सफलता के सूत्र – काम के साथ खुशी का चुनाव कैसे करें?

532

सफलता के सूत्र में आज हम आपको बताएँगे की काम के साथ खुशी का चुनाव कैसे करें. किसी भी इंसान को खुशियां सौगात में नही मिलती. धन-दौलत की तरह इसे भी कमाना पड़ता है. लेकिन एक प्रश्न अपने आप से ज़रूर पूछिए कि आप दौलत और खुशी में से क्या कमाना चाहते हैं? शायद…आप खुशी का ही चुनाव करेंगे. लेकिन फिर भी हर इंसान आज दुखी क्यों है! क्योंकि दौलत कमाने की तुलना में खुशी के लिए हमारी मेहनत बहुत ही कम है.

जीवन में परेशानियां तो सबके पास होती है, लेकिन जीवन में सफल वही होता है जो सभी चुनोतियों का सामना हिम्मत से करे और जीवन में छोटी-छोटी खुशियों को ढूंढे. दिनभर की भाग-दौड़, नौकरी, परिवार और समाज की चिंता से त्रस्त इंसान अब यह मानने लगा है कि जीवन में सिर्फ़ संघर्ष और दुख ही है. ऐसा सोचना भी गलत है. जीवन में बहुत सी खुशियों के पल आते हैं, बस उन्हें पहचानने की ज़रूरत है. ईश्वर ने इंसान को सुख और दुख दोनों दिए हैं, लेकिन इंसान सुख में सुखी कम और दुख में दुखी ज़्यादा रहता है. यह सारा खेल सिर्फ़ अहसास का है. यह विषय बहुत ही बड़ा है इस पर संपूर्ण चर्चा बहुत ही मुश्किल है. इसलिए आज हम आपको बताएंगे कि वर्कप्लेस पर खुशी को कैसे चुनें.

अधिकांश व्यक्ति नौकरी में बने रहने, कॅरियर में तरक्की और पैसा कमाने के लिए काम करते हैं. वे हर कार्य खुशी पाने की मंशा से करते हैं. काम में लंबे घंटे, अच्छी सेलेरी, तरक्की के तमाम अवसर यह सब होते हुए भी लोगों को खुशी महसूस करने के लिए कड़ा संघर्ष करना पड़ रहा है. इसका एक ही उपाय है आप अपने वर्कप्लेस पर गौर करने पर पाएंगे की ऐसे कई सामान्य व्यवहार है जो आपको खुश रखने में मददगार हो सकते हैं. हम कुछ सुझाव देंगे जो आपके लिए ज़रूर मददगार होंगे.

1. समस्याओं को स्वीकारें – आज के समय में मुश्किलें सभी के पास हैं, इससे आप भाग नही सकते. गहराई से समझें तो आपको अहसास होगा कि हर समस्या के पश्चात आप अपने आपको अधिक समझदार, विनम्र, ताकतवर पाते हैं. जिससे हम आने वाली हर परेशानियों का सामना मजबूती के साथ कर सकें. इसलिए वर्कप्लेस पर आई सभी समस्याओं को स्वीकारें और सराहना करें. इस नज़रिये से आप खुद को ताकतवर पाएंगे. हमेशा पॉजिटिव रहें, खुद का आत्म परीक्षण करें, अपने जीवन से जुड़े उन सभी क्षेत्रों के बारे में सोचें जहां आप कभी भी खुशी महसूस नही कर पा रहें हैं. उन सब अहसास की एक वास्तविक लिस्ट बनाएं और समस्याओं का समाधान करें.

2. सलाह और सहयोग में संकोच नही – हमने आजतक जिन भी सुपर हीरोज के बारें में सुना या पढ़ा है वो सिर्फ़ कॉमिक्स बुक्स में ही देखने को मिलते है. वास्तविकता में कोई भी व्यक्ति कभी भी परफ़ेक्ट नही होता. असल जीवन में हर व्यक्ति एक दूसरे पर किसी ना किसी रूप में निर्भर अवश्य है. इसलिए जब भी आपको ज़रूरत हो अपने सह-कर्मियों से सलाह और सहयोग लेने में संकोच ना करें. उनसे अपने काम का फीडबैक मांगें, जिससे आपका काम और भी बेहतर हो सके. अपनी भूल को स्वीकारें और दूसरों की गलतियों को माफ करना सीखें. आपका यह बर्ताव आपको सहज बनाएँगा और झूठे अहंकार से बचा कर रखेगा.

3. अपने आपको 24 घंटे चैम्पियन समझें – हर बात के दो पहलू होते हैं, अब यह आप पर निर्भर करता है कि आप किसी बात से खुश हैं या दुखी. लेकिन, हाँ दोनों ही स्थिति में मेहनत आपकी बराबर होगी. तो क्यों ना समझदारी के साथ चुनाव किया जाये और खुशी को चुन लिया जाये. 24 घंटे अपने आपसे एक चैम्पियन की तरह बात करें और एक पल के लिए भी नेगेटिव बातों पर ना फिसलें. वर्कप्लेस पर अलग-अलग तरह के लोग और निरंतर तेज़ी से बढ़ती जटिलताओं के मध्य जीवन को सही रखने का तरीका दूसरों की खामियों पर काम करना नही, बल्कि अपने अंदर की आंतरिक शक्ति को महसूस करना है. इसलिए सबसे अच्छा यह होगा कि आप अपने काम और परिणामों पर पूरा फोकस करें. लेकिन यह कभी ना भूलें कि सभी लक्ष्यों का एक ही लक्ष्य है और वो आपकी खुशी है.

4. दोस्त बनाएं – यूँ तो वर्कप्लेस पर सभी एक दूसरें के दोस्त होते ही हैं. लेकिन कुछ व्यक्ति अपने व्यवहार की वजह से हमें अच्छे लगने लग जाते हैं. जो हमारे अच्छे दोस्तों की सूची में शामिल हो जाते हैं. अच्छे दोस्तों के बिना जीवन अधूरा है. दोस्तों के साथ ही हम अपने सुख-दुख बांट पाते हैं. दोस्त सच्चे और सकारात्मक हो. ऐसे दोस्तों के सहयोग से आप कई बार बड़ी से बड़ी मुसिबत से भी बच जाते हैं, फिर चाहे आपकी वो परेशानी आपके वर्कप्लेस की ही क्यों ना हो. अकेलेपन से अच्छा है अपनी खुशी के लिए दोस्त बनायें जायें.

5. ईमानदारी सर्वोपरि – लोभ सभी असफलताओं की जननी है. लालच व्यक्ति की मानसिक निर्णायक शक्ति को बाधित करता है. जिस कारण कई बार अच्छे-अच्छे सफल व्यक्ति भी भौतिक और क्षणिक लाभ के लिए बेईमान बन जाते हैं और जब तक अपने गलत कामों के लिए पकड़े नही जाते, तो डरते रहते हैं. जैसे ही गलती सबके सामने आती है तो पूरी जिंदगी शर्मसार होकर मुंह छुपाते हैं. आगे बढ़ना ग़लत नही, लेकिन गलत तरीके से तरक्की करना अनैतिक है. सिर्फ़ अपने वर्कप्लेस पर ही नही बल्कि जीवन में भी सफलता की और जरूर बढ़ें, लेकिन पूरी ईमानदारी के साथ. आपके वर्कप्लेस पर आपका यह गुण हो सकता है आपको अभी तरक्की की ओर ना ले जायें, लेकिन एक समय के बाद आपका यही गुण आपको सबसे आगे लेकर जायेगा. इसलिए तसल्ली रखें और ईमानदारी से कभी समझौता ना करें. खुशी महसूस कीजिए, क्योकि ईमानदार व्यक्ति को कुछ याद रखने की आवश्यकता नही पड़ती.

अपने वर्कप्लेस और जीवन के प्रति सदैव सकारात्मक रहें. सकारात्मक सोच कभी भी आपको कमजोर महसूस नही कराएगी. कुछ पल के लिए कठिनाइयाँ आती हैं और हमें बहुत कुछ सीखा के ही जाती हैं. इसलिए परेशानियों को भी एक शिक्षा के तौर पर लीजिए और जीवन में अपने अनुभव के साथ आगे बढ़े.

आशा करते हैं यह लेख आपकी ज़रूर मदद करेगा. आपको यह लेख कैसा लगा? ज़रूर बताएं. आपकी प्रतिक्रिया हमारा उत्साह बढ़ाती है, हमें और भी बेहतर होने में मदद व प्रेरणा देती है. जिससे हम और भी अच्छा लिख पाएं.

कॉमेंट्स के माध्यम से आप भी सफलता के सूत्र शेयर करें और बताएँ आप काम के साथ खुशी का चुनाव कैसे करते हैं.

“जल्दी सफलता हासिल करना चाहते हैं तो आज से ही शुरू कर दें ये 10 काम”
“बिजनेस में सफलता पाने के लिए आप में होने चाहिए ये 6 गुण”
“सफलता चाहते है तो आज ही सोने से पहले शुरू करे यह काम”

Add a comment