होम स्वास्थ्य

हार्ट अटैक क्यों आता है – क्या आप जानते हैं?

आजकल हार्ट अटैक से मरने वाले लोगों की संख्या हर दिन तेज़ी से बढ़ती जा रही है। हार्ट अटैक या दिल का दौरा पड़ने का कारण होता है दिल तक खून पहुंचाने वाली एक या एक से ज़्यादा धमनियों में वसा का जमा होना, जिसके कारण हृदय में ब्लड सर्कुलेशन बाधित हो जाता है और इस कारण हृदय की मांसपेशियों में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। अगर खून का प्रवाह जल्द से जल्द शुरू नहीं किया जाये तो हृदय की मांसपेशियों की गति रुक जाती है जिससे दिल का दौरा पड़ता है। हार्ट अटैक क्यों आता है आईए जानते हैं।

हार्ट अटैक के ज़्यादातर मामलों में ये पाया जाता है कि दिल का दौरा पड़ने वाले व्यक्ति को इस बारे में कोई जानकारी ही नहीं होती है कि पहले भी उसे दिल का दौरा पड़ा था और इसका कारण होता है उन लक्षणों और संकेतों से अनजान होना जो हार्ट अटैक की सम्भावना की ओर इशारा करते हैं।

हार्ट अटैक के सभी मामलों में से 25% ऐसे मामले होते हैं जिनमें साइलेंट हार्ट अटैक से व्यक्ति की जान चली जाती है। साइलेंट हार्ट अटैक सबसे ज़्यादा घातक साबित होते हैं। ऐसे में हार्ट अटैक आने पर दिखाई देने वाले लक्षणों की पहचान भी ज़रूरी है और इसके कारणों को जानना भी ज़रूरी है, ताकि इससे बचाव किया जा सके –

हार्ट अटैक आने के कारण –

हाई ब्लड प्रेशर – हाई ब्लड प्रेशर की स्थिति में दिल तक खून का प्रवाह करने वाली धमनियों में फैट, कोलेस्ट्रॉल के जमा हो जाने से ये धमनियां सिकुड़ जाती है और सख्त हो जाती हैं और इनमें खून का थक्का बन जाता है जिसके कारण दिल की मांसपेशियों तक खून का प्रवाह रुक जाता है।

डायबिटीज – डायबिटीज के मरीजों में हार्ट अटैक आने की सम्भावना भी काफी बढ़ जाती है। डायबिटीज से ग्रस्त लोगों में दिल की किसी बीमारी से ग्रस्त रहने की संभावना रहती है। खासकर टाइप 2 डायबिटीज के केस में हार्ट अटैक ज़्यादा आता है।

इन दोनों बीमारियों में जहाँ हार्ट अटैक आने की सबसे ज़्यादा सम्भावना बनी रहती है वहीँ दिल का दौरा पड़ने के पीछे कुछ और कारण भी होते हैं –

  • मोटापा
  • बढ़ती उम्र
  • धूम्रपान
  • अल्कोहल का सेवन
  • वसा की असामान्य मात्रा
  • जंकफूड का ज़्यादा सेवन
  • नमक की ज़्यादा मात्रा का सेवन
  • शारीरिक रूप से सक्रिय ना रहना
  • किडनी की किसी बीमारी का लम्बे समय तक बने रहना

हार्ट अटैक आने से पहले दिखाई देने वाले लक्षण –

  • सीने में दर्द और ऐंठन महसूस होना।
  • शरीर के ऊपरी भाग यानि कन्धों, हाथों, कमर या जबड़े में दर्द होना।
  • ठंडा पसीना आना और सांस फूलना।
  • चक्कर आना।
  • जी घबराना और उल्टी होना।

महिलाओं में दिल का दौरा पड़ने से पहले, सीने में दर्द होने की सम्भावना तुलनात्मक रूप से कम रहती है, इसकी बजाये ज़्यादा थकान और पेट सम्बन्धी शिकायतें, त्वचा पर चिपचिपाहट महसूस होना और सीने में जलन जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

अब आप जान चुके हैं कि हार्ट अटैक क्यों आता है और इनके लक्षणों को कैसे पहचाना जा सकता है। इसलिए अभी से अपनी सेहत का पूरा ध्यान रखना शुरू कर दीजिये और शरीर के संकेतों को भी समझिये ताकि इस अनचाही दुर्घटना से बचा जा सके क्योंकि जान है तो जहान है।

“लीवर खराब होने के मुख्य लक्षण और कारण”
“जानिए शरीर में विटामिन की कमी के मुख्य लक्षण”
“बेहतर स्वास्थ्य के लिए ऐसे करें अपने दिन की शुरुआत”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।