लकड़ी पानी में क्यों नहीं डूबती?

आइये जानते हैं लकड़ी पानी में क्यों नहीं डूबती बचपन में कागज़ की नाव बनाकर बारिश के पानी में चलाना आपको भी पसंद होगा और आप भी ये जरूर सोचते होंगे कि नाव पानी पर कैसे चल पाती है?

इसी तरह बहुत सी हैरान करने वाली घटनाएं भी आप रोज़मर्रा के जीवन में देखते होंगे। उन्हीं में से एक दिलचस्प घटना होती है लकड़ी का पानी पर तैरना और लोहे की कील का पानी में डूब जाना।

ऐसे में क्यों ना, आज इसका कारण जानें कि कैसे लकड़ी पानी में डूबती नहीं है और लोहे की कील डूब जाती है। तो चलिए, आज इसी बारे में बात करते हैं।

लकड़ी पानी में क्यों नहीं डूबती? 1

लकड़ी पानी में क्यों नहीं डूबती?

आर्किमिडीज एक यूनानी गणितज्ञ, भौतिक विज्ञानी, अभियंता, आविष्कारक और खगोल विज्ञानी रहे हैं और आर्किमिडीज ने एक सिद्धांत दिया था जिसे आर्किमिडीज का सिद्धांत कहा गया। इस सिद्धांत के जरिये ही आपको इन सवालों के जवाब मिलेंगे।

आइये, इस सिद्धांत के बारे में जानते हैं- किसी तरल (द्रव या गैस) में आंशिक या पूरी तरह डूबी हुयी वस्तु पर ऊपर की ओर एक बल लगता है जिसे उत्प्लावन बल कहते हैं।

इसी उत्प्लावन बल के कारण ही कुछ वस्तुएं जैसे लकड़ी, जलयान, गुब्बारे जैसी चीज़ें पानी पर तैरती रहती है जबकि कील जैसी चीज़ें पानी में डालते ही डूब जाती हैं।

इस सिद्धांत के अनुसार, तरल में आंशिक या पूरी तरह डूबी हुयी किसी वस्तु के भार में कमी आती है। भार में आयी ये कमी, उस वस्तु द्वारा हटाए गए तरल पदार्थ के भार के बराबर होती है।

यानी जब कोई वस्तु तरल पदार्थ पर तैरती है तो उस पर ऊपर की ओर लग रहा उत्प्लावन बल, उस वस्तु द्वारा हटाए गए द्रव की मात्रा के बराबर होता है, जैसे – पानी में डाली गयी लकड़ी पर ऊपर की ओर लगने वाला बल, लकड़ी द्वारा हटाए गए द्रव की मात्रा के बराबर होगा।

लकड़ी पानी में तैरती रहेगी लेकिन जब लोहे की कील पानी में डाली जाएगी तो वो डूब जाएगी क्योंकि लोहे की कील सॉलिड होती है और इसका वॉल्यूम पानी में कम होता है जबकि डेंसिटी पानी से ज्यादा होती है इसलिए उत्प्लावन बल इस पर कार्य नहीं कर पाता है और कील पानी में डूब जाती है।

उम्मीद है जागरूक पर लकड़ी पानी में क्यों नहीं डूबती कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

दिमाग में नकारात्मक विचार क्यों आते हैं?

जागरूक यूट्यूब चैनल