जीन किसे कहते है और जीन चिकित्सा क्या है?

आपने किताबों के ज़रिये जीन के बारे में थोड़ी जानकारी तो जरूर ली होगी और जीन थैरेपी का ज़िक्र भी कहीं ना कहीं ज़रूर हुआ होगा लेकिन हो सकता है कि आप जीन के बारे में थोड़ा करीब से जानने की जरुरत महसूस करते हो। ऐसे में क्यों ना आज, इसी बारे में बात की जाए कि जीन क्या होते हैं और जीन चिकित्सा क्या होती है। तो चलिए, आज जानते है इस छोटे से जीन के बड़े-बड़े कारनामों के बारे में-

ये तो आप जानते ही हैं कि हमारा शरीर बहुत सारी छोटी-छोटी कोशिकाओं से मिलकर बना हुआ है और कोशिका में केन्द्रक पाया जाता है। इस केन्द्रक में गुणसूत्र होते हैं। ये गुणसूत्र या क्रोमोसोम आनुवंशिक गुणों को निर्धारित भी करते हैं और उन्हें संचारित भी करते हैं।

कोशिकाओं पर पाए जाने वाले इन क्रोमोसोम्स पर डीएनए पाया जाता है जिसका आकार घुमावदार सीढ़ी की तरह होता है।

इसी डीएनए का बहुत छोटा सा खंड जीन होता है जो आनुवंशिकता के बुनियादी घटक होते हैं और आनुवंशिक लक्षणों को एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक पहुँचाने का काम करते हैं। जीन कोशिकाओं को विशेष प्रकार के प्रोटीन का निर्माण करने के लिए निर्देश भी देते हैं।

जीन में हमारी आनुवंशिक विशेषताओं की जानकारी होती है, जैसे हमारी आँखों का रंग क्या होगा, हमारे बालों का रंग कैसा होगा और शरीर को किस प्रकार की बीमारियां हो सकती है। इसके अलावा हमारी शारीरिक शक्ति और क्षमता बाहरी कारणों के अलावा जीन पर भी निर्भर करती है। आमतौर पर एक इंसान में 30 से 40 हजार तक जीन पाए जाते हैं।

आइये, अब जानते हैं जीन थैरेपी के बारे में-

  • शरीर में पायी जाने वाली कोशिकाओं और ऊतकों में किसी जीन को प्रवेश कराकर किसी बीमारी की चिकित्सा करना जीन चिकित्सा कहलाता है।
  • किसी व्यक्ति के शरीर के जीन्स को समझकर, उससे जुड़ी बीमारी का अंदाज़ा पहले ही लगा पाने में वैज्ञानिकों को काफी मदद मिलती है और इसी आधार पर इलाज की एक ऐसी विधा सामने आयी है जिसमें किसी व्यक्ति की कोशिकाओं में जेनेटिक मैटेरियल को प्रवेश कराया जाता है ताकि उसे बीमारियों से लड़ने में मदद मिल सके।
  • जीन थैरेपी के ज़रिये कैंसर जैसी घातक बीमारी का इलाज करने के लिए जीन पर शोध जारी है ताकि स्वस्थ कोशिकाओं को बढ़ावा देकर कैंसर से लड़ने का रास्ता खोजा जा सके।
  • जीन के ज़रिये रोगों की रोकथाम का ये तरीका अभी क्लिनिकल परीक्षणों तक ही सीमित है और इसे बड़े स्तर पर उपयोग में आने में अभी थोड़ा समय लगेगा।

दोस्तों, अब आप ये जान चुके हैं कि जीन इतने छोटे होकर भी कितना प्रभावी काम करते हैं और जीन थैरेपी के ज़रिये किस तरह बीमारियों से निजात पाने के प्रयास तेज़ी से चल रहे हैं। ऐसे में ये कहा जा सकता है कि बहुत जल्द बड़ी से बड़ी और घातक बीमारियों से लड़ना और निजात पाना संभव हो जाएगा। उम्मीद है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“डीएनए टेस्ट क्या है और कैसे किया जाता है?”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment