सफेद दाग का घरेलू उपचार

सफेद दाग एक तरह का चर्म रोग है। यह समस्या किसी को भी व कभी भी हो सकती है। प्रमाणित तौर पर यह कहना मुश्किल है कि सफेद दाग शरीर में क्यों होते हैं? जानकारी के आधार पर शरीर में कोई कमी होती है, जिस कारण यह समस्या उत्पन्न होती है। यह समस्या वंशानुगत भी हो सकती है लेकिन आप घबरायें नही और ना ही चिंतित हो। यह कोई लाइलाज बिमारी नही है, जिसका उपचार संभव ना हो। आयुर्वेदिक, होमियोपेथिक और एलोपेथिक के अलावा सफेद दाग का घरेलू उपचार भी है। बस ज़रूरत है थोड़े से धैर्य की, क्योकि सफेद दागों को ठीक होने में समय लगता है। उपचार में समय अधिक लगने की जानकारी के अभाव में पीड़ित व्यक्ति अपना उपचार अधूरा ही छोड़ देते हैं और लोगों के बीच उपहास का कारण बनते हैं। यह जानकारी का ही अभाव होता है कि लोग इस समस्या को कुष्ठ रोग तक का नाम दे देते हैं और ऐसे मरीजों से दूरी बना लेते हैं।

आपकी जानकारी के लिए हम यह बताना चाहते हैं कि यह कोई छुआ-छूत की बिमारी नही है जो किसी को भी छूने से फैले। यह एक तरह का चर्म रोग है जो किसी भी तरह की एलर्जी या त्वचा की समस्या से भी हो सकता है इसलिए ऐसे मरीजों का साथ दे और धैर्य के साथ उनका उपचार करवायें। आपको यह जान कर आश्चर्य होगा कि दुनिया में 2% और भारत में 3-4% लोग इस समस्या से परेशान हैं। सफेद दाग को अंग्रेजी में ल्यूकोडरमा और आयुर्वेद में धवल रोग के नाम से जाना जाता है। इस समस्या को आप किसी भी दकियानूसी धारणा से ना जोड़ें। सफेद दाग त्वचा की एक आम समस्या है कोई गंभीर बिमारी नही है। बस सही समय पर इसका इलाज शुरू हो जाये तो यह समस्या पूर्ण रूप से ठीक हो जाती है।

अगर आप सफेद दागों से निजात पाना चाहते हैं तो कुछ सफेद दाग का घरेलू उपचार के साथ-साथ कुछ आवश्यक बातों का भी ध्यान रखे। आइये पढ़े और समझे:-

1. एक चम्मच हल्दी पावडर को दो चम्मच सरसों तेल में मिलाकर पेस्ट बना लें और सफेद दाग वाली जगह पर 15 मिनट तक लगाकर रखे फिर धो ले। यह पेस्ट दिन में 3-4 बार लगायें।

2. नीम की पत्तियों के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर दिन में 3-4 बार सेवन करे। नीम के पत्तों को पीसकर उस पेस्ट को दाग वाली जगह पर लगायें।

3. दो चम्मच अखरोट के पावडर में थोड़ा सा पानी मिलाकर पेस्ट बना ले और सफेद दाग पर 20 मिनट तक लगाकर रखे। यह पेस्ट दिन में 3-4 बार लगायें। प्रतिदिन नियमित तौर पर अखरोट अवश्य खायें।

4. हरड़ को घिसकर लहसुन के रस में मिलाकर पेस्ट बना लें और दाग वाली जगह पर लगायें, इस उपाय से दाग शीघ्र ठीक होते है।

5. गर्म दूध में पीसी हल्दी मिलाकर दिन में दो बार पाँच महीने तक पीने से सफेद दाग ठीक होते है।

6. बथुआ को उबालें और उस पानी से रोजाना सफेद दाग को धोयें। दो कप कच्चे बथुआ के रस में आधा कप तिल का तेल मिलाकर गर्म करें, जब सिर्फ़ तेल रह जायें तो आँच से उतारे और ठंडा करके बोतल में भर ले। फिर इस तेल को नियमित दिन में दो बार लगायें, जल्द आराम आयेगा।

7. रोजाना खाली पेट अदरक का एक छोटा टुकड़ा चबायें और अदरक का रस पिये। अदरक के पेस्ट को दाग पर लगाने से भी दाग की समस्या दूर होती है।

8. सौ ग्राम रिजका (Alfalfa) और सौ ग्राम ककड़ी का रस मिलाकर पीने से दाग ठीक होते है।

9. उडद की दाल को पीसकर चार माह तक दाग वाली जगह पर लगाने से जल्द आराम आता है।

10. नीम की पत्ती, फूल और निंबोली को सुखाकर पीस लें और फांकी लें। सफेद दाग में नीम कारगर उपाय है।

11. एक मुट्ठी काले चने 150 मी०ली० पानी में सुबह भिगों दे, उसमे 10 ग्राम त्रिफला चूर्ण भी डाले। 24 घंटे भीगे रहने के बाद पानी निकालकर चने को खुब चबा-चबा कर खायें, दाग में जल्द आराम आयेगा।

इनसे रखे परहेज:- सफेद दाग का घरेलू उपचार के अलावा कुछ खाने की चीज़ों का भी परहेज आवश्यक है, जिससे यह समस्या बढ़े नही।

  • मिठाई, रबड़ी, दूध और दही का सेवन एक समय में ना करे।
  • दूध की बनी किसी भी चीज़ के साथ मछली ना खायें।
  • मूली और मांस के साथ दूध ना लें।
  • चिकित्सक की सलाह से ही साबुन और डिटरजेंट का सही उपयोग करे।
  • खट्टा, ज़्यादा नमक, गुड, दही, मछली और जंक फूड का अधिक सेवन ना करे।
  • गरिष्ठ भोजन ना करें जैसे कि मछली, मांस, उडद की दाल आदि।

शरीर को हमेशा अंदर और बाहर से शुद्ध रखे। मल-मूत्र को रोकने की आदत ना डालें, क्योकि यह गलत आदत बहुत सी बिमारियों के जन्म का कारण बनती है। इसलिए यह जरूरी है कि शरीर के विषैले तत्व को बाहर निकालने से ना रोके। तांबे के बर्तन का पानी सुबह पिएं। नींद पूरी ले, कम से कम आठ घंटे की नींद अवश्य ले। बेकार की चिंता व तनाव से दूर रहे। सफेद दागों को दूर करने के लिए सबसे जरूरी है अपनी जीवन शैली और खानपान की आदतों में परिवर्तन लाने की। गाजर, लौकी, दालें, बथुआ, पालक, खजूर, गाय का घी, बादाम, एलोवेरा जूस, करेला, सफेद तिल आदि के सेवन की आदत डालें। एक बात का विशेष ध्यान रखे कभी भी विपरीत भोजन ना करे, जैसे दूध के साथ मछली, नमकीन, मीठा आदि।

यह कोई छूत की बिमारी नही है जो एक दूसरे को छूने से फैल जायें और ना ही यह कोई अभिशाप है जिससे डरा जाये। सफेद दागों का इलाज पूर्ण रूप से संभव है, बस जरूरत है थोड़ी सी जानकारी और सब्र की। बल्कि हम तो यही कहेंगे इसे आप एक बिमारी की तरह नही बल्कि शरीर में कोई कमी की तरह लें। ऐसी सोच से आप अपनी इस कमी को उपचार के द्वारा जल्द दूर कर पाएँगे। चिकित्सक के अनुसार यह ना तो कुष्ठ रोग है, ना ही कोढ़ और ना ही कैंसर। सफेद दाग का घरेलू उपचार या चिकित्सक की दवा सफेद दाग के शुरुआती लक्षण में ही शुरू कर दे, जिससे यह बढ़े नही। सत् प्रतिशत इसका पूर्ण इलाज सभी पद्धति में उपलब्ध है।

हमारा उद्देश्य आपका सामान्य ज्ञान बढ़ाना है। पूर्ण रूप से आप सफेद दाग के उपायों के बारे में जान पाएं उसके लिए आप अपने चिकित्सक से सलाह ज़रूर ले। आपकी समस्या के आधार पर आपका चिकित्सक सफेद दाग का घरेलू उपचार बताएँगे।

“पसली में सूजन आने के कारण, लक्षण और उपचार”
“जानिए क्यों होती है खुजली और क्या हैं इसके उपचार”
“सिर दर्द के कारण और इसके घरेलु उपचार”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।