कमजोर शरीर के कारण और लक्षण

जनवरी 24, 2018

मोटापे से बहुत से लोग परेशान रहते हैं और इसे दूर करने के लिए ढ़ेरों उपाय भी किया करते हैं लेकिन सिर्फ ज़्यादा वजन ही मुश्किल का कारण नहीं होता है बल्कि वजन का कम होना भी एक बड़ी मुश्किल होता है जिसके कारण शरीर कमजोर बना रहता है। ऐसे में ये जानना बेहतर होगा कि आख़िर कमज़ोर शरीर रहने के कारण क्या हैं ताकि इन्हें दूर करके शरीर को सुडौल और स्वस्थ बनाया जा सकता है। तो चलिए, आज आपको बताते हैं कमजोर शरीर के कारण और इसके लक्षणों के बारे में-

कुपोषण – हर बार कमजोर शरीर का कारण शरीर की बनावट से जुड़ा हो, ये ज़रूरी नहीं है। कई बार लापरवाही या जागरूकता की कमी के कारण सही पोषण नहीं मिलने के कारण भी लोग दुबलेपन का शिकार हो जाते हैं।

बीमारी हो जाना – शारीरिक रूप से कमजोर रहते हुए, अगर हैजा या पीलिया जैसी बीमारियां हो जाएँ तो वजन और भी ज़्यादा कम हो जाता है और शरीर की कमज़ोरी बढ़ जाती है।

थाइरॉइड ग्रंथि – हमारे शरीर में स्थित थाइरॉइड ग्रंथि अगर आवश्यकता से ज़्यादा थाइरॉक्सिन हार्मोन उत्पन्न करने लगे तो शरीर कमजोर होने लगता है, साथ ही इस रोग से जुड़ी कई और समस्याएं भी होने लगती हैं।

कैंसर – कई बार स्वस्थ व्यक्ति के शरीर का वजन कैंसर होने की स्थिति में भी कम होने लगता है इसलिए अगर अचानक शरीर का वजन तेज़ी से कम होता हुआ पाए तो कम्पलीट चेकअप ज़रूर कराएं।

टीबी – टीबी की बीमारी में शरीर का वजन काफी कम हो जाता है और भरपूर पोषण युक्त आहार लेने के बाद भी वजन बढ़ाने में मुश्किल होती है।

मधुमेह – मधुमेह के शुरुआती लक्षण के रूप में शरीर का वजन कम होता दिखाई देने लगता है इसलिए बिना किसी कारण शरीर का वजन घटता हुआ पाएं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

मानसिक कारण – कई बार स्वस्थ व्यक्ति इतनी तनावपूर्ण स्थितियों में रहते हैं कि उन्हें भूख बहुत कम लगने लगती है और खाया हुआ अन्न उनके शरीर को उचित पोषण नहीं दे पाता जिसके चलते धीरे-धीरे वजन कम होता जाता है और शरीर कमजोर होने लगता है।

कमजोर शरीर होने के कारणों को जानने के बाद, आइये अब आपको बताते हैं कमजोर शरीर होने यानी दुबलेपन के लक्षणों के बारे में-

दोस्तों, अब आप जान चुके हैं कि कमजोर शरीर होने के क्या कारण होते हैं और इसके लक्षण क्या होते हैं। अगर आप इस समस्या से जूझ रहे हैं तो घबराये नहीं! क्योंकि जब मोटापे को दूर करना संभव है तो कमजोर शरीर को सुडौल और स्वस्थ बनाना भी इतना मुश्किल नहीं हैं इसलिए डॉक्टर से परामर्श लें और उसके अनुसार अपनी दिनचर्या और आहार को अपनाकर कमजोर शरीर को स्वस्थ शरीर में बदल लीजिये।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“शरीर में सूजन आने के मुख्य कारण”

शेयर करें