जानिए क्या है योग का महत्व

357

अक्सर लोगों का यह बहाना होता है कि हमें सुबह उठकर व्यायाम करने की फुर्सत नहीं है लेकिन जरूरी नहीं है कि आप अपने स्वास्थ्य के लिए व्यायाम के रूप में घंटों दें, आप प्रतिदिन सिर्फ 5 मिनट योग को देकर अपने स्वास्थ्य का ख्याल रख सकते हैं।

लेकिन व्यायाम या योग के भी कुछ नियम है व्यायाम या योग करते समय ज्यादा फुर्ती ना दिखाएं शुरआत में योग करते समय पहले आराम आराम से करें जिससे आपको कोई शारीरिक समस्या या चोट ना पहुंचे। अगर आप नियमित रूप से उसका अभ्यास करेंगे तो आपको कई स्वास्थ्य लाभ होंगे।

ज्यादातर लोगों का मानना है कि योग सिर्फ प्राणायाम ही होता है लेकिन ऐसा नहीं है इसकी कई क्रियाएं हैं जो आप सीख सकते हैं। आइए आप को योग का महत्व बताते हैं।

आइए आप को योग का महत्व बताते हैं आज योग पूरे विश्व में प्रचलित है लेकिन योग की शुरुआत भारत से ही हुई है जो पूर्व वैदिक काल से चली आ रही है। भारत के बाद बौद्ध धर्म ने इसे अपनाया और चीन, जापान, तिब्बत, दक्षिण पूर्व एशिया और श्रीलंका जैसे देशों में पहुँचाया।

योग को भारत से बाहर प्रचलित करने का श्रेय जाता है योग गुरु बीकेएस आयंगर को, इस उपलब्धता के लिए गुरु आयंगर को पद्म श्री, पद्म भूषण और पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया गया। हालाँकि अब यह योग गुरु आयंगर हमारे बीच नहीं है, साल 2014 में इनका निधन हो गया था तब यह 96 साल के थे।

अगर योग के सबसे नए बाजार की बात करें तो वह है केन्या। यहां पिछले कुछ वर्षों में कई योग स्टूडियो भी खुले हैं। मोजेज मुकुल्वे म्बाजा अफ्रीका का वो नाम है जिन्होंने अफ्रीका योग प्रोजेक्ट में सबसे पहले ट्रेनिंग ली और योग शिक्षिका के तौर पर काम करना शुरू किया।

योग के माध्यम से हम अपने ब्लड प्रेशर और तनाव जैसी समस्या को भी कम कर सकते हैं। इसी के चलते योग पूरे विश्व भर में विख्यात हुआ है।

अगर जर्मनी की बात करें तो वहां कई तरह के योग प्रचलित है जैसे कार्मिक योग ऊंचाई पर योग और इससे जुड़ी कई थेरेपी। जर्मनी की राजधानी बर्लिन में एक योग शिक्षिका जिनका नाम दास्निया है वह एक खास तरह का योग सिखाती है जिसका नाम है “शिबारी” जो जापान में 16वीं सदी से चलता आ रहा है, यह एक बंधन कला और योग का मिश्रण है।

जर्मनी में योग को काफी गंभीरता से लिया जाता है और इससे होने वाले लाभ से लोगों को अवगत कराने के लिए जर्मनी के प्रेडोएल में हर साल “पावर ऑफ लाइफ” नाम से एक उत्सव आयोजित किया जाता है जहां दूसरे कार्यक्रमों के साथ-साथ योग की महत्वता के बारे में भी बताया जाता है।

लाफ्टर योगा के बारे में तो आपने भी सुना होगा हमारे भारत में भी यह बहुत प्रचलित है। लेकिन यह है सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में प्रचलित है जो कि बेहतर स्वास्थ्य और विश्व शांति बढ़ाने का संदेश भी देता है।

अंत में हम सिर्फ यही कहना चाहेंगे कि जब पूरी दुनिया हमारे योग को अपना रही है तो हमें भी बेहतर स्वास्थ्य के लिए प्रतिदिन थोड़ा समय योग के लिए जरूर निकालना चाहिए।

Source

“जानिए योग क्या है और कैसे हुई इसकी उत्पत्ति ?”
“जानिए थायराइड क्या होता है और योग के जरिये कैसे करें इसका इलाज”
“विद्यार्थियों में योग शिक्षा का महत्व”

Add a comment