चेक पर लिखे नम्बरों का क्या मतलब होता है?

लेन देन के लिए आपने चेक का इस्तेमाल तो कई बार किया होगा और इस पर छपे चेक नंबर, अकाउंट नंबर इत्यादि से भी आप सब वाकिफ होंगे। लेकिन अगर आपने ध्यान दिया हो तो चेक में नीचे की तरफ 23 डिजिट के नंबर लिखे होते हैं। लेकिन शायद आपको पता नही चेक पर लिखे नम्बरों का भी अपना एक अलग मतलब है।

तो आइये आपको भी अवगत कराते हैं इन 23 डिजिट वाले नंबर की हर डिजिट का क्या मतलब होता है।

इन 23 डिजिट वाले नंबर में शुरू की 6 डिजिट आपने चेक नंबर होते हैं।

चेक नंबर के आगे की 9 डिजिट Magnetic Ink Corrector Recognition(MICR) कोड नंबर कहलाते हैं, इन नंबरों का मतलब होता है ये चेक किस बैंक से जारी हुआ है, इसे चेक रीडिंग मशीन पढती है।

MICR कोड के शुरू के 3 डिजिट आपके शहर का पिन कोड बताते हैं जिससे ये पता चलता है की ये चेक किस शहर का है।

MICR कोड में पिन कोड के आगे वाले 3 डिजिट बैंक का यूनिक कोड दर्शाते हैं।

MICR कोड में पिन कोड के आगे वाले 3 डिजिट बैंक के ब्रांच कोड को दर्शाते हैं।

ब्रांच कोड के आगे वाली 6 डिजिट बैंक अकाउंट नंबर को बताते हैं।

MICR कोड में अंतिम 2 डिजिट ट्रांस्जेक्शन आईडी होती हैं जिनमे 29, 30 और 31 नंबर का मतलब होता है ये एट पार चेक है और 09, 10 और 11 का मतलब है ये लोकल चेक है।

“पैन कार्ड का असली मतलब आप नहीं जानते होंगे”
“कुछ ऐसे हिंदी शब्द जिनका मतलब आपको किसी अंग्रेजी डिक्शनरी में नहीं मिलेगा”
“क्या आपने कभी सोचा है कि iPhone में ‘i’ का मतलब क्या है ?”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।