अकेले रहते हुए भी कैसे रखें अपनी सुबह को व्यवस्थित

जनवरी 18, 2016

सुबह की शुरुआत एक मुस्कान के साथ हो तो बात ही क्या. हर सुबह आपकी हंसते-मुस्कुराते बीते तो सारा दिन ही क्या पूरा जीवन ही ख़ुशगवार बन जाता है. हर मनुष्य अपने जीवन में खुशी के लिए अथक प्रयास करता है. लेकिन अस्त-व्यस्त दिनचर्या के कारण जीवन अपनी रफ़्तार से कब चला जाता है, यह पता भी नही चलता. आज की आधुनिक शैली में पढ़ाई के लिए बच्चे तो कमाई के लिए व्यस्क और बुजुर्गों को उनके हालात जिसे देखो कोई ना कोई अपनी मजबूरी के कारण एकल जीवन जी रह रहा है, तो जाहिर सी बात है अकेले रहते हुए भी सब कुछ व्यवस्थित रखना आसान तो कतई नही होगा.

अब चाहे कारण पढ़ाई हो या नौकरी अपने घर से दूर और अकेले रहना होता तो दुखदायी है. घर पर माँ का चिल्लाकर उठाना, हाथों में चाय देना, मेज पर तैयार नाश्ता और कपड़े भी आयरन करे हुए, सब कुछ बिल्कुल व्यवस्थित मिलता है वो भी बिना मेहनत के. अब यह सारे आराम अकेले रहने वालों के लिए थोड़ा मुश्किल भरा तो अवश्य है, लेकिन नामुमकिन नही है. अकेलेपन का अहसास चाहे जितनी बार ही क्यों ना हो, लेकिन यह दुख सुबह सबसे अधिक हावी होता है. ऐसी परिस्थिति में अगर कुछ चीज़ें पहले से तैयार कर ली जायें तो आपकी सुबह ख़ुशगवार, आसान और सकारात्मक बन सकती है. तो आइये हम अपने कुछ सुझाव से और आपके प्रयास से अकेले रहते हुए भी आपकी सुबह को खुशहाल और सुंदर बनाए.

कपड़ों का चयन – सुबह अधिकांश लोगों का समय इसी उलझन में व्यर्थ होता है कि आख़िर आज पहना क्या जाये! विचित्र बात तो यह है कि यह समस्या सभी लोगों कि हर दिन है. इस समस्या को सुलझाने का एक ही उपाय है… एक रात पहले ही अपने कपड़ों का चुनाव करके रख दें, केवल कपड़े ही क्यों बल्कि इन कपड़ों के साथ पहनी जानें वाली हर एक चीज़, जैसे कि बेल्ट, टाई, मौजें, पर्स, एक्सेसरी आदि चीज़ों को भी एक रात पहले ही सुनिश्चित कर लें, तो सुबह के वक्त आपको इतना समय अधिक मिलेगा और आप निश्चिंत भी रहेगें कि आज क्या पहनना है?

जल्दी सोने कि आदत डालें – बचपन से ही माता-पिता यह नसीहत देते आये हैं, लेकिन इन सब पर ध्यान कोई नही देता. विश्वास कीजिये, अगर आप इस आदत को अपने जीवन में अमल करेंगे तो सुबह के वक्त काफ़ी खाली समय आपको नसीब होगा. सुबह अलार्म के साथ जूझने से कई गुणा बेहतर है, जल्दी सोकर पर्याप्त नींद लेना और सुबह तरोताजा होकर उठना. अपनी इस आदत के सुधार से आप अपने कार्य को भी बेस्ट समय दे पायेंगे.

नहाने में आगे रहें – अधिकांश लोग सुबह का ज़्यादातर समय चाय, कोफ़ी या अख़बार में गुजार देते हैं. फिर उठते ही इधर-उधर के कामों में समय खराब करना देरी की सबसे अहम वजह है. मान लीजिये आपको 10 बजे घर से निकलना है और आप नहाने ही 9:30 बजे जाते हैं, तो देरी तो होनी ही है. इससे तो बेहतर होगा उठते ही आप अपने ज़रूरी कार्यों के पश्चात सबसे पहले नहा लें. इससे आपकी नींद भी भाग जायेगी व आपको आलस भी नही आयेगा और बाकी के बचे कामों को भी आप समय के अनुसार फुर्ती से निपटा सकेंगे.

साप्ताहिक मेन्यू बनायें – सुबह-सुबह उठते ही roommates से बहस करना कि नाश्ता क्या बनेगा या बाई को यह समझाना कि दोपहर के खाने में क्या बनेगा! ऐसी फिज़ूल की बातों में समय व्यर्थ करने से अच्छा है आप हर रविवार को आराम से साप्ताहिक मेन्यू तैयार करें और लिखकर रख दें. इससे समय की बचत भी होगी और आपको यह भी पता होगा कि आज क्या बनेगा. फिर आपको एक दूसरे से उलझने की भी आवश्यकता नही पड़ेगी.

व्यवस्थित होना सीखें – यह आख़िरी सुझाव है लेकिन बहुत ही महत्वपूर्ण है. यह आप भी जानते हैं व्यवस्थित रहने वाले लोग, अव्यवस्थित लोगों से हर कार्य में आगे रहते हैं, क्योकि ऐसे लोग अपने समय का सही सदुपयोग करते हैं. यदि आप भी इस सुझाव को अपनातें हैं, तो आप भी समय की बचत कर पायेंगे. क्योकि जब आपके पास समय होगा तभी तो आप अपने दूसरे ज़रूरी कामों को समयानुसार कर पायेंगे और जीवन में आगे बढ़ेंगे.

अपनी हर सुबह को इन सुझावों के साथ व्यवस्थित कीजिये, फिर देखिये जीवन में हर कार्य के लिए आपके पास वक्त होगा. आपको यह लेख कैसा लगा? ज़रूर बताएं. आपकी प्रतिक्रिया हमारा उत्साह बढ़ाती है, हमें और भी बेहतर होने में मदद व प्रेरणा देती है जिससे हम और भी अच्छा लिख पाएं.

“कैसे डालें सुबह जल्दी उठने की आदत”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें