जानिए क्योँ है उधार लेना एक बीमारी और आप इससे कैसे मुश्किल में पड़ सकते है

हमने अक्सर देखा है की कुछ लोग हमेशा उधार मांग कर ही अपना जीवन व्यतीत करना पसंद करते है। फिर चाहे वो जीवन-यापन की वस्तुएं हो या फिर कुछ और पर ये उनकी आदत में शुमार हो जाता है। तो चलिए जानते है की उधार लेना किस प्रकार एक आदत में तब्दील हो जाता है।

1. उधार लेना सही मायनो में कहा जाये तो उचित नहीं है मगर कुछ लोग इसे अपनी आदत बना लेते है। उधार मांगने वाला व्यक्ति सदा दूसरों के संसाधनों पर ही अपना जीवन व्यतीत करना चाहता है और खुद संसाधन जुटाने की कभी कोशिश ही नहीं करता है।

2. उधार का एक रूप बैंक लोन और क्रेडिट कार्ड भी है जिसमे व्यक्ति इसे अपनी कुल आय से अधिक खर्च करने की आदत को अपना लेता है और कुछ दिनों बाद खुद को बहुत बड़ी समस्या में डाल लेता है।

3. कई बार यह भी देखा गया है की बार – बार उधार मांगने पर आप अपना सम्मान भी खो देते है। जिससे आपको समाज में हीन भावना का सामना भी करना पड़ता है।

4. उधार वो व्यक्ति ही मांगते है जो अपनी जरूरतों को खुद पूरा नहीं कर सकते है। कई दिनों तक उधार मांगते रहने से उन्हें कभी खुद ही यह पता नहीं चलता की वो जो कर रहे है वो गलत है।

5. उधार मांगने वाले व्यक्ति कुछ समय बाद खुद को बहुत अकेला भी महसूस करते है। इसका मुख्य कारण है की लोग आपसे दूरी बनाए रखना ही पसंद करते है।

6. कुछ लोग उधार लेकर चुका भी देते है मगर ऐसा निरन्तर करना भी एक रूप से गलत है।

इस लेख को लिखने का उदेश्य सिर्फ इतना है की आपको समाज में फैली इस बुराई के बारे में बताया जाये जिसको बहुत से लोग बुराई समझते ही नहीं है। हम आशा करते है आपको यह लेख पसंद आया होगा। अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दें आपकी प्रतिक्रिया हमारा उत्साह बढाती है और हमें और अच्छा कार्य करने की प्रेरणा देती है।

“दुनिया के सबसे खतरनाक नशे, इनकी लत छुड़ाना है बेहद मुश्किल”
“मोबाइल की बैटरी से लगी आग, बहुत मुश्किल से बची जान”
“मुश्किल पासवर्ड कैसे बनाते और याद रखते हैं?”