खून में आयरन की कमी बताते हैं ये लक्षण

अक्सर महिलाओं में ज़्यादा थकान रहने के पीछे कारण होता है हीमोग्लोबिन की कमी होना और हीमोग्लोबिन 2 शब्दों से मिलकर बना है, हीम और ग्लोबिन जिसमें हीम का अर्थ होता है आयरन और ग्लोबिन होता है एक प्रकार का प्रोटीन यानि अगर खून में आयरन की कमी हो तो हीमोग्लोबिन अपना कार्य सही तरीके से नहीं कर पायेगा और उसके परिणाम के तौर पर कई लक्षण शरीर में दिखाई देंगे। हीमोग्लोबिन खून को लाल रंग प्रदान करता है और ऑक्सीजन के परिवहन का महत्वपूर्ण कार्य भी करता है। पुरुषों की बजाए महिलाओं में हीमोग्लोबिन कम होने की समस्या ज़्यादा पायी जाती है जिससे शरीर में आने वाले बदलावों और आयरन की कमी के लक्षणों के बारे में आपको भी जानना चाहिए। तो चलिए, आज जानते हैं खून में आयरन की कमी से शरीर में दिखाई देने वाले लक्षणों के बारे में-

थकान रहना – अक्सर ये मान लिया जाता है कि काम की अधिकता के कारण ही थकान हो सकती है लेकिन अगर आप थोड़ा सा काम करने के बाद भी थकान महसूस करने लगते हैं तो इसे नज़रअंदाज़ मत करिये क्योंकि ये आयरन की कमी का संकेत हो सकता है इसलिए अपने डॉक्टर से परामर्श लेकर ब्लड टेस्ट करायें।

घबराहट महसूस होना – ये तो आप जानते ही हैं कि शरीर में ऑक्सीजन का प्रवाह अगर सही तरीके से ना हो तो काफी समस्या उत्पन्न हो सकती है और ऐसा ही होता है जब आयरन की कमी होने के कारण हीमोग्लोबिन का कार्य बाधित होता है। ऐसे में घबराहट महसूस होने लगती है जिसे अनदेखा करने की बजाए डॉक्टर से सलाह लेकर आयरन की गोलियां ली जा सकती हैं।

पैरों को हिलाना – पैरों को हिलाना एक अच्छी आदत नहीं मानी जाती इसलिए ऐसा करने से अक्सर हम एक-दूसरे को रोका करते हैं लेकिन ये आदत शरीर में आयरन की कमी की ओर एक इशारा भी हो सकती है क्योंकि रिसर्च बताते हैं कि अगर खून में आयरन की कमी हो तो पैरों पर नियंत्रण नहीं रह पाता और हम अनजाने में ही पैर हिलाने लगते हैं।

सांस फूलना – रोज़मर्रा की सामान्य गतिविधियों में भी अगर आपका सांस फूलने लगे तो इसे सामान्य मत समझिये। सीढियाँ चढ़ते हुए या काम करते हुए आपकी साँसे फूलने का अर्थ है खून में आयरन की कमी होना। ऐसे में इस ओर तुरंत ध्यान दीजिये ताकि इस समस्या को दूर किया जा सके।

चेहरे पर फीकापन – डॉक्टर आँखों के नीचे का लाल हिस्सा इसलिए चेक करते हैं क्योंकि ऐसा करने से उन्हें आपके शरीर में हीमोग्लोबिन के लेवल का पता चलता है। हीमोग्लोबिन खून को लाल रंग देता है जिससे चेहरे पर भी रंगत दिखाई देती है लेकिन अगर चेहरा फीका लगने लगा है तो अपने स्किन प्रोडक्ट्स बदलने से पहले डॉक्टर से मिलिए क्योंकि हो सकता है कि खून में आयरन की कमी के कारण ऐसा हुआ हो।

पीरियड्स में ज़्यादा दर्द होना – पीरियड्स में ज़्यादा दर्द तो होगा ही, ऐसा सोचना छोड़ दीजिये क्योंकि इसका कारण आयरन की कमी भी हो सकता है। पीरियड्स के दौरान अगर रक्त स्राव ज़्यादा हो जाये तो खून में हीमोग्लोबिन की कमी हो सकती है जिसके कारण दर्द बढ़ भी सकता है। ऐसे में डॉक्टर से परामर्श लेने से ना चूके।

धड़कनों का तेज़ होना – शरीर के हर हिस्से को ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा की आवश्यकता होती है और ऑक्सीजन को हर हिस्से तक पहुंचाने का काम हीमोग्लोबिन करता है। लेकिन अगर आयरन की कमी हो जाए तो ऑक्सीजन दिल तक पर्याप्त मात्रा में नहीं पहुंच पाती जिससे साँसे फूलने के साथ धड़कनें भी तेज़ हो जाती हैं।

सिर दर्द रहना – अगर आप भी सिर दर्द का कारण सिर्फ काम की अधिकता और आराम की कमी को मानते हैं तो ये भी जानिये कि इसका कारण आयरन की कमी भी हो सकता है क्योंकि दिमाग को भी पर्याप्त ऑक्सीजन की ज़रूरत होती है, जो आयरन की कमी के चलते हीमोग्लोबिन द्वारा पहुँचायी नहीं जाती जिससे सिर दर्द की शिकायत रहने लगती है।

बाल झड़ना – बाल झड़ना सबसे सामान्य बात मानी जाती है लेकिन यही सामान्य-सी दिखने वाली बात कई समस्याओं की ओर इशारा भी करती है जिनमें से एक समस्या है आयरन की कमी। इसलिए अगर आपके बाल ज़्यादा झड़ने लगे तो आयरन की कमी के संकेत की ओर भी ध्यान दें।

प्रेग्नेंसी में अजीब चीज़ें खाने की इच्छा होना – प्रेग्नेंसी के दौरान अक्सर शरीर में आयरन की मात्रा काफी कम हो जाती है जिसके कारण महिलाओं को चॉक, मिट्टी, कागज़ और बर्फ जैसी चीज़ें खाने का मन होने लगता है।

शरीर के लिए सभी पोषक तत्वों का उचित मात्रा में होना बेहद ज़रूरी होता है और अगर किसी भी तत्व की कमी या अधिकता होने लगे तो हमारा शरीर तुरंत प्रतिक्रिया देने लगता है जिसे समय रहते समझ लिया जाए तो बड़ी मुश्किलों से बचा जा सकता है। अब आप आयरन के महत्व को जान चुके हैं और ऐसे में अपने शरीर के संकेतों की ओर ज़रूर ध्यान दें और आयरन की कमी के संकेत मिलने पर डॉक्टर से परामर्श लें और अपने आहार में आयरन युक्त खाद्य-पदार्थों को शामिल कर लें।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“पेशाब पीली आती है तो हो जाएं सावधान, ये हो सकते हैं कारण”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।