कोशिका की खोज किसने की?

हम सभी का शरीर कोशिकाओं से मिलकर बना है। अमीबा हो या विशालकाय जानवर, सभी जीवों के शरीर में छोटी-छोटी कोशिकाएं पायी जाती हैं। इन कोशिकाओं के बिना शरीर की कल्पना भी नहीं की जा सकती। ऐसे में कोशिका के बारे में जानना आपके लिए भी फायदेमंद हो सकता है इसलिए आज कोशिका के बारे में ही बात करते हैं और जानते हैं कोशिका की खोज किसने की।

Visit Jagruk YouTube Channel

कोशिका (cell) सजीवों के शरीर की रचनात्मक और क्रियात्मक इकाई है जो स्वतःजनन करने में भी सक्षम होती है। छोटी-छोटी कोशिकाओं के इस समूह में वो सभी क्रियाएं होती हैं जिसे हम जीवन कहते हैं।

कुछ सजीवों में, जैसे जीवाणुओं में एक ही कोशिका पायी जाती है। ऐसे जीव एककोशिकीय कहलाते हैं जबकि मनुष्य जैसे कुछ सजीवों के शरीर अनेक कोशिकाओं से मिलकर बनते हैं। ऐसे जीव बहुकोशिकीय कहलाते हैं।

सजीवों की सभी जैविक क्रियाएं कोशिकाओं के अंदर ही होती हैं। इन्हीं में आनुवंशिक सूचनाएं भी संग्रहित रहती हैं जिनसे कोशिका के कार्य नियंत्रित होते हैं और सूचनाएं अगली पीढ़ी की कोशिकाओं में स्थानांतरित होती हैं।

कोशिका की खोज 1665 में रॉबर्ट हुक ने की। 1839 में श्लाइडेन और श्वान ने कोशिका सिद्धांत प्रस्तुत किया। कोशिका के अध्ययन को कोशिका विज्ञान (Cytology) या कोशिका जैविकी (Cell Biology) कहा जाता है।

कोशिकाएं दो प्रकार की होती हैं-

  • प्रोकैरियोटिक कोशिकाएं सामान्यतया स्वतंत्र होती हैं और इनमें कोई स्पष्ट केन्द्रक नहीं होता है ऐसी कोशिका जीवाणु और नीली हरी शैवाल में मिलती हैं।
  • यूकैरियोटिक कोशिकाओं में संगठित केन्द्रक होता है जो एक झिल्ली से ढ़का रहता है। ऐसी कोशिकाएं उच्च श्रेणी के पौधों और जंतुओं में पायी जाती हैं।

कोशिका वो सभी कार्य करने में सक्षम होती है जो सजीव कर सकते हैं। इसका आकार बहुत छोटा होता है और इसकी आकृति गोलाकार, अंडाकार, स्तंभाकार, रोमकयुक्त, कशाभिकायुक्त, बहुभुजीय आदि प्रकार की होती है। कोशिका पर कोशिका झिल्ली पायी जाती है जिसे कई बार जीवद्रव्य कला (प्लाज्मा मेम्ब्रेन) भी कहा जाता है।

अतिसूक्ष्म होते हुए भी कोशिका में ये सभी संरचनाएं पायी जाती हैं-

  • केन्द्रक और केन्द्रिका
  • जीवद्रव्य
  • गॉल्जीकाय
  • कणाभ सूत्र
  • अन्तः द्रव्यी जालिका
  • गुणसूत्र और जीन
  • राइबोसोम और सेंट्रोसोम
  • लवक

उम्मीद है कि कोशिका से जुड़ी ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

“आँख का वजन कितना होता है?”