जानिए अन्य देशों में आतंकवादियों के साथ कैसा सलूक होता है

अभी हाल ही में भारत में 8 आतंकवादियों के साथ एनकाउंटर किया गया है जो काफी ही चर्चा का विषय है। आज हम आपको यह बताएंगे कि अन्य देशों में आतंकवादियों के साथ क्या किया जाता है और वहां पर किस प्रकार से आतंकवादियों के खिलाफ सख्त से सख्त कानून बनाए गए हैं। तो चलिए इस जानकारी को विस्तारपूर्वक जानते हैं।

चीन

यहां पर आतंकवादी होने के शक मैं ही महीनों तक इंसान को नजरबंद रखा जाता है। पुलिस 24 घंटे के अंदर उस व्यक्ति के परिवारजनों को इस बारे में जानकारी देती है। पुलिस पर किसी भी प्रकार की जवाबदेही नहीं है कि सस्पेक्ट को किस जेल में और किस स्थिति में रखा गया है।

सऊदी अरब

आतंकवादी होने के शक पर ही किसी भी इंसान को हिरासत में लिया जा सकता है। इसके अलावा उसे 120 दिन तक बिना किसी कार्यवाही के जेल में रखा जा सकता है। आतंकवादियों पर चल रहे केसों को गुप्त रुप से चलाया जाता है और आतंकवादी अपना पक्ष जज के सामने नहीं रख सकते।

रूस

यहां के कानून के अनुसार किसी भी व्यक्ति पर आतंकवादी होने का शक है तो उसे 30 दिनों तक हिरासत में रखा जा सकता है। जिसके लिए पुलिस को कोई भी कार्यवाही नहीं करनी होगी। अगर वह व्यक्ति किसी क्राइम में शामिल है तो उसकी हिरासत 20 दिन और बढ़ाई जा सकती है और इन व्यक्तियों को कोई वकील भी मुहैया नहीं कराया जाता।

इजराइल

यहां पर किसी भी व्यक्ति को आतंकवादी होने के शक में ही 14 दिन की जुडिशल कस्टडी में रखा जा सकता है और पुलिस वाले चाहे तो उसे 21 दिनों तक लॉयर मुहैया नहीं कराने दे सकते।

यूनाइटेड किंगडम

यहां पर 2006 में टेरेरिज्म एक्ट बनाया गया था जिसमें संदिग्ध को बिना किसी आरोप के 14 दिनों तक पुलिस कस्टडी में रखा जा सकता है। हालांकि इस नियम के अनुसार सस्पेक्ट को 48 घंटे के अंदर मजिस्ट्रेट के सामने पेश करना होता है।

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment