कुत्ते के सूंघने की क्षमता अधिक क्यों होती है?

आपने फिल्मों में कुत्तों को अपने मालिक से वफादारी करते हुए जरूर देखा होगा और असल जिंदगी में भी कुत्ता पूरी वफादारी निभाता है। कई हजार साल पहले ही इंसान ने कुत्तों को पालतू जानवर की तरह रखना शुरू कर दिया था और कुत्ते ने भी कभी सेवक, कभी परिवार का सदस्य और कभी एक दोस्त की तरह अपनी जिम्मेदारी को हर बार बखूबी निभाया है। ऐसे में क्यों ना, आज इस वफादार के बारे में ही बात की जाए। तो चलिए, आज जानते हैं कुत्ते के सूंघने की क्षमता अधिक क्यों होती है और कुत्ते से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें।

कुत्ते की सूंघने की क्षमता बहुत तेज होती है। सूंघने की ये क्षमता इंसानों से लगभग 1000 गुना ज्यादा होती है। एक बार सूंघी हुयी गंध को कुत्ता बड़ी आसानी से अगली बार भी पहचान लेता है। कुत्ते की इसी क्षमता के कारण ही उन्हें नशीली और विस्फोटक पदार्थ पकड़ने के लिए साथ ले जाया जाता है।

कुत्ते के सूंघने की क्षमता ज्यादा होने का कारण उसके शरीर में मौजूद विशेष गुण होते हैं। कुत्ते की नाक के दोनों छिद्रों में एक ऐसी जगह होती है जहाँ बहुत अधिक मात्रा में गंध संवेदनशील कोशिकाएं होती हैं जिन्हें कीमोरिसेप्टर कहा जाता है। ये रिसेप्टर्स बालों जैसे दिखाई देते हैं और म्यूकस के कारण हमेशा गीले रहते हैं। ये सेल्स नाड़ियों के जरिये दिमाग से जुड़ी रहती है और दिमाग के इस स्थान को ऑलफक्ट्री बल्ब कहा जाता है। ये भाग जितना बड़ा होता है, कुत्ते में सूंघने की क्षमता उतनी ही बढ़ जाती है।

एक कुत्ते की औसत उम्र करीब 11 साल होती है और हैरानी की बात ये है कि उसका दिमाग केवल 2 साल के बच्चे जितना होता है।

इंसानों का खून केवल 4 प्रकार का होता है लेकिन कुत्तों का खून 13 प्रकार का होता है।

इंसान के दांतों की संख्या 32 होती है और एक वयस्क कुत्ते के 42 दांत होते हैं।

सिर्फ इंसान ही सपने नहीं देखा करते हैं बल्कि कुत्ते भी सपने देख सकते हैं।

कुत्ते की पूंछ भी बहुत कुछ कहती है। अगर कुत्ता अपनी पूंछ दायीं ओर हिलाये तो इसका मतलब होता है कि वो खुश है लेकिन अगर कुत्ता अपनी पूंछ बायीं ओर हिलाये तो सावधान हो जाएँ क्योंकि इसका मतलब है कि वो गुस्से में है।

दोस्तों, उम्मीद है कि अपने मालिक से प्यार करने वाले और उसकी हर बात को मानने वाले इस वफादार और दिलचस्प जानवर से जुड़ी जानकारी आपको भी पसंद आयी होगी।

“आँख का वजन कितना होता है?”