काला मल आने के कारण

अक्टूबर 5, 2018

मल का काला रंग होना कोई सामान्य बात नहीं है। अगर मल काला हो तो ये शरीर से जुड़ी कई बीमारियों का स्पष्ट संकेत होता है। ऐसे में ये जान लेना बेहतर होगा कि काला मल आने के क्या-क्या कारण हो सकते हैं। तो चलिए, आज इसी बारे में बात करते हैं-

कैंसर – मल का काला रंग पेट के कैंसर का संकेत हो सकता है। इस कैंसर में पेट की इनर लाइनिंग में पाए जाने वाली हेल्दी सेल्स कैंसर पैदा करने वाली सेल्स में बदल जाती है जिसकी वजह से मल काले रंग का आने लगता है।

पेप्टिक अल्सर – पेट की इनर लाइनिंग और छोटी आंत में होने वाला ये अल्सर बैक्टीरिया और ज्यादा मात्रा में शराब के सेवन और धूम्रपान से होता है। मल काला होने का कारण ज्यादातर मामलों में पेप्टिक अल्सर ही होता है।

गैस्ट्राइटिस – गैस्ट्राइटिस के कारण पेट में सूजन आ जाती है और मल का रंग भी काला हो सकता है।

ट्यूमर – मल का रंग काला होने का कारण ट्यूमर भी हो सकता है जो भोजन नली और पेट में हो सकता है।

कोलाइटिस – लम्बे समय तक बड़ी आंत यानी कोलन में सूजन बनी रहे तो इसे अल्सरेटिव कोलाइटिस कहते हैं। इस बीमारी में भी काले रंग का मल आने की समस्या हो सकती है।

लीवर में रूकावट – अगर मल का रंग गहरा काला है तो हो सकता है कि लीवर में जाने वाले ब्लड फ्लो में किसी तरह की रूकावट पैदा हो गयी हो। इसके अलावा लम्बे समय तक अल्कोहल का सेवन करने से लीवर में सूजन आ जाती है जिसके कारण भी मल का रंग काला हो सकता है।

भोजननली में तकलीफ – कई बार अनहेल्दी खाने की वजह से भोजननली में इन्फेक्शन हो जाता है जिससे नसों में सूजन आ जाती है और ब्लीडिंग के साथ काले रंग का मल आने लगता है।

दोस्तों, अब आप जान चुके हैं कि मल का रंग काला होने के क्या कारण हो सकते हैं और ऐसा होना सामान्य बात नहीं है इसलिए काला मल आने पर तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें।

उम्मीद है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

“सेब का सिरका के फायदे”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें