आइये जानते हैं काजू के फायदे और नुकसान। सूखे मेवे यानि ड्राई फ्रूट्स हम सभी को पसंद होते है और जब बात काजू की आती है तो मन करता है कि सारे के सारे खा लिए जाये। काजू की उत्पत्ति ब्राज़ील में हुयी और भारत में इसका आगमन पुर्तगालियों के ज़रिये हुआ।

काजू का स्वाद ही है जिसकी वजह से इसे इतना ज्यादा पसंद किया जाता है कि ये ड्राई फ्रूट्स का राजा कहलाता है। काजू की कतली हो या काजू की करी या फिर काजू से बनी अनेक मिठाईयां और नमकीन, काजू से बनी हर चीज़ स्वादिष्ट भोजन पसंद करने वालों की पहली पसंद होती है।

कीमत में भले ही काजू महंगे पड़ते हो लेकिन कहा जाता है कि ढ़ेरों दवा लेने की बजाए आप काजू को अपने आहार का हिस्सा बनाएंगे तो आपकी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद रहेगा। काजू के स्वाद से तो आप परिचित है ही, तो चलिए आज आपको काजू के फायदे बताते है।

काजू के फायदे और नुकसान 1

काजू के फायदे

पोषण से भरपूर – काजू में मैग्नेशियम, कॉपर, आयरन, सेलेनियम, पोटैशियम, मैगनीज़ और ज़िंक जैसे मिनरल्स पाए जाते है जो इसको पौष्टिक बनाते है।

हड्डियाँ बनाये मजबूत – काजू में मैग्नेशियम पाया जाता है जो हड्डियों की मजबूती के लिए आवश्यक होता है।

तुरंत शक्ति दिलाये – काजू में पाया जाने वाला तेल विटामिन बी का अच्छा स्रोत होता है जो तुरंत शक्ति प्रदान करता है इसलिए काजू को तुरंत शक्तिवर्धक खाद्य पदार्थ माना जाता है।

कैंसर से बनाये दूरी – काजू में एंटी ऑक्सीडेंट्स पाए जाते है जैसे विटामिन ई और सेलेनियम जो कैंसर से बचाव करते है और इसमें ज़िंक भी पाया जाता है जो संक्रमण से बचाव करता है।

मसूड़ों को बनाये मजबूत – काजू का सेवन मसूड़ों को मजबूती प्रदान करता है और दाँतों को चमकदार बनाने में भी मदद करता है।

दिल को रखे सुरक्षित – काजू में फैट पाया जाता है ये तो आपने हमेशा सुना होगा लेकिन काजू में पाया जाने वाला फैट मोनो सैचुरेटेड फैट होता है जिसमे बिलकुल भी कोलेस्ट्रॉल नहीं पाया जाता है इसलिए काजू दिल को स्वस्थ रखने के साथ साथ दिल से जुडी बीमारियों से भी दूरी बनाये रखने में मददगार रहता है।

रक्तचाप को नियंत्रित रखे – रक्तचाप के बढ़ने और घटने से सोडियम का ख़ास सम्बन्ध होता है लेकिन काजू में सोडियम की मात्रा काफी कम और पोटैशियम की मात्रा काफी अधिक होती है जो रक्तचाप को नियंत्रित रखती है।

एनीमिया से बचाये – शरीर में खून की कमी से जुड़ा रोग है एनीमिया। काजू का सेवन करने से शरीर में कॉपर की मात्रा बढ़ती है जो शरीर में ज्यादा खून बनाने में सहायक साबित होता है।

सुंदरता को बढ़ाए – काजू को दूध में मिला कर त्वचा पर रगड़ने से त्वचा सुन्दर और मुलायम बनती है और काजू का नियमित सेवन बालों को भी झड़ने से रोकता है।

काजू का ज्यादा सेवन हो सकता है नुकसानदायक

काजू की निश्चित मात्रा तो वजन कम करने में भी सहायक होती है लेकिन अगर स्वाद के चलते इसका ज्यादा सेवन कर लिया जाए तो वज़न भी तेज़ी से ही बढ़ता है। काजू की ज्यादा मात्रा आपके शरीर को और भी कई नुकसान पंहुचा सकती है जैसे–

बढ़ सकता है सिर दर्द – काजू में एमिनो एसिड्स पाए जाते है इसलिए अगर आपको माइग्रेन या सिर दर्द की शिकायत रहती है तो इसके सेवन से बचे क्योंकि एमिनो एसिड्स आपके सिर दर्द को बढ़ा सकते है।

हो सकती है पथरी – काजू में पाए जाने वाले ओक्सलेट्स किडनी और गॉल ब्लैडर में पथरी बना सकते है। अगर आपको पहले से ही पथरी की शिकायत है तो काजू के अधिक सेवन से बचे।

मधुमेह में नुकसानदेह – काजू का ज्यादा सेवन मधुमेह रोगियों के लिए घातक साबित हो सकता है क्यूँकि इसके ज़्यादा सेवन से शरीर में रक्त शर्करा का स्तर बढ़ सकता है।

एलर्जी की समस्या – कुछ लोगों को काजू खाने से शरीर में एलर्जी होती है जो उलटी, दस्त, खुजली और चकत्तों के रूप में दिखाई देती है। अगर आपको इस तरह की एलर्जी हो तो चिकित्सक के परामर्श से ही काजू की निश्चित मात्रा का सेवन करे।

काजू के स्वाद के साथ अब आपको काजू के फायदे और काजू में छिपे सेहतमंद गुण भी नज़र आ गये है। तो बस, अगर आप काजू नहीं खाते है तो खाना शुरू कर दीजिये और अगर ज्यादा मात्रा में खाते है तो इसे नियंत्रित कर लीजिये और इस तरह अपने दैनिक आहार में सेहत और स्वाद दोनों की जुगलबंदी करके स्वस्थ रहिये।

उम्मीद है जागरूक पर काजू के फायदे और नुकसान कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

नकारात्मक सोच से छुटकारा कैसे पाएं?

जागरूक यूट्यूब चैनल