आइये जानते हैं हरियाणा के पर्यटन स्थल के बारे में। उत्तर भारत का हरियाणा राज्य एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है जिसे ऐतिहासिक और पौराणिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है।

महाभारत का ऐतिहासिक युद्ध और पानीपत की लड़ाई इसी राज्य की भूमि पर लड़े गए थे और इस राज्य में पर्यटकों के लिए इतने सारे मनोरम, दर्शनीय स्थल हैं कि पर्यटक यहाँ से आनंदित होकर ही लौटते हैं।

ऐसे में क्यों ना, आज आपको भी हरियाणा की सैर करवाई जाये। तो चलिए, आज हरियाणा को करीब से जानते हैं।

हरियाणा के पर्यटन स्थल 1

हरियाणा के पर्यटन स्थल

मोरनी हिल्स – मोरनी हरियाणा के पंचकुला जिले का एक गांव है जो हिमालयी दृश्यों, झीलों और हरियाली के लिए जाना जाता है। ये गांव समुद्र तल से 1,220 मीटर की ऊंचाई पर पहाड़ी पर स्थित है। ये हिल्स हिमालय की शिवालिक रेंज की शाखाएं हैं। इस स्थान का नाम एक रानी के नाम पर मोरनी पड़ा क्योंकि उस रानी द्वारा इस क्षेत्र पर शासन किया गया था।

गुरुद्वारा नाडा साहिब – पंचकूला में शिवालिक तलहटी में घग्गर नदी के तट पर सिखों का ये प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है। यहाँ हर महीने पूर्णिमा दिवस का उत्सव मनाया जाता है जिसमें उत्तरी क्षेत्र के लोग बड़ी संख्या में हिस्सा लेने आते हैं।

कर्ण झील – हरियाणा के करनाल जिले में मौजूद ये झील महाभारत के युद्ध से सम्बंधित बताई जाती है। कहा जाता है कि इस झील में महाशूरवीर कर्ण ने स्नान किया था और इसी स्थान पर अपना सुरक्षा कवच इंद्र को दे दिया था। ऐसा माना जाता है कि करनाल शब्द की उत्पत्ति भी कर्ण ताल से ही हुयी है। करनाल शहर को कर्ण का शहर भी कहा जाता है।

ब्रह्म सरोवर – इस सरोवर का सम्बन्ध ब्रह्माण्ड के निर्माता भगवान ब्रह्मा से है। किंवदंती के अनुसार, इस सरोवर की खुदाई कौरव और पांडवों के पूर्वज राजा कुरु ने शुरु की थी। माना जाता है कि महाभारत युद्ध में जीतने के बाद युधिष्ठिर ने इस सरोवर के बीच में स्थित द्वीप पर एक टावर बनाया था।

सरोवर के उत्तरी तट पर स्थित शिव मंदिर के बारे में, ऐसा माना जाता है कि यहाँ भगवान ब्रह्मा द्वारा शिवलिंग स्थापित किया गया था। कहा जाता है कि सूर्य ग्रहण के दौरान इस सरोवर में डुबकी लेना हजारों अश्वमेज्ञ यज्ञों के प्रदर्शन की योग्यता के बराबर माना जाता है।

सुखना झील – हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ का एक प्रसिद्ध टूरिस्ट स्पॉट सुखना झील है जो हिमालय की तलहटी में बसा है। ये एक बरसाती झील है जिसका निर्माण 1958 में करवाया गया था।

रानीला जैन मंदिर – हरियाणा के चरखी दादरी जिले में एक गाँव रानीला है और भगवान आदिनाथ दिगंबर जैन मंदिर रानीला के आदिनाथ पुराम में स्थित है। ये मंदिर चमत्कारी माना जाता है। इसमें स्थापित मूर्ति 1400 -1500 साल पुरानी मानी जाती है।

नाहर सिंह महल – हरियाणा के फरीदाबाद जिले में स्थित ये महल 1739 ईस्वी के आसपास जाट राजा नहर सिंह के पूर्वजों द्वारा बनवाया गया था। साल 1996 से इस महल में नवम्बर के महीने में वार्षिक मेला कार्तिक सांस्कृतिक महोत्सव आयोजित किया जाता है।

सोहना हिल – सोहना हिल एक फेमस टूरिस्ट स्पॉट है जो बहुत खूबसूरत है। रिसोर्ट अरावली की पहाड़ियों पर है और यहाँ दमदमा झील भी है जिसका पानी सूरज की किरणों से हीरे-मोती की तरह दमकता है। अलग-अलग समय पर इस झील का पानी अलग-अलग रंग का दिखाई देता है जो पर्यटकों को रोमांचित करता है।

असीगढ़ का किला – हरियाणा के हिसार में स्थित असीगढ़ का किला महान हिन्दू राजा पृथ्वीराज चौहान के किले के नाम से भी जाना जाता है। इस किले का निर्माण मुगलों से रक्षा के लिए करवाया गया था लेकिन इस किले पर मुगलों का अधिकार हो गया और उन्होंने यहाँ एक मस्जिद का निर्माण करवाया।

स्टार स्मारक – ये स्मारक अपनी शानदार वास्तुकला के लिए जाना जाता है। इसकी हेक्सागोनल संरचना जमीन से 6 फीट की ऊंचाई पर स्टार आकृति में बनाई गयी है।

कल्पना चावला तारामंडल – भारत की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला की याद में ये प्लेनेटोरियम बनाया गया है। 5 एकड़ में फैला ये तारामंडल हरे खेत और घूमने वाले एस्ट्रो पार्क के कारण भी पर्यटकों द्वारा खासा पसंद किया जाता है।

दोस्तों, हरियाणा राज्य का इतिहास, वास्तुकला और मनोरम दृश्य देखने के लिए आपको एक बार हरियाणा का रुख जरूर करना चाहिए ताकि आप खेतों में घूमकर ताज़ी हवा ले सकें और युद्ध भूमि को करीब से देखकर इतिहास को बेहतर तरीके से जान सकें।

उम्मीद है हरियाणा के पर्यटन स्थल कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमन्द भी साबित होगी।

पीने के पानी का टीडीएस कितना होना चाहिए?

जागरूक यूट्यूब चैनल