ISO और BIS सर्टिफिकेशन क्या है?

दिसम्बर 26, 2017

हम कोई भी सामान खरीदते समय उनके इंटरनेशनल स्टैण्डर्ड को चेक करते हैं और उसी के बाद वो प्रोडक्ट्स अपने घर लाते हैं। लेकिन ऐसा करने की वजह क्या है? इन सर्टिफिकेशन का क्या अर्थ है और इनसे हमें क्या फायदा होता है। आइये आज इस बारे में बात करते हैं और जानते हैं ISO और BIS सर्टिफिकेशन क्या होता है।

किसी भी प्रोडक्ट को बनाते समय सबसे ज़रूरी क्या होता है? कस्टमर्स की संतुष्टि, जो उस प्रोडक्ट की क्वालिटी और उससे जुड़ी सुविधाओं और सुरक्षा से सम्बंधित होती है। उपभोक्ताओं की इन्हीं सुविधाओं का ध्यान रखकर कंपनियां और संस्थाएं इंटरनेशनल स्टैण्डर्ड पर काम करती हैं और ये स्टैण्डर्ड उन सेवाओं और उत्पादों को इंटरनेशनल लेवल का बनाये रखता है।

आइये ISO के बारे में जानते हैं–

हो सकता है कि आप भी यही सोचते हो कि ISO सर्टिफिकेट प्रोडक्ट को दिया जाता है, जबकि ये सर्टिफिकेट उस कंपनी को दिया जाता है जो सर्विस और क्वालिटी के स्टैण्डर्ड पर खरी उतरती हैं। ISO का पूरा नाम है – इंटरनेशनल आर्गेनाइजेशन फॉर स्टैंडर्डाइजेशन ।

ISO पूरी दुनिया में इंटरनेशनल स्टैण्डर्ड का सबसे बड़ा पब्लिशर है। आपने बहुत सी चीज़ों पर ISO – 9001 लिखा देखा होगा। ये क्वालिटी मैनेजमेंट सिस्टम से सम्बंधित एक प्रचलित स्टैण्डर्ड है जिसे देखकर आप उस कंपनी या संस्था के प्रोडक्ट और सर्विस पर भरोसा कर सकते हैं क्योंकि ये सर्टिफिकेशन इस बात की पुष्टि करता है कि सम्बंधित कंपनी इंटरनेशनल स्टैण्डर्ड का पालन करती है। भारत में इसकी समय-समय पर जांच भी की जाती है जो भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा की जाती है।

ऐसा नहीं है कि एक बार ISO सर्टिफिकेशन मिल जाने के बाद कंपनी के प्रोडक्ट्स हमेशा के लिए वैलिड हो जाते हैं बल्कि ISO सर्टिफिकेशन सिर्फ 3 सालों के लिए ही मान्य होता है। ऐसे में अगर आप किसी प्रोडक्ट या सर्विस पर ISO 9001:2000 देखें तो समझ लें उसका अब कोई महत्व नहीं है। अभी ISO 9001:2015 प्रचलन में है।

आइये अब जानते हैं BIS के बारे में-

इसका पूरा नाम है- ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैण्डर्ड यानी भारत का राष्ट्रीय मानक ब्यूरो, जो भारत में राष्ट्रीय मानक निर्धारित करने वाली संस्था है। ये संस्था उपभोक्ता मामलों, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के अधीन कार्य कार्य करती है और इसका नाम पहले भारतीय मानक संस्थान (ISI) था। BSI, इंटरनेशनल आर्गेनाइजेशन फॉर स्टैण्डर्डडाइज़ेशन (ISO) में भारत का प्रतिनिधित्व करता है।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“CVV / CVC नंबर क्या होते हैं, कब पड़ती है इनकी जरुरत?”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें