होंठ फटने के क्या कारण हैं?

सर्दी का मौसम आने के साथ ही शरीर में खुश्की महसूस होनी शुरू हो जाती है और होठों का फटना भी शुरू हो जाता है। होंठ हमारे शरीर का एक नाजुक अंग है जिसे ख़ास देखभाल की ज़रूरत होती है। ऐसे में ये जानना ज़रूरी है कि होंठ फटने के कारण क्या हैं और होंठों को फटने से बचाने के लिए क्या उपाय किये जाने चाहिए। तो चलिए, आज जानते हैं होंठों की देखभाल से जुड़ी इन बातों को –

होंठ फटने के कारण –

होंठों पर जीभ फिराना – होंठों को चबाना, होठों की डेड स्किन को दांतों से हटाना और होंठों पर जीभ फिराकर उन्हें नम बनाये रखनी जैसी आदतें होंठों को काफी नुकसान पहुंचाती हैं। ऐसा करने से होंठ गुलाबी और नम नहीं रहते बल्कि ज़्यादा रूखे और बेजान हो जाते हैं और कई बार होंठों पर चोट भी लग जाती है। अगर आपको भी जाने-अनजाने में ऐसा करने की आदतें हैं तो इन्हें छोड़ना ही होठों का बचाव करने का सबसे पहला तरीका है।

सूरज की तेज़ किरणों और हवा से होंठों का बचाव नहीं करना – बाहर धूप में निकलते समय आप सनस्क्रीन लोशन लगाना तो याद रखते हैं लेकिन अगर आप होंठो पर कुछ भी लगाए बिना ही बाहर की तेज़ धूप और हवा में निकल जाते हैं तो ऐसा करने से होंठ सूखने लगते हैं।

होंठों पर सिबेसियस ग्लैंड्स नहीं होती है और हेयर फॉलिकल्स भी नहीं पाए जाते हैं जिनकी वजह से होंठों को, बाकी स्किन की तरह नमी नहीं मिल पाती है।

इसके अलावा होंठों पर मेलेनिन भी नहीं पाया जाता है जो बाकी शरीर की त्वचा की अल्ट्रा-वॉयलेट किरणों से बचाव करता है। ऐसे में होंठों का बचाव करने के लिए, बाहर जाते समय इन पर नमी बनाये रखने और पोषण देने वाले लिप बाम ज़रूर लगाएं।

पानी की कमी – अगर आपके शरीर में पानी की कमी है तो होंठ हर मौसम में सूखे ही रहेंगे क्योंकि शरीर में पानी की कमी का असर होंठों पर भी पड़ता है और हवा और धूप में निकलने पर होंठों का सूखापन और अधिक बढ़ जाता है इसलिए शरीर में पानी की कमी नहीं होने दें ताकि आपके होंठ भी ना फटे और आपका स्वास्थ्य भी बेहतर बना रहे।

मुंह से साँस लेना – जुकाम लगने पर नाक बंद होने की वजह से मुँह से सांस लेनी पड़ती है लेकिन अगर आप अक्सर मुँह से सांस लेने के आदी हैं तो ये आदत जल्द से जल्द बदलने की ज़रूरत है। ऐसा करना सेहत के लिए भी अच्छा नहीं है और लगातार साँस की हवा जब होंठों पर से गुजरती है तो होंठों की नमी खत्म हो जाती है और होंठ सूखकर फटने लग जाते हैं। ऐसा अक्सर खर्राटे लेने वाले लोग किया करते हैं।

आयरन और विटामिन बी की कमी – अगर आप होंठों के किनारे फटने से परेशान हैं तो इसके लिए आपको डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए क्योंकि हो सकता है कि आपके शरीर में आयरन की कमी हो या फिर विटामिन बी की कमी हो। इनमें से किसी की भी कमी होने का लक्षण होंठों के किनारे फटने के रूप में दिखाई देता है। इसे नज़रअंदाज़ ना करें।

एलर्जी और फंगल इन्फेक्शन – कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स के ज्यादा इस्तेमाल करने पर और थायरॉइड, सिरोसिस और डायबिटीज जैसी बीमारियां होने पर होंठ फटने, सूखने और उनमें सूजन आने की समस्या आ सकती है। होंठ पर कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स की अच्छी क्वालिटी का ही इस्तेमाल करना चाहिए और खाने की किसी चीज़ से एलर्जी हो तो उसे खाना छोड़ देना चाहिए।

अगर हमारा इम्यून सिस्टम कमज़ोर हो तो लार में मौजूद बैक्टीरिया भी होंठों को नुकसान पहुंचाने लगते हैं और कई बार फंगल इन्फेक्शन की वजह से होंठ फटने लगते हैं।

होंठ फटने पर इन घरेलू नुस्खों को अपनाएं –

  • अगर सुबह और रात को सोते समय नाभि में गुनगुना सरसों का तेल लगाया जाए तो इस आसान से उपाय से होंठों को फिर से मुलायम बनाया जा सकता है।
  • सर्दी में फटे होंठों पर दूध की मलाई में बारीक हल्दी पाउडर मिलाकर सुबह-शाम हल्के हाथ से मालिश करने से फटे होंठ सही हो जाते हैं।
  • फटे और काले होंठों को सही करने के लिए, गुलाब की ताज़ा पत्तियों को पीसकर इसमें ग्लिसरीन मिलाएं और रोज़ाना लिपस्टिक लगाने की बजाए होंठों पर इसका इस्तेमाल करें। ऐसा करने से फटे होंठ सही भी हो जायेंगे और गुलाबी हो जाने से उनकी खूबसूरती भी बढ़ेगी।
  • छाछ से निकलने वाले मक्खन में अगर केसर मिलाकर होंठो पर लगाएं तो होंठ गुलाबी और मुलायम हो जाते हैं।
  • अगर रोज़ सुबह-शाम बादाम का तेल होंठो पर लगाया जाए तो होंठों का फटना ठीक हो जाता है और होंठ नरम होने लगते हैं।
  • सरसों के तेल में हल्दी पाउडर मिलाकर, सुबह-शाम होंठों और नाभि पर लगाया जाये तो होंठ फटने बंद हो जाते हैं।
  • घी में थोड़ा सा नमक मिलाकर, होंठों और नाभि में सुबह-शाम लगाने से फटे होंठ सही हो जाते हैं।

अब आप जान चुके हैं कि होंठों के फटने और सूखने के लिए काफी हद तक हमारी वो आदतें ही ज़िम्मेदार होती हैं जिनकी वजह से होंठों की नमी ख़त्म हो जाती है इसलिए कोशिश कीजिये कि ऐसी आदतों को आप जल्द से जल्द छोड़ सकें और तब तक इन घरेलू नुस्खों को अपनाकर फटे होंठों को फिर से मुलायम कर लीजिये क्योंकि होंठ गुलाबी और मुलायम बने रहें, ये आप भी तो चाहते हैं।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“सर्दियों में ठंड से बचाव के असरकारक घरेलू नुस्खे”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।