क्रोध पर काबू कैसे पाएं – गुस्से का इलाज

794

मनुष्य एक संवेदन शील प्राणी है, किसी भी बात या क्रिया का असर उस पर तीव्र गति से होता है. बहुत ही कम लोग ऐसे होते हैं जो अपनी संवेदना तथा प्रतिक्रियाओं पर काबू पा सके. सभी प्रतिक्रियाओं में जो सबसे ख़तरनाक तथा भयानक है वो है क्रोध. “यह एक ऐसा तेज़ाब है जो जिसपर भी डाला जाता है उससे ज़्यादा उस पात्र को नुकसान पहुँचाता है जिसमे वो रखा रहता है”. इसका असर सिर्फ़ हमारे मस्तिष्क पर ही नही बल्कि हमारे पूरे शरीर पर पड़ता है और जिससे पनपती है ह्र्द्यघात, उच्च रक्तचाप, दुर्बलता, एसिडिटी, सरदर्द आदि बहुत सी ऐसी बीमारिया और सबसे ख़तरनाक अल्सर जैसे अजगर का जन्म होता है. जानिए क्रोध पर काबू कैसे पाएं –

1. क्रोध आने पर मौन रहे – क्रोध आने पर हमें चाहिए की हम मौन रहें. क्योंकि क्रोध में आदमी क्या बोलता है क्या नही यह वो खुद नही जानता। ऐसे में आपके मुख से निकले हुए शब्द आपको वर्तमान में तो दुखी करेंगे ही आपके भविष्य को भी चौपट कर देंगे.

2. मुस्कराने की आदत डालें – अगर आप क्रोध से परेशान हैं तो हमेशा मुस्कराने की आदत अपनाए. क्रोध आ भी जाए तो पहले मुस्कुराएं; क्रोध कम आक्रमक होगा और धीरे – धीरे समाप्त हो जाएगा।

3. 10 -15 मिनिट सो जाए या आराम कर लें – अगर आपको क्रोध आ जाए तो तुरंत उस जगह से हट जाइए और 10 – 15 मिनिट शांति से सो जाएं या आराम कर लिया जाए, क्योंकि क्रोध मे किया गया कोई भी कार्य या लिया गया कोई भी निर्णय नुक़सानदायक हो सकता है.

4. दो ग्लास ठंडा पानी पियें – क्रोध आने पर तत्काल दो ग्लास ठंडा पानी पी लीजिए. इससे आपका गुस्सा काफ़ी हद तक शांत हो जाएगा.

5. अपना चेहरा आईने मे देखें – जिस समय आपको क्रोध आए उस समय अपना चेहरा आईने मे देखें, आपको अपने आप से नफ़रत हो जाएगी और आपका गुस्सा छू मंतर हो जाएगा. क्योंकि इससे आपको पता चल जाएगा की आप गुस्से में कितने बुरे लगते हो.

6. मेडिटेशन करें – अगर आपको ज़्यादा गुस्सा आता है तो यह एक अच्छा विकल्प है गुस्सा शांत करने का. मेडिटेशन और ध्यान से काफ़ी हद तक हम अपने मस्तिष्क पर संतुलन या क्रोध पर काबू पा सकते हैं. नियमित रूप से मेडिटेशन करने से मस्तिष्क को शांति मिलती है तथा धीरे- धीरे गुस्सा ख़त्म हो जाता है.

7. बड़प्पन रखिए – अगर आप घर में सबसे बड़े हो तो बड़प्पन रखिए. सब पर अपनी धाक जमाकर चीखने – चिल्लाने की बजाए सबसे प्यार और शांति के साथ अपना तर्क रखिए, जिससे घर का वातावरण कलुषित ना हो. ” क्रोध को अपने अमूल्य जीवन का हिस्सा मत बनाइए ये एक ऐसी आग है जो आपको अंदर से खोखला ओर चिड़चिड़ा बना देगी.

8. रोज संकल्प कीजिए – हमे रोज सुबह यह संकल्प लेना चाहिए की आज के दिन जहाँ तक हो सके गुस्सा नही करना है. आप देखिए इससे आपके दिल को कितनी शांति और सुकून मिलता है.

गौतम बुध ने क्रोध के बारे में ठीक ही कहा है “क्रोधित रहना किसी और पर फेकने के इरादे से एक गरम कोयला अपने हाथ में रखने की तरह है जो तुम ही को जलाता है”.

अत: क्रोध पर काबू पाना है और अपने जीवन मे सफलता हासिल करनी है तो अपने दिमाग़ को ठंडा रखो, खून गर्म और ज़ुबान नरम रखो, फिर देखो सब आपसे कितना प्यार करेंगे और आपको अपने जीवन का लक्ष्य सरलता से मिल जाएगा.

“सफलता चाहते है तो आज ही सोने से पहले शुरू करे यह काम”
“सफलता पाने के लिए जरूर पढ़ें ये 15 प्रेरणात्मक विचार”
“क्या आप असफलता के कारणों को जानते है?”

Add a comment