कोआला जानवर सुस्त क्यों होता है?

अक्टूबर 23, 2018

कोआला एक ऐसा जीव है जिसे भालू माना जाता है जबकि इस प्यारे से दिखने वाले जानवर का भालू से कोई सम्बन्ध नहीं है। इसे बीयर कहे जाने का कारण इसका टेडी बीयर की तरह दिखाई देना है। ये जीव पूर्वी और दक्षिणी ऑस्ट्रेलिया के तटवर्ती क्षेत्रों में, पेड़ों पर रहने वाला एक मार्सुपियल प्राणी (धानीप्राणी) है जिसके पेट के आगे बनी थैली में शिशु को रखा जाता है। इस तरह ये प्राणी बीयर की बजाये कंगारू से समानता रखता है।

कोआला का वैज्ञानिक नाम – Phasclarctos Cinereus है और ये अकेला ‘फ़ैसकोलार्कटिडाए कुल’ का ऐसा सदस्य है जो अभी तक विलुप्त नहीं हुआ है। इनकी उम्र 20 साल या उससे ज्यादा होती है। ये खरगोश की तरह तेज़ भाग सकते हैं।

कोआला की शारीरिक संरचना पेड़ों पर रहने के लिए एकदम उपयुक्त होती है। ये यूकेलिप्टस के पेड़ों पर निवास करते हैं और हर दिन लगभग 1 किलोग्राम यूकेलिप्टस की पत्तियां खा जाते हैं। सिर्फ इतना ही नहीं, अपने खाने को लेकर ये इतने सजग हैं कि पेड़ से वही पत्तियां चुनकर खाते हैं जो टेस्टी और पौष्टिक होती हैं।

कोआला ऐसे प्राणी है जो बहुत कम मात्रा में पानी पीते हैं और पानी की जरुरत को यूकेलिप्टस की पत्तियों को खाकर पूरा कर लेते हैं।

यूकेलिप्टस के पेड़ पर रहने वाले और इसकी पत्तियां खाने वाले इस प्राणी की एक हैरान कर देने वाली बात ये है कि यूकेलिप्टस की पत्तियां बहुत सख्त और जहरीली होती है लेकिन कोआला के दांत बहुत नुकीले होते हैं और इनका डाइजेस्टिव सिस्टम भी मजबूत होता है जिसमें एक लम्बा डायजेस्टिव ऑर्गन सीकम होता है जो इन पत्तियों को पचाने का काम करता है।

इन पत्तियों में पौष्टिक तत्वों की कमी होती है जबकि फाइबर की मात्रा काफी ज्यादा होती है इसलिए इस डाइट को पचाने और अपनी सीमित ऊर्जा को सुरक्षित रखने के लिए कोआला एक दिन में करीब 18 घंटे तक सोते हैं और दिन के इतने लम्बे समय तक सोते रहने के कारण कोआला को एक सुस्त जानवर कहा जाता है।

“हाइब्रिड कार क्या है?”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें