किशमिश खाने के फायदे

जुलाई 26, 2017

ड्राई फ्रूट्स खाना हम सभी को पसंद होता है लेकिन सबका ज़ायका अलग अलग होने के कारण सूखे मेवों की पसंद भी सबकी अलग होती है। इन्ही सूखे मेवों में से एक है किशमिश, जो सभी ड्राई फ्रूट्स में सबसे मीठा होता है और तुरंत एनर्जी प्रदान करता है। इसे अंगूर को सूखा कर बनाया जाता है। किशमिश कई रंगो के होते है जैसे काला, सुनहरा, सुल्ताना और करंट किशमिश। किशमिश के ये प्रकार अंगूर के रंग और उसे सुखाने की प्रक्रिया पर निर्भर करते है। किशमिश विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर होता है और खाने के ज़ायके को बढ़ाने में इसकी अच्छी खासी भूमिका होती है फिर चाहे खीर, हलवा जैसी अनेक मिठाइयाँ बनायीं जाए या फिर नमकीन व्यंजन, इसकी मिठास और स्वाद भोजन की शान बढ़ा देता है। किशमिश की मिठास के बारे में आप भले ही जानते हो, लेकिन सूखे अंगूर से बनी किशमिश आपकी सेहत को कितना लाभ पंहुचा सकती है, ये जानना अभी बाकी है। तो चलिए, आज आपको बताते है किशमिश खाने के फायदे के बारे में –

हड्डियाँ बनाये मजबूत – हड्डियों की मजबूती के लिए आवश्यक कैल्शियम की आपूर्ति किशमिश से हो जाती है और दांत और हड्डियाँ मजबूत बनते है। किशमिश में पाया जाने वाला बोरोन हड्डियों से सम्बंधित रोग ऑस्टिओपोरेसिस में राहत पहुंचाता है, साथ ही इसके सेवन से घुटनों में दर्द की समस्या भी नहीं आती है।

आँखों का रखे ख़याल – आँखों के लिए विटामिन ए, ए-बीटा कैरोटीन और ए-कैरोटीनॉइड अच्छा होता है जो किशमिश में पाया जाता है। किशमिश में एंटी ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते है जो फ्री रेडिकल्स से लड़ने में मदद करते है। उम्र बढ़ने के साथ साथ आँखों की मसल्स को क्षति पहुंचना और आँखों का कमज़ोर होना आम बात है लेकिन किशमिश का सेवन करने से आँखों को ऐसी क्षति नहीं पहुँचती है।

कोलेस्ट्रॉल से बचाये – किशमिश में घुलनशील फाइबर बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है जो शरीर में जमा होने वाले ख़राब कोलेस्ट्रॉल से लड़ता है और शरीर में कोलेस्ट्रॉल के अवशोषण को रोकता है।

स्मरण शक्ति को बढाए – बोरोन मस्तिष्क के लिए बहुत अच्छा होता है और यही बोरोन किशमिश में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो स्मरण शक्ति बढ़ाने में सहायक होता है।

एनीमिया में फायदेमंद – किशमिश में आयरन और विटामिन बी कॉम्प्लैक्स पाया जाता है और ये दोनों मिल कर एनीमिया को मिटाने के साथ साथ शरीर में नए रक्त का निर्माण भी करते है।

एसिडिटी दूर भगाए – किशमिश में पोटैशियम और मैग्नीशियम पाए जाते है जो एसिडिटी को दूर करते है। किशमिश खाने से कब्ज में भी राहत मिलती है और इसमें पाया जाने वाला फाइबर पाचन क्रिया दुरुस्त बनाये रखता है।

वजन बढ़ाने में सहायक – किशमिश की मिठास इसमें पाए जाने वाली शर्कराओं फ्रक्टोज़ और ग्लूकोस के कारण होती है और ये दोनों मिल कर शरीर को तुरंत ऊर्जा भी प्रदान करती है और वजन को बढ़ाने में भी सहायक सिद्ध होती है।

मसूड़े स्वस्थ रखे – कहते है कि मीठा खाने से दांत ख़राब हो जाते है लेकिन किशमिश की मिठास प्राकृतिक होने के कारण किसी भी टॉफी की तरह दाँतो को किसी प्रकार का नुकसान नहीं पहुँचाती है साथ ही मुँह की दुर्गन्ध से भी छुटकारा दिलाती है। इसमें पाया जाने वाला ओलीनोलिक एसिड मुंह से जुड़ी समस्याओं में काफी फायदेमंद है और यह सूजन पैदा करने वाले हानिकारक बैक्टीरिया से मसूडे की रक्षा भी करता है।

किडनी और लिवर को रखे सुरक्षित – बिना फाइबर वाले पोषण रहित भोजन के नियमित सेवन से शरीर में विषैले पदार्थ जमा होते जाते है जिनका शरीर से बाहर निकलना बेहद जरुरी होता है। किशमिश इन विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने में मदद करती है और किडनी और लिवर को भी संक्रमण से बचाती है।

किशमिश खाने का सही तरीका – किशमिश को सूखे रूप में खाने से कोई हानि तो नहीं होती लेकिन यदि आप किशमिश के ज्यादा से ज्यादा गुणों का लाभ उठाना चाहते है तो इसे रात भर भिगोने के बाद खाये। ऐसा करने से आपको पाचन सम्बन्धी परेशानियों में राहत मिलेगी साथ ही रोज़ाना भीगी हुई किशमिश खाने से आपके शरीर में खून की कमी नहीं हो पाएगी।

इसके अतिरिक्त अगर किशमिश को पानी में डालकर 20 मिनट तक उबाला जाए और पानी को रातभर रखने के बाद सुबह पिया जाए तो इसके भी कई लाभ है–

अब तो आप ये जान चुके है कि छोटी सी दिखने वाली किशमिश खाने के फायदे और इसे खाने के सही तरीके को भी आपने समझ लिया है। तो बस, अब बिना देरी किये इसे अपनी रोज़ाना की डाइट का हिस्सा बना लीजिये और आज ही से एक स्वस्थ दिनचर्या की शुरुआत कीजिये।

“काजू के अद्भुत फायदे”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें