौषक तत्व होते है जैसे विटामिन सी, लोहा, गंधक, तांबे जैसे बहुमूल्‍य खनिज पाये जाते हैं, जिनसे शारीरिक शक्‍ति बढ़ती है. इसके अलावा इसमें केलिसीन और रायबोफ्लाविन अच्छी खासी मात्रा में होता है. इसमें लगभग 11 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट भी पाया जाता है. प्याज़ में कई एंटी-इन्फ्लामेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं जो शरीर को कई बीमारियों से प्रोटेक्ट करता है. इसमें जीवाणुरोधी, तनावरोधी, दर्द निवारक, कम सारक, मधुमेह नियंत्रक, प्रदाह निवारक, पथरी हटाने वाला और गठियारोधी गुण भी है.

गर्मी इतनी बढ़ रही है की लोगो का जीना मुश्किल हो रहा है. लेकिन काम तो करना ही है. ऐसे में अगर प्याज को आप अपने भोजन में शामिल करते है तो कुछ राहत तो आपको गर्मी से मिल सकती है. तो चलिए अब हम आपको यह बताते है की प्याज से आपको क्या-क्या स्वास्थ्य लाभ है.

1. लू लगने पर – गर्मियों में चलने वाली गर्म हवा से लू लगना एक आम समस्या है. लेकिन इसकी चपेट में आने के बाद बीमार पड़ना निश्चित है. ऐसी स्थिति में कच्चा प्याज अचूक इलाज है. कच्चे प्याज के रस से पैर के तलवे व हथेलियों पर मालिश करे. इस रस को आप शरीर पर भी लगा सकते है, इससे शरीर को ठंडक मिलेगी. प्याज को दरदरा पीसकर पानी में डालें फिर इस पानी में पैर डालकर कुछ देर रख लें. इससे लू उतर जाएगी. इसके अलावा आप कच्चे प्याज के रस को पी भी सकते है इससे भी लू का असर कम होगा. लू से बचना चाहते है तो कच्चे प्याज को रोज खाएं और जब भी धूप में बाहर निकले एक छोटा प्याज अपने साथ जरूर रखे. प्रतिदिन इस प्याज को बदल ले.

2. डिहाइड्रेशन से बचाता है – गर्मी में अधिकांश लोगो को डिहाइड्रेशन की शिकायत हो जाती है. छाछ, दही या राबड़ी में कच्चे प्याज को मिलाकर खाया जाए तो राहत मिलेगी. रोजाना एक कच्चा प्याज आपको कई समस्या से बचा सकता है.

3. अपच की समस्या में – वर्तमान जीवनशैली में इस समस्या से लगभग सभी पीड़ित है. रोजाना प्याज के सेवन से शरीर में पाचक रस का प्रवाह बढ़ जाता है जो खाने को पचाने में सहायक होता है.

4. गठिया व जोड़ों की समस्या में – हड्डियों की कमज़ोरी इस दर्द का कारण बनती है. ऐसे में प्याज के रस में सरसों का तेल मिलाकर एक महीने तक मालिश करने से यह दर्द गायब हो जाता है. भूना हुआ प्याज खाने से भी कई समस्या दूर होती है.

5. पथरी की समस्या में – किडनी में पथरी होने से असहाय रूप से दर्द का सामना करना पड़ता है. सुबह खाली पेट दो चम्मच कच्चे प्याज का रस पीने से आपको इस मुसीबत से छुटकारा मिल सकता है. प्याज के रस को चीनी के साथ मिलाकर शर्बत बनाकर पीने से भी स्टोन की समस्या दूर होती है. इस समस्या में प्याज आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं हैं.

6. पेशाब बंद होने की समस्या में – रुक- रुक कर पेशाब आने पर या पेशाब ना आने से यह समस्या जानलेवा भी साबित हो सकती है. रुक-रुक कर पेशाब आ रहा है तो प्याज के रस से पेट पर हल्की मालिश करे और प्याज का रस पीने से भी पेट की कई तकलीफ दूर हो जाती है. पेशाब बंद होने की स्थिति में दो चम्मच प्याज के रस में गेहूँ का आटा मिलाकर लेप तैयार करे, फिर इस लेप को गर्म करके पेट पर लगाए. इस रस को गरम पानी में उबालकर पीने से भी पेशाब संबंधी सारी परेशानी दूर हो जाती है.

7. पीरियड्स की प्रॉब्लम में – मासिक धर्म से जुड़ी समस्या या उस समय होने वाले तेज दर्द की समस्या में प्याज के रस में शहद मिलाकर सेवन करने से बहुत आराम मिलता है.

8. कान दर्द में – प्याज को राख में भूनकर उसका गुनगुना रस निकाल लें. अब इस रस को कान में डालें. इससे कान दर्द के अलावा कान से संबंधित सभी समस्या दूर होती है.

9. सर्दी-जुकाम में – प्याज की तासीर गर्म होती है. इसके सेवन से बंद नाक और सर्दी में आराम मिलता है. प्याज के रस में मिश्री मिलाकर चाटने से कफ की समस्या भी दूर होती है.

10. नकसीर व पाइल्स में – गर्मियों में कईयों को यह समस्या होती है. ऐसी स्थिति में कच्चा प्याज सुंघाने से तुरंत आराम मिलता है. पाइल्स की समस्या होने पर रोगी को सफेद कच्चा प्याज खाना चाहिए. राहत मिलेगी.

11. त्वचा या बालों के लिए – त्वचा रोग होने पर प्याज के रस में तिल्ली या आलसी का तेल मिलाकर लगाने से चर्म रोग ठीक होता है. बाल झड़ने की स्थिति में प्याज का रस बालों में लगाए और कुछ मिनट रखे व धोले. हफ्ते में 3-4 बार ऐसा करे और कुछ महीनों तक करते रहे. बाल झड़ना बंद हो जायेंगे और नये बाल आने शुरू हो जायेंगे. प्याज को किसकर इस लेप को बालों में लगाने से बाल काले आने शुरू हो जाते है. प्याज से आपके बाल नरम और चमकदार भी होंगे.

12. सर दर्द, मसूड़ों और दाँत दर्द में – प्याज के रस में नमक मिलाकर लगाने से दाँत दर्द ठीक होता है और मसूड़े मजबूत होते है साथ ही दाँत के कीड़े भी मर जाते है. गर्मियों में सर दर्द आम बात है इस स्थिति में प्याज के सफेद कंद को तोड़कर सूंघने से लाभ होता है.

13. गर्मी में चक्कर आने पर – गर्मी या धूप में यह समस्या कोई बड़ी बात नहीं. प्याज का रस या कच्चा प्याज दोनों का ही सेवन उपयोगी है. नींबू और पुदीने के पानी में प्याज के रस को मिलाकर पीने से चक्कर से बचा जा सकता है.

14. मधुमेह और कैंसर में – मधुमेह के रोगी भोजन के साथ अगर कच्चा प्याज खाते है तो शरीर में इंसुलिन का स्तर सामान्य हो जाता है. कैंसर सेल को रोकने में प्याज कारगर है. क्योंकि इसमें सल्फर तत्व की मात्रा अधिक होती है यह सल्फर पेट, कोलोन, ब्रेस्ट, फेफड़े और प्रोस्टेट कैंसर से बचाता हैं. यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है और इसमें विटामिन सी भी पाया जाता है जो कैंसर की रोकथाम में मददगार होता है.

15. पायरिया में – प्याज के टुकड़ों को गर्म करके दाँतों के नीचे दबा ले और मुँह बंद कर ले. इससे आपके मुँह में लार बनेगी. कुछ देर बाद इन टुकड़ों को निकाल दे. ऐसा दिन में 3-4 बार करे, पायरिया खत्म हो जाएगा.

अगर आप प्याज खाने के शौकीन है तो बहुत अच्छी बात है और अगर आप प्याज नहीं खाते है तो इसके फायदों को देखते हुए आज से ही खाना शुरू कर दीजिए. इसके नियमित सेवन से कब्ज, एनिमिया, गले की खराश, घमौरी, सांस संबंधी रोग आदि कई समस्या दूर होती है. गर्मी में प्याज खाना शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा देता है. प्याज और प्याज का रस किसी बूटी से कम नहीं. यह कई बीमारियों से बचा के रखता है. इसलिए यह भी कहा जाता है प्याज खाने से बुढ़ापा जल्दी नहीं आता और व्यक्ति लंबी उम्र तह स्वस्थ रहता है.

अब आपके जेहन में एक ख्याल जरूर आ रहा होगा!! जब प्याज में इतने गुण होते है तो इसमें इतनी गंध क्यों होती है? प्याज काटो तो आँख से आँसू क्यों आता है. इसकी गंध एन-प्रोपाइल-डाय सल्फाइड के कारण आती है यह पदार्थ पानी में घुलनशील अमीनों अम्लों पर एन्जाइम की क्रिया से बनता है. इसी वजह से प्याज को काटने पर आँख से आँसू आते हैं. आजतक आपने प्याज का उपयोग स्वाद के कारण किया होगा. लेकिन आज से आप प्याज को बेहतरीन औषधि के रूप में सेवन करेंगे.

गर्मी में प्याज खाना, प्याज के स्वास्थ्य लाभ जानने के लिए अपने चिकित्सक से सलाह जरूर लें. हमने आपसे सिर्फ ज्ञानवर्धक जानकारी साझा की है. कोई भी प्रयोग आजमाने से पहले अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे.

“गर्मी और लू से बचने के आसान घरेलू उपाय”
“इन चीजों को दही में मिलाकर खाएं और आश्चर्यजनक लाभ देखे”
“गर्मी होगी दूर, करेँ यह योगा”

Add a comment