बिजली गिरने की असली वजह क्या है और इससे बचने के तरीके

मई 17, 2017

मानसून के मौसम में जब भी आसमान में घने बादल मंडराते हैं तो आसमान से उनके गरजने की आवाज सुनाई देती है और आवाज के साथ बिजली भी चमकती हुई दिखती है जो कई बार धरती पर गिरती है जिससे कई बार जान माल का भारी नुकसान होता है। लेकिन क्या आपको पता है की आखिर आसमान में बिजली क्यों चमकती है और धरती पर क्यों गिरती है? आइये आपको बताते हैं इसकी वजह और अगर बिजली गिरने से होने वाले नुक्सान से बचने के उपायों के बारे में।

दरअसल जब आसमान में बारिश वाले बादल हवा के साथ यहाँ वहां घुमते हैं तो इनमे से विपरीत एनर्जी वाले बादल आपस में तेज गति से टकराते हैं और इनके टकराने की आवाज हमें सुनाई देती है साथ ही इनके टकराने पर जो घर्षण होता है उसी से बिजली पैदा होती है और धरती पर आ गिरती है।

बिजली के धरती पर टकराने की एक ख़ास वजह है, असल में बादलों के घर्षण से पैदा होने वाली बिजली कंडक्टर की तलाश में धरती पर आ गिरती है क्योंकि उसे आसमान में किसी प्रकार का कंडक्टर नहीं मिलता। ऐसे में धरती पर लोहे के खम्बे बिजली के लिए कंडक्टर की तरह काम करते हैं और उस समय अगर कोई व्यक्ति उसकी चपेट में आ जाये तो उसकी जान भी जा सकती है।

आसमान से गिरने वाली ये बिजली मानव शरीर पर बहुत बुरा प्रभाव डालती है इससे शरीर के टिशूज डैमेज हो जाते है। इसके अलावा शरीर के नर्वस सिस्टम पर भी इस आसमानी बिजली का बहुत बुरा प्रभाव हो सकता है और गंभीर शारीरिक अपंगता भी होने की सम्भावना होती है। इसके इस बिजली की चपेट में आने से हार्ट अटैक होने का खतरा भी होता है जिससे जान तक जा सकती है।

ऐसे बच सकते हैं आसमानी बिजली गिरने के दुष्प्रभाव से–

आपको बता दें की किसी व्यक्ति पर बिजली गिरने से सबसे ज्यादा बुरा प्रभाव उसके सिर, कंधे और गले पर पड़ता है। बिजली गिरने की सबसे ज्यादा संभावना दोपहर के समय होती है। बिजली गिरने से होने वाले दुष्प्रभावों का असर महिलाओं के मुकाबले पुरुषों पर ज्यादा होता है।

“निराशा से निकलने के चमत्कारी तरीके”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें