अश्लील वीडियो देखने से सिकुड़ जाता है मस्तिष्क

आजकल युवाओं में अश्लील वीडियो और फ़िल्में देखने का चलन थोड़ा बढ़ गया है लेकिन शायद आपको ये नहीं पता होगा की अश्लील फ़िल्में और वीडियो देखने से हमारे शरीर पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। दरअसल एक शोध में पाया गया है की ज्यादा अश्लील वीडियो देखने से दिमाग ग्रे मैटर कम हो जाता जिससे हमारा मष्तिष्क सिकुड़ने लगता है। हालाँकि शोध में ये साफ नहीं हो पाया है की क्या सिर्फ अश्लील वीडियो देखने से ही दिमाग सिकुड़ता है या इसके साथ कोई और भी कारण है लेकिन बर्लिन में मानवीय विकास पर काम करने वाले माक्स प्लांक इंस्टीट्यूट ने 21 से 45 साल के 64 पुरुषों पर ये शोध किया जिसमे यही परिणाम निकालकर आया की अश्लील वीडियो देखने से इनका दिमाग सिकुड़ रहा है।

जब इन पुरुषों पर शोध शुरू किया गया तब उन लोगों को नहीं बताया गया था की उनके दिमाग का कोई टेस्ट किया जायेगा। इस शोध में इन लोगों से अश्लीलता से जुड़े कुछ सवाल किये गए साथ ही एक फॉर्म भी भरवाया गया और इनके दिमाग की MRI भी कराइ गई। इसमें ये सामने निकल कर आया की इन लोगों ने एक सप्ताह में करीब चार घंटे से अधिक अश्लील वेबसाइट या वीडियो देखे।

इस शोध में जब इनके दिमाग की स्केनिंग की गई तो पाया की इनके दिमाग के स्ट्राएटम के दाहिने कैडुएट में ग्रे मैटर कम हो रहा है और साथ ही इनके दिमाग के एक हिस्से में इनको प्रेरित करने वाली प्रक्रिया भी ख़त्म हो जाती है।

लेकिन इस शोध से पूरी तरह से ये नतीजा नहीं निकल पाया है की सिर्फ कामुक कंटेंट देखने के कारण ही इनके दिमाग पर ये असर हुआ है, इस पर अभी और शोध किया जाना बाकी है जिससे सही परिणामों तक पहुंचा जा सके।

लेकिन हाँ इससे शोधकर्ता इस नतीजे पर पहुंचे की जिनके स्ट्राएटम की साइज कम होती है उन्हें आनंद का अनुभव करने के लिए बाहरी उत्तेजना की जरूरत पड़ती है और यही कारण होता है की ऐसे लोगों को कामुक कंटेंट देखना पसंद होता है।

“जानिए कैसे काम करता है हमारा मस्तिष्क”
“ये चीजें हमारा मस्तिष्क खराब कर रही हैं”
“सेहत के लिए धीमा ज़हर है तम्बाकू”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।