अगर अच्छी नीन्द लेना चाहते हैँ तो करिए यह योगासन

आज मनुष्य जिस प्रकार का तनावपूर्ण जीवन जी रहा है, उसका सबसे बुरा प्रभाव मनुष्य के स्वास्थ्य व नीन्द लेने की क्षमता पर पडा है। काम के बढते बोझ ने न सिर्फ मनुष्य का दिन का चैन छीना है, बल्कि इससे लोगोँ की रातोँ की नीन्द भी कहीँ खो गई है। अगर आप भी रात भर करवटेँ बदलते रहते हैँ और फिर दिनभर थका-थका महसूस करते हैँ तो आप एक बेहतर नीन्द के लिए योगा का सहारा ले सकते हैँ। जब आप एक अच्छी नीन्द लेते हैँ तो सिर्फ आपकी सुबह ताजगी भरी होती है बल्कि आप अपने काम पर भी अच्छी तरह फोकस कर पाते हैँ। तो आईए जानते हैँ अच्छी नीन्द दिलाने मेँ मददगार कुछ योगासन के बारे मेँ-

योगनिद्रा – योगनिद्रा आपको तनावरहित करने मेँ काफी कारगर साबित होती है। जब आप टेंशनफ्री होते हैँ तो आपको नींद भी अच्छी आती है। इसे करने के लिए सबसे पहले किसी खुली जगह पर लेट जाएँ। आपके पूरा शरीर एकदम शिथिल हो और मन-मस्तिष्क से तनाव हटाकर निश्चिंतता से लेटे रहेँ। इस दौरान डीप ब्रीदिंग करेँ। अब कल्पना करेँ कि आप समुद्र के किनारे लेटकर योग निद्रा कर रहे हैँ और स्वयँ से मन ही मन कहेँ कि मैँ योग निद्रा का अभ्यास कर रहा हूँ। अब अपना ध्यान शरीर के विभिन्न अंगोँ पर ले जाते हुए उन्हेँ एक-एक करके शिथिल कर दीजिए। ऐसे आपका तन व मन एकदम शांत हो जाएगा और आप अच्छा महसूस करेंगे। अंत मेँ अपने मन को दोनोँ भौहोँ के बीच मेँ लाएँ व योगनिद्रा समाप्त करने के पहले अपने आराध्य का ध्यान करेँ। लेटे हुए बन्द आंखोँ मेँ तीन बार ओम का उच्चारण करेँ। फिर दोनोँ हथेलियोँ को गरम करके आंखोँ पर लगाएँ और पांच बार सहज सांस लीजिए। आपको अहसास होगा कि आप भीतरी रूप से भी कितने शांत हो गए हैँ। योगनिद्रा के बाद जब आप सोकर उठेंगे तो यकीनन आपकी सुबह एकदम फ्रेश व अलग होगी।

शवासन – शवासन भी योग निद्रा की भांति ही दिलो-दिमाग व शरीर को आराम पहुंचाकर उसे शांत करता है। शवासन एक ऐसी स्थिति होती है, जिसमेँ मनुष्य सोता नहीँ है परंतु देखने मेँ बिल्कुल वैसा ही प्रतीत होता है। शवासन को करने के लिए पीठ के बल लेटकर पैरोँ के पंजे बाहर और एडियाँ अन्दर की ओर रखेँ। दोनोँ हाथोँ को शरीर से लगभग छ्ह इंच की दूरी पर रखेँ। इस दौरान हाथोँ की उंगलियाँ मुडी, आंखेँ बन्द और गर्दन सीधी रहती है। अब आप अपना ध्यान अपने श्वास पर केन्द्रित करेँ और मन मेँ उल्टी गिनती करेँ। धीरे-धीरे आपका शरीर शिथिल हो जाएगा। ध्यान रहे कि आपका ध्यान सिर्फ शरीर से लगा हुआ होना चाहिए, मन मेँ चल रहे विचारोँ पर नहीँ।

बालासन – इस आसन को करने के लिए सर्वप्रथम घुटने के बल जमीन पर बैठ जाएँ। आपके शरीर का सारा भार एडियोँ पर होना चाहिए। अब गहरी सांस लेते हुए आप आगे की ओर झुकेँ। आपका सिर जमीन से, व सीना जांघोँ को छूना चाहिए। इस अवस्था मेँ आपके हाथ पीछे की ओर रहेंगे। अब कुछ क्षण इस अवस्था मेँ रहने के बाद दोबारा उसी अवस्था मेँ वापिस आ जाएँ।

हमने आपसे सिर्फ ज्ञानवर्धक जानकारी साझा की है। कोई भी प्रयोग आजमाने से पहले अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल जरूर करे। सदैव खुश रहे और स्वस्थ रहे।

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

“गर्मी होगी दूर, करेँ यह योगा”
“कमर दर्द के लिए योगा”

शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment