लम्बे समय तक बैठे रहने की आदत हो सकती है जानलेवा

दिसम्बर 16, 2017

अगर आप अपने घर के आरामदायक सोफे पर बैठकर घंटों बिताते हैं और ऑफिस पहुंचकर पूरे समय अपनी कुर्सी पर ही बैठे रहते हैं तो ये आदत आपकी सेहत को कितना नुकसान पहुंचा सकती है, इसका आपको अंदाज़ा भी नहीं होगा। लगातार 6 घंटे से ज़्यादा बैठे रहने से शरीर पर कई खतरनाक प्रभाव पड़ते हैं जो कई बार जानलेवा भी हो सकते हैं। ऐसे में ये जान लेना बेहतर होगा कि सिर्फ बैठे रहने से क्या-क्या प्रभाव पड़ते हैं। तो चलिए, आज जानते हैं लम्बे समय तक बैठना किस प्रकार जानलेवा रूप ले सकता है–

हर दिन 6 घंटे से ज़्यादा बैठकर, 2 सप्ताह बिताने पर शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव – अब तक आप यही मानते आये हैं कि लम्बे समय तक बैठे रहने से वजन बढ़ने लगता है लेकिन इसके अलावा भी शरीर पर कई दुष्प्रभाव पड़ते हैं। हर दिन 6 घंटे से ज़्यादा कुर्सी पर बैठे रहने की आदत को यदि 2 सप्ताह तक दोहराया जाए तो मांसपेशियां फैट लेना बंद कर देती हैं और ब्लड शुगर का लेवल भी बढ़ने लग जाता है और ये खबर सेहत के लिए बिलकुल अच्छी ख़बर नहीं है।

बैठे रहने की आदत को 1 साल हो जाने पर शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव – लम्बे समय से चली आ रही बैठने की आदत को जब एक साल बीत जाता है तो इसका प्रभाव दिखाई देने लगता है। इस दौरान वजन तो बढ़ता ही है साथ ही कोलेस्ट्रॉल लेवल भी बढ़ने लग जाता है।

बैठे रहने की आदत के 1 दशक बीत जाने के बाद शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव – ऑफिस में घंटों बैठकर काम करते हुए कब सालों बीत जाते हैं, पता ही नहीं चलता। लेकिन अब आपको इस ओर ध्यान देना ज़रूरी है क्योंकि लगातार बैठे रहकर 1-2 दशक बिता देने से जीवन के बेहतरीन सात साल तक कम हो सकते हैं और ऐसा करने से हृदय रोग से मरने का ख़तरा लगभग 64% तक बढ़ जाता है और प्रोस्टेट या ब्रेस्ट कैंसर का ख़तरा भी 30% तक बढ़ जाता है।

बैठे रहने की आदत भले ही सामान्य प्रतीत होती है लेकिन इसके दुष्परिणाम जान कर आप भी हैरान हो गए होंगे। लेकिन अब बैठे रहने से शरीर पर पड़ने वाले प्रभावों के प्रति आप सजग हो गए हैं तो ये जान लेना भी बेहतर होगा कि इस आदत में सुधार करने के लिए क्या प्रयास किये जा सकते हैं।

बैठे रहने की आदत में बदलाव करने के आसान उपाय–

लिफ्ट को नज़रअंदाज़ करिये – लिफ्ट की बजाए सीढ़ियों से चढ़ना-उतरना एक बेहतर एक्सरसाइज हैं जो आपको फिटनेस की ओर ले जा सकती है इसलिए अच्छी सेहत के लिए लिफ्ट की बजाए सीढ़ियों का चुनाव करिये।

थोड़ा पैदल चलने से फायदा होगा – आपने गौर किया हो तो आजकल आप बिल्कुल पैदल नहीं चल पाते हैं। कभी गाड़ी पर, कभी घर पर और कभी ऑफिस में बैठे रहते हैं। ऐसे में थोड़ा पैदल चलने की आदत डाल लीजिये, ऐसा करने से आपकी सेहत को बहुत फायदा होगा।

ऑफिस में अपनी आदतें बदलें – ऑफिस में घंटों एक ही जगह टिककर बैठे रहने की बजाए फाइल लेने, पानी पीने और ग्रीन टी लेने के लिए सीट से उठना शुरू कीजिये, बजाए अपनी सीट पर पहले से सारा सामान लेकर बैठने के। फोन पर बात करने के दौरान भी बैठे रहने की बजाए खड़े होकर और घूमते हुए बात करें।

सीट पर बैठे रहकर भी स्ट्रेच कर सकते हैं – अगर सीट से ज़्यादा देर के लिए उठना संभव नहीं है तो सीट पर बैठकर ही स्ट्रेचिंग कर लीजिए। ऐसा करने से शरीर काफी रिलैक्स महसूस करेगा।

हमारी आदतें ही हमारे आज और कल का निर्धारण करती हैं। अच्छी आदतें आगे बढ़ाती हैं और बुरी आदतें पीछे की ओर धकेलती है और जब बात सेहत की हो तो किसी भी तरह का ख़तरा मोल लेना ठीक नहीं है।

ऐसे में सेहत से जुड़ी इस आदत को जितना जल्दी बदल लिया जाए, उतना ही बेहतर रहेगा और अब आप लगातार बैठे रहने के नुकसान और इस आदत में बदलाव लाने के तरीके भी जान चुके हैं। तो बस, देर किस बात की ! अभी से अपनी सेहत के लिए अलर्ट हो जाइये ताकि हर साल और दशक के बीतने के साथ आपके पास अच्छी सेहत की सौगात ही रहे।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“बुखार क्यों आता है हमें”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें