मृत शरीर पानी मे क्यों तैरता है?

दोस्तों जिन्दा व्यक्ति को अगर तैरना नहीं आता और वो पानी में गिर जाये तो वह पानी में डूब जाता है लेकिन मृत शरीर पानी में डूबता नहीं है बल्कि पानी के ऊपर तैरता रहता है। इस बात से तो शायद आप भी भली भाँती वाकिफ होंगे लेकिन क्या आपने कभी सोचा है की आखिर ऐसा क्यों होता है की जिन्दा शरीर पानी में डूब जाता है लेकिन मृत शरीर पानी में डूबने की बजाय पानी के ऊपर तैरता रहता है। तो चलिए आज आपको इसी बात से अवगत कराते हैं और जानते हैं इसके पीछे की असली वजह के बारे में।

Visit Jagruk YouTube Channel

दरअसल जिस किसी भी वस्तु का घनत्व पानी से ज्यादा होता है वह वस्तु पानी में आसानी से डूब जाती है और इसी कारण जिन्दा शरीर पानी में डूब जाता है क्योंकि जिन्दा शरीर का घनत्व ज्यादा होता है जिस कारण हमारी बॉडी पानी में डूब जाती है और डूबने के कारण हमारे शरीर के फेफड़ों में पानी भर जाता है जिस कारण हमारी मौत हो जाती है। शुरुआत में बॉडी पानी में डूब जाती है लेकिन जब वो मृत शरीर सड़ने लगता है तो उसमे से गैस निकलने लगती है और वो शरीर को पानी में ऊपर की तरफ ले आती है।

हमारे मरने के बाद हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली काम करना बंद कर देती है और ऐसे में बॉडी का अपघटन शुरू हो जाता है जिस कारण बैक्टीरिया हमारे शरीर की कोशिकाओ और उत्तको को तोडना शुरू कर देते हैं। मृत शरीर में मौजूद बैक्टीरिया धीरे धीरे नष्ट होने लगते हैं और शरीर से विभिन्न गैसों जैसे मीथेन, अमोनिया, कार्बन डाइऑक्साइड, हाइड्रोजन आदि को शरीर से बाहर निकालने लगते हैं। जैसे जैसे शरीर सड़ता है वैसे वैसे शरीर फूलता है लेकिन उसका वजन नहीं बढ़ता और ऐसे में जो गैस शरीर से बाहर निकलती हैं वो मृत शरीर को पानी के ऊपर की तरफ लाती हैं और वो मृत शरीर पानी में डूबने की बजाय उस पर तैरने लगता है।

निष्कर्ष के तौर पर सरल भाषा में समझें तो मृत शरीर का घनत्व ज्यादा होने के कारण पहले तो वह पानी में डूबता है लेकिन जैसे जैसे मृत शरीर सड़ता है वैसे वैसे शरीर का घनत्व कम होने लगता है और वह हल्का हो जाता है साथ ही उसमे कई तरह की गैसें बनने लगती है जिस कारण मृत शरीर पानी के ऊपर तैरने लगता है।

तो दोस्तों अब आप जान चुके हैं की आखिर क्यों मृत शरीर पानी की सतह पर तैरता रहता है जबकि जिन्दा शरीर पानी में डूब जाता है।

“भूकंप क्यों आता है और इसे कैसे मापा जाता है?”