घर का मुख्य द्वार वास्तु शास्त्र के अनुसार कैसा और कहाँ होना चाहिए?

फरवरी 21, 2018

हम सभी अपने घर-परिवार में खुशहाली चाहते हैं और इसके लिए दिन-रात जतन भी किया करते हैं लेकिन अगर इसके साथ-साथ हम घर के वास्तु पर भी गौर करें तो परिवार में खुशहाली की हमारी ये इच्छा बहुत आसानी से पूरी हो सकती है। यूँ तो घर का हर कोना अपना महत्व रखता है लेकिन घर के मुख्य द्वार का महत्व बहुत अधिक होता है। ऐसे में घर के मेन गेट यानी मुख्य द्वार के वास्तु शास्त्र को जानना बेहतर साबित होगा। तो चलिए, आज जानते हैं कि घर का मुख्य द्वार वास्तु शास्त्र के अनुसार कैसा और कहाँ होना चाहिए-

दोस्तों, वास्तुशास्त्र का सहयोग लेकर आप अपने घर के हर कोने से नकारात्मक ऊर्जा को दूर कर सकते हैं और घर-परिवार की खुशहाली की अपनी चाहत को आसानी से पूरा भी कर सकते हैं इसलिए अगर आप घर बनवा रहे हैं तो घर के मुख्य द्वार से जुड़ी इन बातों पर जरूर गौर करें और अगर आपके घर के मुख्य द्वार में वास्तु दोष है तो आसान से उपाय करके इन्हें दूर कर लीजिये ताकि नेगेटिव एनर्जी बाहर ही रहे और आपके घर में सिर्फ पॉजिटिव एनर्जी ही प्रवेश कर सके।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“घर का नक्शा वास्तु शास्त्र के अनुसार ऐसा होना चाहिए”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें