इस देश में रहता है 105 दिन अंधेरा

आज हम आपको एक ऐसे देश के बारे में बताने जा रहे हैं जो 105 दिन पूर्ण रूप से अंधेरे में रहता है। शायद आपको यह बात सुनकर इस बात पर यकीन ना हो लेकिन यह बात पूर्ण रुप से सत्य है। इस जगह पर माइनस 55 डिग्री सेल्सियस तापमान रहता है फिर भी यहां पर लोग काम करते हैं। इस तापमान में इंसान की हड्डियां गलने का खतरा बना रहता है और मनोवैज्ञानिक और वैज्ञानिक तौर पर भी इस जगह पर काम करने की अनुकूल परिस्थितियां नहीं है।

अब अगर आप यह सोच रहे हैं कि इस जगह का नाम क्या है तो आपको बता देंगी यह जगह है अंटार्कटिका। यहां पर साल में 105 दिन अंधेरा छाया रहता है क्योंकि इसकी ज्योग्राफिकल पोजीशन इस तरह से है कि यहां पर साल में 105 दिन अंधेरा ही रहता है। लेकिन फिर भी यहां पर कई वैज्ञानिक तरह-तरह के अनुसंधान करते रहते हैं इसके लिए यहां पर हर प्रकार की सुविधा मौजूद है।

यहां पर जगह बदलने वाली लैब का इस्तेमाल किया जाता है इस लैब को हेली सिक्स के नाम से जाना जाता है। इस विशाल लैब के अंदर हर अत्याधुनिक साधन सामान मौजूद है। इस लैब का आकार इतना बड़ा होने के बावजूद भी इस लैब को आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है।

इस प्रकार की लैब को काफी दूर ले जाना कभी कबार मुश्किल काम हो जाता है क्योंकि बर्फ में कई बार बड़ी दरार बन जाती है जिससे यह अनुमान लगाना मुश्किल हो जाता है कि यहां पर धसने का ख़तरा कितना है।

अगर आप यह सोच रहे हैं कि यहां पर वैज्ञानिक क्या करते हैं तो आपको बता दें कि इस जगह से ब्रह्मांड के बारे में हर वह जानकारी निकाली जाती है जो अन्य जगह से निकालना मुश्किल होता है। यहां से मौसमी हलचल, ओजोन परत की दशा, ध्रुवीय वातावरण और जलवायु परिवर्तन से जुड़ी हर वह जानकारी संग्रहित की जाती है जो मानव के विकास के लिए अत्यंत जरूरी है।

इस जगह पर वैज्ञानिकों के लिए टाउन हॉल मीटिंग पॉइंट भी बनाया गया है। आपको बता दें कि इस जगह पर गर्मियों में 70 लोग रहते हैं और सर्दियों में सिर्फ 16 लोगों को ही यहां रहने की अनुमति मिलती है।

इस जगह पर नजारे देखने लायक होते हैं क्योंकि यहां पर 24 घंटे अंधेरा रहता है अंत हीन सी लगने वाली रात का नजारा गजब का होता है।

यह लैब आठ मॉड्यूल को मिलाकर बनाई गई है इस लैब के सारे पाए हाइड्रोलिक हैं और इन पायो को स्की पैड के जरिए बर्फ पर आसानी से चलाया जा सकता है।

इस जगह पर रहना इतना आसान नहीं है यहां पर किसी भी गलती के लिए कोई माफी नहीं है आप हल्का सा चूके और आपकी जान का खतरा बना जाता है। यहां पर लगातार तापमान माइनस 55 डिग्री सेल्सियस रहता है और इतनी सर्दी में कुछ ही मिनटों में आप जैम जम सकते हैं इसीलिए वैज्ञानिक हर मुसीबत का सामना करने के लिए तैयार रहते हैं।

“आजाद होने के बाद भी इन देशों में आजाद नहीं है महिलाएं”
“जानिए अलग-अलग देशों में शादी की न्यूनतम उम्र”
“इन देशों का बेरोजगारी भत्ता आपकी तनख्वाह से ज्यादा है”
“कड़ाके की ठंड के बीच कुछ ऐसे रहते हैं हमारे देश के वीर जवान”

शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment