पैन कार्ड का असली मतलब आप नहीं जानते होंगे

8025

हम सभी लोगों के पास पैन कार्ड तो होगा ही यह भारतीय होने की पहचान के साथ साथ आप से जुड़ी बहुत सारी गुप्त जानकारी भी अपने साथ रखता है। अक्सर बैंक से लेकर अन्य किसी भी प्रशासनिक कार्य में आपसे पेनकार्ड नंबर मांगा जाता है। क्या आप जानते हैं कि ऐसा क्यों होता है?? तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि आपका पैन कार्ड आपके बारे में क्या-क्या बता सकता है।

पैन कार्ड के अक्षरों में छुपा होता है आपका सरनेम।

आपको बता दें कि पैन कार्ड के अक्षरों में आपका सरनेम छुपा होता है। पैन कार्ड नंबर की हर पांचवे डिजिट में आपका सरनेम आता है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट इस सरनेम के आधार पर ही आपका डेटा दर्ज करता है। इसीलिए अकाउंट नंबर में आपका सरनेम सम्मिलित होता है।

अकाउंट से लेकर क्रेडिट कार्ड तक होती है निगरानी।

आपको बता दें कि पैन कार्ड 10 अंकों का एक खास नंबर होता है। जिसे लिमिटेड कार्ड के रुप में सामने दर्शाया जाता है। यह नंबर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट जारी करता है इस पैन कार्ड को जारी करने के बाद व्यक्ति के सारे फाइनैंशल ट्रांजेक्शन इस पैन कार्ड नंबर से लिंक हो जाते हैं और उसके बाद की गई सारी फाइनेंशल ट्रांजेक्शन इनकम टेक्स डिपार्टमेंट की निगरानी में रहती है।

चौथा अक्षर होता है खास।

वैसे तो पेनकार्ड का चौथा अक्षर अंग्रेजी का होता है लेकिन यह अपने आप में बहुत खास है। चौथे अक्षर से ही पता चलता है कि यह किस व्यक्ति का है। पांचवें डिजिट के बाद छठी डिजिट से लेकर नौ डिजिट तक अंक अंकतालिका के 0001 से 9999 तक कुछ भी हो सकता है एज आयकर विभाग लिस्ट के अनुसार ही मिलता है।

“जानिए चेक पर लिखे नम्बरों का क्या मतलब होता है”
“कुछ ऐसे हिंदी शब्द जिनका मतलब आपको किसी अंग्रेजी डिक्शनरी में नहीं मिलेगा”
“क्या आपने कभी सोचा है कि iPhone में ‘i’ का मतलब क्या है ?”

Add a comment