कागज़ का आविष्कार किसने, कब और कैसे किया

कागज का इस्तेमाल तो आज पूरी दुनिया में हो रहा है लेकिन क्या आपको कागज़ के इतिहास के बारे में पता है की कागज़ का आविष्कार किसने, कब और कैसे किया? भारत में कागज़ का इस्तेमाल कब से शुरू हुआ? आज हम आपको कागज़ के इतिहास की पूरी जानकारी देने जा रहे हैं। आज कागज़ के बिना हमारे सभी काम अधूरे हैं, चाहे बच्चों की पढाई हो या बैंक, व्यापार, ऑफिस आदि का काम सभी कागज़ बिना संभव नहीं हैं। कागज़ को बनाने में घास फूंस, लकड़ी, कच्चे माल, सेलुलोज-आधारित उत्पाद का इस्तेमाल होता है।

कागज का आविष्कार – कागज का आविष्कारक चीन को माना जाता है क्योंकि सबसे पहले कागज़ का इस्तेमाल चीन में ही किया गया था। कागज़ का आविष्कार करने वाले शख्स का नाम है Cai Lun जो चीन के रहने वाले थे। इन्होने 202 ई.पू. हान राजवंस के समय में कागज़ का आविष्कार किया था।

paper-invention1 कागज़ का आविष्कार किसने, कब और कैसे किया

Cai Lun द्वारा किये गए कागज़ के आविष्कार से पहले लेखन के लिए आम तौर पर बांस या रेशम के टुकड़े काम में लिए जाते थे लेकिन परेशानी ये थी की रेशम काफी महंगा था और बांस काफी भारी होता था। इसके बाद Cai Lun ने ऐसा कागज़ बनाने की सोची जो सस्ता हो और लेखन में आसान हो। उस समय Cai Lun ने भांग, शहतूत, पेड़ के छाल तथा अन्य तरह के रेशो की सहायता से कागज़ का निर्माण किया था। ये कागज़ चमकीला, मुलायम, लचीला, और चिकना होता था। इसके बाद कागज का इस्तेमाल धीरे धीरे पूरी दुनिया में होने लगा। इस उपयोगी आविष्कार के कारण ही Cai Lun को “कागज का संत” भी बोला जाता है।

भारत में कागज का खोज – ये बात तो स्पष्ट हो गई की कागज़ का आविष्कार चीन में हुआ लेकिन चीन के बाद भारत ही वो देश है जहाँ कागज़ बनाने और इस्तेमाल किये जाने के प्रमाण मिले। सिंधु सभ्यता के दौरान भारत में कागज़ के निर्माण और उपयोग के कई प्रमाण सामने आये हैं जिनसे ये साबित होता है की चीन के बाद भारत में ही सर्वप्रथम कागज़ का निर्माण और उपयोग हुआ। ऐसा माना जाता है की इस खोज के बाद से ही पूरी दुनिया में कागज़ का इस्तेमाल व्यापक रूप में होने लगा था।

paper-invention2 कागज़ का आविष्कार किसने, कब और कैसे किया

भारत मे कागज के उद्योग –

  • भारत में कागज़ बनाने की सबसे पहली मिल कश्मीर मे लगाई गई थी जिसे वहां के सुल्तान जैनुल आबिदीन ने स्थापित किया था।
  • सन 1887 मे भी कागज़ बनाने वाली मिल स्थापित की गई थी जिसका नाम था टीटा कागज मिल्स लेकिन ये मिल कागज़ बनाने में असफल रही।
  • आधुनिक कागज का उद्योग कलकत्ता मे हुगली नदी के तट पर बाली नामक स्थान पर स्थापित किया गया।

“बॉल पॉइंट पेन के आविष्कार की दिलचस्प कहानी”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।