आइये जानते हैं गुणसूत्रों की खोज किसने की थी। गुणसूत्र या क्रोमोसोम ऐसे तंतु रुपी पिंड होते हैं जो वनस्पति और प्राणी कोशिकाओं में पाए जाते हैं। गुणसूत्रों में आनुवंशिक पदार्थ पाया जाता है इसलिए इनका कार्य आनुवंशिक गुणों को निर्धारित करना और उन्हें पीढ़ी दर पीढ़ी आगे बढ़ाना होता है।

गुणसूत्रों के माध्यम से ही माता-पिता के लक्षण संतानों में पहुंचते हैं। हर प्रजाति में गुणसूत्रों की निश्चित संख्या पायी जाती है। ऐसे में गुणसूत्रों के बारे में जानकारी लेना आपके लिए फायदेमन्द साबित हो सकता है इसलिए आज जागरूक पर बात करते हैं गुणसूत्रों की खोज के बारे में।

गुणसूत्रों की खोज किसने की थी? 1

गुणसूत्रों की खोज किसने की थी?

क्रोमोसोम शब्द ग्रीक शब्द क्रोमा (कलर) और सोम (बॉडी) से मिलकर बना है। गुणसूत्र को ये नाम दिए जाने का कारण इनका विशेष प्रकार की डाइ से गहरा रंग लेने की प्रकृति है। क्रोमोसोम शब्द German anatomist Von Waldeyer-Hartz द्वारा दिया गया।

क्रोमोसोम्स को सबसे पहले पादप कोशिका में स्विस बॉटनिस्ट Karl Wilhelm von Nägeli ने 1842 में देखा और एस्केरिस वर्म्स में बेल्जियन साइंटिस्ट Edouard Van Beneden ने क्रोमोसोम्स को देखा।

गुणसूत्र केन्द्रक में पायी जाने वाली धागेनुमा संरचना होती है। इसमें 2 महत्वपूर्ण पदार्थ पाए जाते हैं-

  • डीएनए (डिऑक्सीराइबो न्यूक्लिक एसिड) – डीएनए एक आनुवंशिक पदार्थ होता है। इसके एक अणु में दो सूत्र होते हैं जो एकदूसरे के चारों तरफ सर्पिल रुप में वलयित होते हैं।
  • हिस्टोन प्रोटीन

गुणसूत्र की संरचना में पाए जाने वाले भाग-

  • पेलिकल और मैट्रिक्स
  • क्रोमोनिमैटा
  • क्रोमोमियर्स
  • सेंट्रोमीयर
  • सैटेलाइट

मानव कोशिका में गुणसूत्रों की संख्या 46 होती है जो 23 गुणसूत्रों के जोड़ें में होते हैं। इनमें से 22 गुणसूत्र ऐसे होते हैं जो पुरुष और महिला में समान ही होते हैं और अपने-अपने जोड़े के समजात होते हैं। इन्हें समजात गुणसूत्र (autosomes) कहा जाता है।

23वें जोड़े के गुणसूत्र पुरुष और महिला में समान नहीं होते हैं इसलिए इन्हें विषमजात गुणसूत्र (heterosomes) कहा जाता है। ये विषमजात गुणसूत्र सेक्स क्रोमोसोम्स भी कहलाते हैं जो महिला में XX होते हैं जबकि पुरुष में XY गुणसूत्र के रुप में होते हैं।

उम्मीद है गुणसूत्रों की खोज कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

पीने के पानी का टीडीएस कितना होना चाहिए?

जागरूक यूट्यूब चैनल