हाई बीपी क्यों होता है और क्या है इसका इलाज

हाई ब्लड प्रेशर / हाई बीपी को हाइपटेंशन के नाम से भी जानते है। जब धमनियों में खून का दबाव बढ़ने लगता है तो इस अवस्था को हाई ब्लड प्रेशर कहते हैं। ब्लड प्रेशर को स्फिग्मोमैनोमीटर से मापा जाता है। एक सामान्य व्यक्ति का ब्लड प्रेशर 120/80 mm/Hg होता है। जबकि ब्लड प्रेशर 140/90 mm/Hg से ज्यादा होने पर व्यक्ति को हाइपटेंशन का मरीज माना जाता है।

अमेरिका में करीब 85 मिलियन लोग हाई बीपी के मरीज हैं। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार बीस साल की उम्र के युवाओं में प्रत्येक तीन में से एक हाई बीपी का शिकार है। आजकल यह बीमारी वयस्कों में ही नहीं बल्कि युवाओं में भी तेजी से फैल रही है।

आइए जाने किन कारणों से होती है हमें हाई बीपी की समस्या –

स्मोकिंग- धूम्रपान, एल्कोहॉल, कैफीन, निकोटिन और अन्य मादक पदार्थों का ज्यादा सेवन करने से व्यक्ति में हाई ब्लड प्रेशर की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

वजन बढ़ना- तेजी से बढ़ रही मोटापे की समस्या हाई ब्लड प्रेशर का सबसे बड़ा कारण है। सामान्य वजन वाले व्यक्तियों की तुलना में मोटे लोग उच्च रक्त चाप से सबसे ज्यादा पीड़ित होते हैं।

अधिक नमक खाने से- खाने में जरूरत से ज्यादा नमक खाने से भी हाई ब्लड प्रेशर की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

जेनेटिक- हाई ब्लड प्रेशर की समस्या जेनेटिक भी होती है। अगर आपके परिवार में कोई व्यक्ति उच्च रक्त चाप से पीड़ित है तो आपको भी यह बीमारी लग सकती है। इस तरह यह बीमारी पीढ़ी दर पीढ़ी आगे बढ़ती रहती है।

फिजिकल वर्क आउट- किसी तरह का शारीरिक श्रम नहीं करने वाले व्यक्ति को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है। इसके अलावा एक्सरसाइज, खेलकूद और मेडिटेशन न करने वालों में भी इस बीमारी का खतरा ज्यादा होता है।

हाई बीपी से बचने के उपाय –

स्वस्थ भोजन करें- भोजन में कैल्शियम और मैग्नीशियम की मात्रा बढ़ाइये। संभव हो तो फाइबर युक्त भोजन लें। खाने में नमक की मात्रा कम करें। संतुलित आहार लेने से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से बचा जा सकता है।

वजन कम करें- पेट भरने के लिए कुछ भी खाने की आदत से तेजी से वजन बढ़ने लगता है। इसलिए बढ़ते वजन को नियंत्रित रखें। इसके अलावा कोलेस्ट्रॉल और डायबिटिज को चेक करवाकर इसे कंट्रोल में रखें। इससे काफी हद तक इस बीमारी का खतरा टल जाता है।

योगा करें- तनाव और डिप्रेशन को दूर करने के लिए योगा और मेडिटेशन करें। ज्यादा से ज्यादा खुश रहने की कोशिश करें। नकारात्मक विचार दिमाग में न आने दें। शारीरिक श्रम करने से दूर न भागें। इससे आप सिर्फ स्वस्थ ही नहीं रहेंगे बल्कि हाई ब्लड प्रेशर की समस्या भी पैदा नहीं होगी।

जांच कराते रहें- बढ़ती उम्र के साथ ब्लड प्रेशर का खतरा भी तेजी से बढ़ता जाता है। इसलिए समय-समय पर अपने ब्लड प्रेशर की जांच कराते रहें। अगर आपके घर में कोई व्यक्ति हाई ब्लड प्रेशर से पहले से पीड़ित है तो बीस साल की उम्र के बाद घर के बाकी सदस्यों को अपने ब्लड प्रेशर की जांच करवाते रहना चाहिए।

“गंभीर बीमारी का संकेत – लो ब्लड प्रेशर”
“ब्लड प्रेशर से जुड़ी कुछ ख़ास जानकारियां”
“जानिए कौनसे ब्लड ग्रुप वाले व्यक्ति किस किस को दे सकते है खून”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।