काम के दौरान ये आदतें बन सकती है आपकी तरक्की में रुकावट

आप ये तो जानते हैं कि ऑफिस में काम के दौरान क्या और कैसे किया जाना चाहिए ताकि काम बेहतर तरीके से हो सके और इसे करने में आपको आसानी भी रहे लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि काम के दौरान क्या नहीं करना चाहिए ? आपकी कौनसी आदतें और व्यवहार करने का तरीका आपके काम में मुश्किल खड़ी कर सकता है, ये जानना भी तो बेहद ज़रूरी है। तो चलिए, आज जानते हैं उन चीज़ों के बारे में, जिन्हें काम के दौरान नहीं किया जाना चाहिए –

ज़्यादा व्यक्तिगत बातें करने से बचें –


अक्सर देखा जाता है कि साथ काम करने के दौरान लोग एक दूसरे को अपने खास मित्र समझने लगते हैं और अपनी पर्सनल लाइफ से जुड़ी सारी बातें शेयर करने लगते हैं और धीरे-धीरे ऐसा करना उनकी आदत बन जाती है जिसके चलते लोग ऑफिस के माहौल को भी अनदेखा करने लगते हैं और अपनी व्यक्तिगत बातें हर किसी को बताने की उनकी ये आदत उनकी पर्सनल लाइफ में कई बार बड़ी परेशानियां भी ले आती हैं। ऐसे में ऑफिस के माहौल के अनुसार व्यवहार करना चाहिए और किसी से भी इतनी आत्मियता की अपेक्षा नहीं की जानी चाहिए।

गॉसिप की आदत ना डालें –


ऑफिस में अपने सहकर्मियों के साथ यहाँ-वहाँ बैठकर, इधर-उधर की बातें करने की आदत बहुत से लोगों को होती है और इसके चलते कई बार ऐसी अनचाही बातें भी होने लगती हैं जिनसे ऑफिस का माहौल भी ख़राब होने लगता है। इससे बचने के लिए ज़रूरी है कि ऑफिस में गरिमामय व्यवहार किया जाए और अपने सहकर्मियों और बॉस की बुराइयों में मशगूल होने की बजाए अपने काम को बेहतर ढंग से करने की कोशिश की जाये।

संयमित व्यवहार करें –


कई बार ऑफिस के कुछ सहकर्मी आपको बिलकुल पसंद नहीं आते हैं लेकिन उनके प्रति नापसंदगी जताने की बजाए संयमित व्यवहार करना ज़रूरी होता है क्योंकि ऑफिस में काम करने के व्यवहारिक नियम होते हैं जिनका पालन किया जाना चाहिए।

सहकर्मियों में खामियां निकालने से बचिए –


अक्सर अपने सहकर्मी महिला-पुरुषों के पहनावे, चाल-ढाल, बोलने के तरीके जैसे मसलों पर घंटों चर्चा की जाती है और उनमें ढेरों कमियां निकालकर टाइम पास किया जाता है लेकिन ऑफिस में काम के दौरान ऐसा व्यवहार करना आपके व्यक्तित्व को विपरीत तरीके से प्रभावित करता है और आपका ज़्यादा ध्यान काम की बजाये लोगों में खामियां निकालने में चला जाता है।

ज़्यादा भावुक होना ठीक नहीं है –


भावुक होना भी अपनेआप में एक गुण है लेकिन ऑफिस के माहौल में रहते हुए ज्यादा भावुकता का प्रदर्शन बार-बार हो तो इसे आपकी कमज़ोरी भी समझा जा सकता है और इसका विपरीत प्रभाव आपकी इमेज पर पड़ सकता है।

सिंपल लुक ज़्यादा बेहतर है –


ऑफिस के माहौल के अनुसार पहनावा रखना चाहिए जो कि सिंपल और ऑफिशियल हो। ज़्यादा मेकअप और भारी-चमकदार कपड़े ऑफिस में अच्छे नहीं लगते हैं इसलिए मेकअप भी हल्का किया जाना चाहिए और पहनावा भी ऑफिस के अनुसार सिंपल रखना ही ठीक रहता है।

ज़्यादा घुलना-मिलना ज़रूरी नहीं होता –


अक्सर देखा जाता है कि लोग ऑफिस में सबसे दोस्ती करने की कोशिश करते हैं और इसके चलते ज़्यादा फ्रेंडली होने लगते हैं जबकि ऑफिस में प्रोफेशनल की तरह बर्ताव करना ही सही रहता है क्योंकि लोग आपकी बातों और दोस्ती से आपको नहीं पहचानते हैं बल्कि आपका काम ही आपकी पहचान है इसलिए ज़्यादा घुलने-मिलने की कोशिश करने की बजाए संयमित व्यवहार करना ही ठीक है।

ऑफिस का माहौल हमारे घर के माहौल से बिलकुल अलग होता है। ऐसे में अगर घर और ऑफिस के माहौल को मिलाने की कोशिश की जाए तो माहौल का असामान्य होना स्वाभाविक ही है इसलिए ऑफिस में अपने व्यवहार को संतुलित रखिये और ऑफिस से जुड़े नियमों का पालन करिये क्योंकि ऐसा करके ही एक अच्छा कर्मचारी और सहकर्मी बना जा सकता है जिसे अपने काम में परफेक्शन पसंद हो और जिसका व्यवहार सबके साथ संतुलित हो।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

“भावनाओं को काबू करने के सरल और सटीक उपाय”