जानिए क्यों जरूरी है हमारे शरीर को विटामिन बी 12

345

शरीर को स्वस्थ बनाये रखने में विटामिन्स का भी खास महत्व होता है। हमारा शरीर विटामिन की पर्याप्त मात्रा का निर्माण नहीं कर पाता है इसलिए भोजन के ज़रिये ही विटामिन्स की आवश्यक मात्रा की पूर्ति हो पाती है। विटामिन B 12 भी एक ऐसा ही ज़रूरी विटामिन है जो दिल को स्वस्थ बनाये रखता है और कैंसर से बचाव करने के अलावा खून की कमी होने से रोकता है लेकिन ज़्यादातर लोगों में इस विटामिन की काफी कमी पायी जाती है क्योंकि शाकाहारी भोजन से इस विटामिन की पर्याप्त मात्रा शरीर को नहीं मिल पाती जिसके कारण इसकी कमी से कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में ये जान लेना बेहद ज़रूरी हो जाता है कि हमारे शरीर के लिए विटामिन बी-12 का महत्व और इसकी कमी के कारण और लक्षणों को हम पहचान सकें। तो चलिए आज बात करते हैं विटामिन बी-12 के बारे में –

1. क्यों ज़रूरत है विटामिन बी 12 की –

  • विटामिन बी 12 या कोबालामिन, नर्वस सिस्टम को स्वस्थ बनाये रखता है।
  • ये विटामिन लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए भी ज़रूरी होता है।
  • विटामिन बी-12 मस्तिष्क की प्रक्रियाओं के लिए आवश्यक होता है।
  • ये विटामिन डीएनए, आरएनए और न्यूरोट्रांसमीटर के उत्पादन में भी सहायक होता है।

2. विटामिन बी 12 की शरीर में कमी होने के क्या कारण हो सकते हैं ?

  • एनीमिया अगर लम्बे समय तक बना रहे तो शरीर में विटामिन बी-12 की कमी हो सकती है।
  • ये विटामिन एनिमल प्रोडक्ट्स में ज़्यादा पाया जाने के कारण शाकाहारियों में इसकी कमी पायी ही जाती है।
  • आनुवंशिक कारण से भी इस विटामिन की कमी हो सकती है।
  • वजन घटाने के लिए या किसी कारण से आँतों की सर्जरी कराने की स्थिति में भी विटामिन बी 12 की कमी हो सकती है।
  • क्रोहन आँतों की एक बीमारी है जिसमें आंतें विटामिन बी-12 का अवशोषण नहीं कर पाती हैं इसलिए ये बीमारी होने पर शरीर में विटामिन बी 12 की कमी हो जाती है।
  • पूरी तरह माँ के दूध पर आश्रित रहने वाले शिशुओं में बाहरी पोषण की कमी के कारण भी इस विटामिन की कमी हो जाती है।
  • 50 वर्ष से ज़्यादा उम्र के लोगों में भोजन से इस विटामिन को अवशोषित करने की क्षमता कम होती जाती है।
  • विटामिन बी 12 पानी में घुलनशील विटामिन है इसलिए पानी को कम मात्रा में पीना भी इसके अवशोषण को कम कर सकता है।

3. विटामिन बी 12 की कमी से शरीर पर क्या प्रभाव पड़ सकते हैं ?

  • हमारा शरीर हर मिनट में लाखों रेड ब्लड सेल्स का निर्माण भले ही करता हो लेकिन विटामिन बी 12 के बिना ये रेड
  • ब्लड सेल्स विकसित नहीं हो पाती हैं जिसके कारण खून की कमी हो जाने से एनीमिया रोग हो सकता है।
  • नर्वस सिस्टम को स्वस्थ बनाने वाले विटामिन बी 12 की कमी से ब्रेन डैमेज भी हो सकता है।
  • इसकी कमी से कैंसर और अल्ज़ाइमर जैसी गंभीर बीमारियों का ख़तरा भी बना रहता है।
  • इस विटामिन की कमी से फोलिक एसिड का अवशोषण रुक जाता है।
  • ‘एंटी-स्ट्रेस विटामिन्स’ में से एक, विटामिन बी 12 की कमी होने से तनाव बढ़ने लगता है।
  • विटामिन बी 12 की कमी से हृदय रोग होने की संभावनाएं भी बढ़ जाती हैं।

4. विटामिन बी 12 की कमी के लक्षणों को कैसे पहचाने ?

  • त्वचा पीली पड़ना
  • मुँह में छाले हो जाना
  • जीभ में सूजन आना
  • हाथ-पैरों में झनझनाहट और जलन होना
  • थकान और कमज़ोरी महसूस करना
  • पाचन का कमज़ोर हो जाना
  • भूख कम लगना
  • कान में घंटी जैसी आवाज़ें आना
  • चिड़चिड़ापन
  • याददाश्त कम हो जाना

ये सभी लक्षण शरीर में विटामिन बी-12 की कमी होने का संकेत देते हैं।

5. विटामिन बी 12 की कमी को दूर कैसे करें ?

इस विटामिन की कमी को दूर करने से पहले ये जानना होगा कि शरीर में इस विटामिन की कमी के कारण ही ऐसे लक्षण दिखाई दे रहे हैं।

इसके लिए विटामिन बी 12 से जुड़े टेस्ट कराएं और कमी आने पर डॉक्टर इंजेक्शन या विटामिन सप्लीमेंट्स देकर आपको राहत दिला सकते हैं।

इसके अलावा अपनी डाइट में कुछ चीज़ों पर विशेष ध्यान देकर इस विटामिन की कमी को दूर किया जा सकता है –

Vitamin-B12 जानिए क्यों जरूरी है हमारे शरीर को विटामिन बी 12

शाकाहार में विटामिन बी 12 के विकल्प –

दूध और दही – दूध और दही का सेवन करके विटामिन बी-12 लिया जा सकता है, साथ ही सोया प्रोडक्ट्स जैसे- सोया बीन, सोया दूध में भी विटामिन बी 12 की प्रचुर मात्रा पायी जाती है।

पनीर- पनीर में भी विटामिन बी 12 की अच्छी मात्रा पायी जाती है। स्विस पनीर में सबसे ज़्यादा विटामिन बी 12 पाया जाता है और कॉटेज चीज़ भी विटामिन बी 12 का अच्छा सोर्स है।

सब्जियां- आलू, शलजम, चुकंदर, गाजर, मूली जैसी सब्जियां जो जमीन के अंदर उगती हैं, इनमें भी विटामिन बी 12 की थोड़ी मात्रा पायी जाती है।

मांसाहार में विटामिन बी 12 के विकल्प –
शैलफिश, टोफू मछली, रेड मीट, अंडे और चिकन में विटामिन बी-12 पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है।

अब तो आप जान चुके हैं कि हमारे शरीर को विटामिन बी 12 की कितनी ज़रूरत होती है और कैसे हम इस विटामिन की कमी को दूर कर सकते हैं। तो बस, देर किस बात की। अभी से अपने आहार पर थोड़ा ध्यान दीजिये और अगर इस विटामिन की कमी से होने वाले लक्षण आपको महसूस हो रहे हैं तो बिना घबराये, तुरंत डॉक्टर से मिलिए। इस विटामिन की कमी पर समय रहते ध्यान दिया जाए तो इसकी कमी से होने वाली बड़ी-बड़ी बीमारियों से भी बड़ी आसानी से बचा जा सकता है।

“जानिए शरीर में विटामिन की कमी के मुख्य लक्षण”
“इस विटामिन की कमी से हो सकती है मौत”
“प्रोटीन का ज्यादा सेवन भी हो सकता है खतरनाक, जानिए कैसे”

Add a comment