होली पर कहीं आप मिलावटी मावा तो नहीं इस्तेमाल कर रहे हैं ऐसे जांचे

होली आने वाली है और इस त्योहारों के मौसम में मावे की डिमांड एकदम से बढ़ जाती है जिसके कारण इसमें मिलावट आना एक आम बात है लेकिन आप यह सब मिठाई खाए बिना रह भी नहीं सकते। तो आज हम आपको मावे में मिलावट पहचानने के कुछ आसान टिप्स बताने जा रहे हैं जिनके द्वारा आप आसानी से यह बात पता लगा पाएंगे कि मावा मिलावटी है या नहीं।

मावे में थोड़ी सी चीनी डालकर गर्म कीजिए यदि वह पानी छोड़ने लगे तो इसका मतलब यह है कि मावा मिलावटी है।

नकली मावे की जांच के लिए टिंचर आयोडीन के पांच सात बूंद हैं और 5-7 दाने शक्कर को मावे के साथ गर्म करें अगर मावा नकली होगा तो रंग बदल जाएगा।

थोड़ा सा मावा लेकर अपनी हथेलियों पर उसे रगड़ें अगर मावा चिकनाई के रूप में देसी घी जैसी खुशबु छोड़ेगा तो वह असली है जबकि नकली मावा एक बदबू छोड़ता है।

थोड़ा सा मावा खा कर देखें असली मावा मुंह में चिपकता नहीं है जबकि नकली मावा मुंह में चुपकेगा ।

मावा यदि असली होगा तो उसमें कच्चे दूध जैसा स्वाद आएगा।

मिलावटी मावा पानी में डालकर फेंटा जाए तो वह टुकड़ो में बट जाएगा जबकि असली मावा पतला होकर पानी में घुल जाएगा।

थोड़ा सा मावा खा कर देखिए यदि कुछ दाने दार लगे तो इस में मिलावट हो सकती है।

तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि नकली मावा बनता कैसे है।

शकरकंद सिंघाड़े का आटा, आलू और मैदे जैसे अन्य पदार्थों का इस्तेमाल मावे में किया जाता है जिससे मावा नकली मावा बन जाता है और इसकी मात्रा भी बढ़ जाती है। दूध में यूरिया के अलावा डिटर्जेंट पाउडर और घटिया क्वालिटी के वनस्पति घी मिलाकर मवा बनाया जाता है।

हम आशा करते हैं जानकारी आपके लिए लाभदायक से दोगी और आप इसे अपने मित्रों के साथ अवश्य शेयर करेंगे।

शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment