हिचकी आने की असली वजह

नवम्बर 25, 2017

आप भी यही सोचा करते होंगे ना कि किसी के याद करने पर आपको हिचकी आती है लेकिन असल में हिचकी आने के पीछे कुछ वैज्ञानिक कारण होते हैं जिनसे शायद आप अनभिज्ञ हैं। आइये आज हम आपका ये भ्रम तोड़ देते हैं की किसी के याद करने से हिचकी आती है और बताते हैं हिचकी आने के असली कारण के बारे में।

असल में हिचकी का सम्बन्ध हमारे डायफ्राम से होता है। डायफ्राम एक ऐसी मांसपेशी है जो फेफड़ों को फैलने और सिकुड़ने में मदद करती है और डायफ्राम को कण्ट्रोल करने वाली नाड़ियों में जब उत्तेजना होती है तो डायफ्राम बार-बार सिकुड़ता है और हमारे फेफड़े तेज़ी से हवा को अंदर खिंच लेते हैं जिसके कारण हिचकी आती है।

जल्दी जल्दी खाना खाने, पेट फूलने, ज़ोर ज़ोर से हंसने और तेज़ मसालेदार खाना खाने से हिचकी आने की स्थिति बन जाती है। नाड़ियों में उत्तेजना का कारण हवा होती है जो सामान्य तौर पर डकार के रूप में बाहर आ जाती है लेकिन जब कभी खाने की तहों के बीच हवा फंस जाती है तो इसे बाहर निकालने का उपाय होती है हिचकी।

हिचकी आने के कारणों के सन्दर्भ में सभी विशेषज्ञ एकमत नहीं हैं। कुछ विशेषज्ञों के अनुसार हिचकी पेट की किसी हल्की गड़बड़ी के कारण आती है तो कुछ का मानना है कि इसके पीछे मनोवैज्ञानिक कारण होते हैं।

कुछ मिनटों से लेकर कुछ घंटों और कभी-कभी कुछ दिनों तक चलने वाली इस हिचकी का सम्बन्ध हवा के अवरोध से होता है। इसलिए हिचकी को रोकने के लिए कार्बन डाइ ऑक्साइड की मात्रा को बढ़ाना ज़रूरी होता है जिसके लिए सांस रोकना और धीरे-धीरे पानी पीना कारगर साबित होता है।

आपको यह लेख कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“दांतों के खराब होने के मुख्य कारण”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

शेयर करें