विदेश यात्रा से पहले इन बातों का रखें ख़याल

जनवरी 14, 2016

अपने जिज्ञासु मन के कारण मनुष्यों ने अनेक विदेश यात्रा की है और आज भी यह चलन निरंतर बढ़ रहा है। अपने इसी स्वभाव के कारण मानव जाती ने अपनी यात्रा को सुगम और सहज बनाने हेतु दिनों-दिन आधुनिक आविष्कार किए है। जिससे समय की बचत के साथ वह पहले की अपेक्षा अधिक दूरी तय करने लगा। भारतीय प्राचीन ग्रंथों में भी मनुष्यों के विकाश, सुख, शांति, संतुष्टि, मनोरंजन व ज्ञान के लिए यात्रा को अति आवश्यक माना गया है।

वैसे भी आज के आधुनिक सुख-सुविधाओं के होते हुए कही भी आना-जाना बहुत ही आसान हो गया है। बात चाहे देश यात्रा की हो या विदेश यात्रा की, लोगों में घूमने का चाव दिनों-दिन बढ़ता ही जा रहा है। विदेश जाना या कुछ दिनों के लिए वहाँ स्थाई जीवन यापन करना जैसे आम सी बात हो गई है। विशेषकर विकसित और सामर्थ्य देश बहुत से लोगों को आकर्षित भी करते हैं। तमाम आकर्षण के बावजूद भी वहाँ पहुँचना और बसना दोनों ही स्थिति में लोगों को अनेक चुनौतियों का सामना करना ही पड़ता है।

लेकिन आप चिंतित ना हो हम आपको विदेश यात्रा की कुछ विशेष जानकारियां देंगे जो आपकी विदेश यात्रा को सफल बनाने में ज़रूर मददगार होगी। हम बहुत दिनों से मंथन कर रहे थे कि कुछ ऐसी प्रमुख जानकारी हिंदी में भी होनी चाहिए जो हमारे हिन्दी पाठकों के लिए महत्वपूर्ण हो। अतः पेश है एक सूची, लेकिन इसके पहले कि आप इसे पढें या उपयोग में लें, एक निवेदन है कि इस तरह की कोई भी सूची कभी भी पूरी नही हो सकती क्योकि अलग-अलग जगहों पर जाने कि तैयारी भी अलग-अलग तरह से ही होती है। सूची बनाने से पहले आप अपनी विदेश यात्रा का उद्देश्य निर्धारित अवश्य करें, क्योकि इस पर भी बहुत कुछ निर्भर करता है। हमारा उद्देश्य मात्र इतना ही है कि हम अपने अनुभव को आपके साथ सांझा करें जो कभी ना कभी आपके भी काम आयें। फिर भी अगर आपको हमारी सूची में कोई त्रुटि नज़र आये तो कॉमेंट के माध्यम से हमारी मदद ज़रूर करें।

पेश है एक ज़रूरी सूची और कुछ रोचक हिदायतें-

1. फिट है तो स्वागत है- विदेश यात्रा की तारीख़ निश्चित होते ही सबसे पहले आप अपनी फिटनेस को ज़रूर परखिये। क्योंकि यूरोपीय देशों के अलावा खाड़ी देशों में भी जब कोई प्रवासी स्थाई रूप से जीवन यापन के लिए प्रवेश करना चाहता है, तो सर्वप्रथम उसे संपूर्ण डॉक्टरी जाँच से गुज़रना पड़ता है। आमतौर पर वैसे तो इन जाचों में संक्रामक बिमारियों की ही जाँच होती है जो की बहुत ही आसान और सफल है। लेकिन फिर भी इन जाँचों से गुजरने से पहले आप अपने देश में ही अपनी फिटनेस की जाँच करा लें तो बेहतर होगा, क्योकि एक बार आप अगर अंतराष्ट्रीय चिकित्सकीय जाँच में विफल हो गये तो दुबारा आपका प्रवेश थोड़ा पेचीदा हो जायेगा। इसके अलावा आप अपनी रोजमर्रा की आवश्यक दवाइयाँ भी साथ रख लें। जैसे कि- सर्दी-जुखाम, सिरदर्द, बुखार, उल्टी आदि कि दवाइयाँ लेना ना भूलें। जानकारी अनुसार कई देशों में साधारण दवाइयाँ भी आप चिकित्सक की पर्ची के बिना नही खरीद सकते।

2. कम सामान से सफ़र आसान- किसी शायर ने क्या खूब कहा है- ”जितना कम सामान होगा सफ़र उतना ही आसान होगा” । विदेश यात्रा में यह सभी जानते हैं कि खुद के साथ लगेज कम से कम हो, क्योकि अंतराष्ट्रीय विमानों में निर्धारित भार से ज़्यादा सामान नही ले जा सकते। लगभग प्रत्येक एयरलाइन में 25 से 30 कि०लो० लगेज की ही अनुमति होती है इससे ज़्यादा लगेज होने की स्थिति में एयरलाइन यात्री से लगेज का अतिरिक्त शुल्क लेती है। पर कई बार लोग अपने देश की बहुत सी मन पसंद चीज़ों से जैसे कि 5-6 कि०लो० मिठाई या नमकीन, कई तरह के आटे और मसाले आदि से भार बढ़ा लेते हैं। यह चीज़ें आप उतनी ही लेकर जायें जितनी आप कुछ दिनों में समाप्त कर सकें। अन्यथा विदेशों में आपको ढूंढने पर भी कोई माँगने वाला नही मिलेगा। फिर इन वस्तुओं को एक समय अंतराल के बाद फेकने के अलावा कोई विकल्प नही होगा।

सामान्यतः कैरी ऑन किए जाने वाले सामान का वजन आप 8-10 कि०लो० रख सकते हैं। इसके लिये आप अपनी एयरलाइन से जानकारी लें कि कैरी ऑन सामान का अधिकतम आकार कितना हो सकता है और उसमे कितना भार ले जा सकते हैं? बस इसमें कोई धारदार वस्तु ना हो। यदि आपने अपना शेविंग किट या लाइटर इस बैग में रखा हैं तो सुरक्षा जांच के दौरान आपको यह फेंकना पड़ेगा।

3. ज़रूरी में भी क्या ज़रूरी है?- एक आवश्यक सूची बनायें। स्थाई विदेश यात्रा के दौरान भगवान की मूर्ति की जगह पोस्टर ले जायें और अपने गंतव्य पे पहुँचने के पश्चात फ्रेम करवा लें। अच्छे ब्रांड्स के कॉस्मेटिक आजकल हर जगह आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं, इसलिए इन चीज़ों से अपने लगेज का भार ना बढ़ायें। अगर आप एक महिला हैं और आपके संस्कार में बिंदी, बिछिया आदि पहनना आवश्यक है तो इन्हें अपने साथ ज़रूर रख लें, क्योकि यह चीज़े विदेशों में काफ़ी ढूँढने पे भी आसानी से नही मिलती। 2-3 जोड़ी जूते या सैंडिल ही लें जो आरामदायक हो। गंतव्य स्थल के वातावरण के अनुसार गर्म या सर्द कपड़ें याद से रखें। पासपोर्ट की 3-4 ज़ीरॉक्स करवा लें और अलग-अलग सामानों में रख दे। पासपोर्ट गुमने पर आप बडी परेशानी में पड सकते हैं इसलिए पासपोर्ट का विशेष ध्यान रखें। लेकिन ऐसा हो जाने पर अगर आपके पास उसकी कोई ज़ीरॉक्स है, तो आप अपेक्षाकृत बेहतर स्थिति में होंगे। अपने साथ गंतव्य के और जहाँ से आप हैं वहाँ के कुछ जरूरी फोन नंबर बहुत संभाल कर रख लें। साथ में एक पेन और छोटी नोट बुक भी अवश्य रखें, कही पर कुछ भी नोट करना पड़ सकता है। खाने-पीने का सारा सामान सील्ड हो, खुले होने की स्थिति में आपका सारा खाने का सामान फेंक दिया जायेगा।

4. जिंदगी वही जो चलती रहे- जिन लोगों ने विदेश यात्रा कि है, उन्हें तो अवश्य जानकारी होगी कि जीवन पैदल चलने का नाम है। लेकिन हम चाहेंगे कि हमारे नये दोस्त भी इस जानकारी से वाकिफ़ हो। आप जैसे ही परदेश की धरा पर कदम रखते हैं, तो इस सच्चाई से ज़रूर वाकिफ़ हो जाएंगे कि पैदल चलने कि आदत क्यों ज़रूरी है? न्यूयॉर्क, लंदन और दुबई जैसे शहरों की तो तासीर ही कुछ ऐसी है कि वहाँ काफी पैदल चलना पड़ता है। संभवतः कार पार्क करने के बाद आपको अपने घर, दुकान, ऑफीस या अन्य स्थानों पे जाने के लिए 15-20 मिनट तक पैदल चलना पड़ेगा। अगर आप ज़रा-ज़रा सी दूर के लिए दुपहिया वाहन या कार के आदी है, तो परदेश जाने से पहले अपनी इस आदत से छुटकारा पायें और पैदल चलने की आदत डालें, क्योकि विदेश में आपके ना चाहते हुए भी आपको पैदल चलना ही पड़ेगा। लेकिन आपकी यह आदत आपको वहाँ बहुत सुकून देगी, क्योकि वहाँ की साफ-सुथरी और व्यवस्थित सड़कों पर कुछ देर पैदल चलना आपको आनंद की अनुभूति कराएगा, जबकि यह आदत आपके स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद होगी। विदेश में जहाँ भी जायें धीरे-धीरे अपना एक ग्रूप बना ले। फिर आप वहाँ किसी एतिहासिक या पर्यटन स्थलों पर ही क्यों ना जायें, ग्रूप में चलने से आपको ज़्यादा पैदल चलने का अहसास भी नही होगा।

5. बदलाव को स्वीकार करें- अधिकतर लोग अपने साथ गेहूं, बेसन या बाजरे का आटा इत्यादि स्थानीय चीज़ो को ले जाना चाहते है, जिससे उनके देश के भोजन का स्वाद परदेश में भी बरकरार रहे। फिर यही वजन सुरक्षा जांच के दौरान कम भी करना पड़ता है जो बहुत ही दुखदाई होता है। जाहिर सी बात है, जब आप विदेश जाने का तय कर ही चुके हो तो परिवर्तन को भी स्वीकार करें। विदेशी रहन-सहन और खान-पान के लिए समय रहते खुद को तैयार कर लेना चाहिये जिससे आपको विदेश जाके रहने में सहुलियत होगी। आप चाहें कितनी भी कोशिश क्यों ना कर लें, गृहस्थी का सभी सामान अपने देश से विदेश लेकर नही जा सकते। हाँ अगर आप एक भारतीय खाने का स्वाद चाहते हैं, तो ज़्यादा भार के बजाय मेथीदाना, अमचूर, हींग, हल्दी जैसे घरेलू मसालों को प्राथमिकता दे सकते हैं। क्योकि इनकी कम मात्रा भी आपको काफी लंबे समय तक अपने देश के खाने का स्वाद और सुगंध देता रहेगा। इन मसालों की छोटी-छोटी पॅकिंग आपके बैग का वजन भी नही बढ़ाएँगी।

संभव हो तो विदेश यात्रा से पहले गंतव्य स्थल की कुछ मुद्रा खरीद कर रख लें। इसके लिये आपके पास वैध वीजा और टिकट होना अनिवार्य है। यह मुद्रा आपको विमान में कुछ खरीदने, स्नैक्स के लिये या उतरने के तुरंत बाद काम में आ सकती है क्योकि सभी विमानों में हर चीज़ फ्री नही मिलती। अपने ट्रैवेलर्स चेक आदि संभाल कर रखें, उसकी रसीद दूसरी जगह पर रखें। कागज आदि रखते या निकालते वक्त ध्यान रखें कि आप रसीद गिरा न दें। ट्रैवेलर्स चेक खो जाने की स्थिति में तुरंत ग्लोबल नंबर पर फोन कर उसे निरस्त कर दें। बच्चों के साथ होने की स्थिति में आप एयर होस्टेस से खिलौने या पुस्तकें मांग सकते हैं। कैरी ऑन बैग में थोडी सी रुई या इयर प्लग रखे, कभी-कभी उडान के दौरान दवाब पड़ने से कान में दर्द होने की संभावना हो जाने पर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

इस प्रकार की तैयारी से आप विदेश यात्रा का भरपूर लुफ्त उठा सकते हैं। तो फिर देर किस बात की? आज से ही तैयारी में जुट जाइये, अगर आप कुछ ही अंतराल के बाद विदेश यात्रा की सोच रहे हैं तो। आपकी सभी यात्रा शुभ हो, इसी कामना के साथ हम इस लेख को विराम देते हैं। हमने इस लेख के माध्यम से पूरी कोशिश की है की आपको विदेश यात्रा से पहले की सारी जानकारियां दे पायें। फिर भी कही भी जाने या तैयारी से पहले आप अपने विवेक का सहारा ज़रूर ले।

आपको यह लेख कैसा लगा? ज़रूर बताएं। आपकी प्रतिक्रिया हमारा उत्साह बढ़ाती है और हमें और भी बेहतर होने में मदद व प्रेरणा देती है जिससे हम और भी अच्छा लिख पाएं।

“यात्रा के समय का सही उपयोग कैसे करें”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें