हीमोग्लोबिन की कमी से होने वाले रोग

अक्टूबर 18, 2018

हीमोग्लोबिन फेफड़ों से ऑक्सीजन लेकर उसे रक्त में पहुंचाता है, जहाँ से ऑक्सीजन शरीर के हर अंग तक पहुँचती हैं। हीमोग्लोबिन की कमी से होने वाले रोग – शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी होने पर थकान, कमजोरी, सिरदर्द, चिड़चिड़ापन, चक्कर आना, सांस फूलना, घबराहट होना और हाथ-पैर फूलने जैसे लक्षण दिखाई देने लगते हैं। हीमोग्लोबिन की कमी के कारण शरीर में रेड ब्लड सेल्स की कम मात्रा का निर्माण होना, शरीर में रेड ब्लड सेल्स के निर्माण की तुलना में रेड ब्लड सेल्स की ज्यादा मात्रा का नष्ट होना, शरीर में खून की कमी होना आदि समस्याएँ हो सकती है

हीमोग्लोबिन की कमी से होने वाले रोग – हीमोग्लोबिन हीम यानी आयरन और ग्लोबिन प्रोटीन से मिलकर बनता है और जब आहार में आयरन की कमी होती है तो शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर भी गिरने लगता है। हीमोग्लोबिन की कमी शरीर में ऑक्सीजन की कमी कर देती है जिससे थकान और कमजोरी महसूस होने लगती है। इस स्थिति को एनीमिया कहा जाता है।

एनीमिया – एनीमिया कोई बीमारी नहीं है लेकिन ये स्थिति कई बीमारियों का कारण जरूर बन जाती है। एनीमिया महिलाओं में ज्यादा देखा जाता है, खासकर प्रेगनेंसी के दौरान क्योंकि इस समय शरीर को विटामिन, मिनरल, फाइबर की ज्यादा मात्रा की जरुरत पड़ती है और ब्लड में लोह तत्व कम होने से थकान और कमजोरी बढ़ती जाती है। ब्रेस्ट फीडिंग करवाने वाली महिलाएं भी अक्सर एनीमिया से ग्रस्त रहती हैं।

इसके अलावा महिलाओं में पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग होने पर भी हीमोग्लोबिन का स्तर कम हो जाने से एनीमिया की समस्या हो जाती है। यूट्रस में ट्यूमर होने, आँतों में अल्सर होने, पाइल्स होने और डाइटिंग करने जैसी स्थितियों में भी एनीमिया की आशंका बढ़ जाती है।

एनीमिया के अलावा, हीमोग्लोबिन की कमी से होने वाले रोग ये भी हो सकते हैं-

आयरन, फोलिक एसिड और विटामिन-सी युक्त आहार लेकर हीमोग्लोबिन की कमी को दूर किया जा सकता है। इसके अलावा डॉक्टर से परामर्श लेकर दवा भी ली जा सकती है।

“एंटीबायोटिक क्या होती हैं?”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें