अगर आप भी बैठे बैठे पैर हिलाते हैं तो हो सकती है यह गंभीर बीमारी

कई लोगों को आपने देखा होगा कि जब भी वह बैठे होते हैं तो वह लगातार अपने पैरों को हिलाते रहते हैं और यह उनकी आदत बन जाती है। लेकिन अगर आपको भी बैठे बैठे या लेटे रहते समय भी पैर हिलाने की ऐसी आदत है तो आप सावधान हो जाइए क्योंकि यह आदत आपके लिए बहुत नुकसानदायक साबित हो सकती है। आइए जानते हैं पैर हिलाने की आदत के क्या-क्या लक्षण हो सकते हैं।

रेस्टलेस सिंड्रोम

जिन लोगों में पैर हिलाने की आदत होती है तो इसका मतलब है वो रेस्टलेस सिंड्रोम के शिकार हैं और इसकी मुख्य वजह होती है शरीर में आयरन की कमी।

35 वर्ष का इससे बड़ी उम्र के लोगों में होती है ये आदत

बैठे बैठे पैर हिलाना एक प्रकार का रोग है जिसका संबंध नर्वस सिस्टम से होता है। अक्सर यह लक्षण 35 या इससे बड़ी उम्र के लोगों में पाए जाते हैं।

क्या होता है रेस्टलेस सिंड्रोम

दरअसल पैर हिलाना भी एक लत बन जाता है और ऐसी आदत को ही रेस्टलेस सिंड्रोम कहते हैं। दरअसल पैर हिलाने पर हमारे शरीर में डोपामाइन नामक हार्मोन स्त्रावित होता है जिससे हमारे शरीर को पैर हिलाना अच्छा लगने लगता है और फिर धीरे-धीरे यह हमारी आदत बन जाती है।

इसके लिए ब्लड टेस्ट

इस तरह की बीमारी को स्लीप डिसऑर्डर भी कहा जाता है। इसमें नींद पूरी ना होने की वजह से हमारा शरीर बहुत ज्यादा थकान महसूस करने लगता है।

होने की वजह

यूँ तो साधारणतया यह बीमारी शरीर में आयरन की कमी की वजह से होती है लेकिन इसके अलावा किडनी पार्किंसस से पीड़ित मरीज और गर्भवती महिलाओं के बदलते हार्मोन के कारण भी इस रोग के होने की संभावना रहती है।

ह्रदय रोगियों के लिए खतरा

यह आदत शुगर, बीपी और ह्रदय रोगियों के लिए काफी नुकसानदायक साबित हो सकती है इसलिए पर्याप्त नींद लें और सिगरेट, शराब इत्यादि नशे त्याग दें।

क्या है इलाज

इस तरह की बीमारी से निजात पाने के लिए आप आयरन की दवाई ले सकते हैं। इसके अलावा आप पैरों में वाइब्रेटिंग पैड पहनकर रखें इससे भी इस बीमारी से निजात मिल सकती है।

जहां तक हो सके अपने आहार में आयरन युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करें जैसे पालक, सरसों का साग, चुकंदर, केला इत्यादि। हो सके तो रात में चाय या कॉफी ना ले और सुबह योग प्राणायाम करना शुरु करें।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

“काम वासना – भारत की सबसे बड़ी बीमारी”