लाइफ इंश्योरेंस लेने से पहले जरुरी है इन बातों को जान लेना

आजकल मार्केट में लाइफ इंश्योरेंस से जुड़ी बहुत सी कंपनियां मौजूद हैं। ऐसे में ये समझ पाना इतना आसान नहीं होता कि आपकी ज़रूरत के अनुसार कौनसी पॉलिसी लेना सही रहेगा। इसके लिए सबसे सही तरीका तो यही है कि आप कंपनियों के छलावे में आने की बजाए अपनी ज़रूरत के अनुसार ही पॉलिसी का चुनाव करें और ये भी जान लें कि एक सामान्य व्यक्ति के पास अपनी सालाना कमाई का 10-12 गुना जीवन बीमा होना ही चाहिए। ऐसे में अगर लाइफ इंश्योरेंस लेने से पहले कुछ ज़रूरी बातों को समझ लिया जाए तो ये तय करना बहुत आसान हो जाएगा कि कौन सी पॉलिसी कब लेनी चाहिए। तो चलिए,आज आपको बताते हैं लाइफ इंश्योरेंस से जुड़ी ये ज़रूरी बातें –

कम उम्र में लें जीवन बीमा – अक्सर बीमा करवाने का ख्याल उम्र बढ़ जाने के बाद आता है लेकिन अगर आप एक सही निर्णय लेना चाहते हैं तो कम उम्र और कम सैलरी के दौर में ही जीवन बीमा ले लीजिये क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ साथ उसी बीमा राशि के लिए लाइफ इंश्योरेंस कम्पनियाँ ज़्यादा प्रीमियम चार्ज करने लगती है।

शुरुआत में कम सैलेरी के कारण हम लाइफ इंश्योरेंस जैसे विकल्पों के बारे में सोचते भी नहीं हैं लेकिन अगर अपने बजट के अनुसार पॉलिसी ले ली जाए तो इनकम बढ़ने के साथ साथ नयी पॉलिसी लेकर लाइफ इंश्योरेंस कवर बढ़ाया जा सकता है।

लाइफ इंश्योरेंस के महत्व को समझना ज़रूरी है – लाइफ इंश्योरेंस को लगातार चलाते रहने के लिए आपके पास कोई ठोस वजह होनी चाहिए तभी आप उसके महत्व को समझ सकेंगे इसलिए अपने जीवन बीमा को अपने जीवन के किसी उद्देश्य से जोड़कर रखिये, जैसे आपके रिटायरमेंट के लिए, बच्चों की हायर एजुकेशन के लिए।

यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान्स आपके लिए बेहतरीन विकल्प हो सकते हैं – अगर आप अपने पैसों को ज़्यादा समय के लिए इन्वेस्ट करना चाहते हैं और उन पर टैक्स बेनिफिट, लाइफ इंश्योरेंस कवर और अच्छा रिटर्न भी चाहते हैं तो यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान्स आपके लिए अच्छे विकल्प हो सकते हैं।

इन पॉलिसी को लेना काफी फायदेमंद है लेकिन इसके साथ एक बात का ध्यान ज़रूर रखें कि इन्हें मंथली मोड में ही खरीदिये क्योंकि ये पॉलिसियां शेयर मार्किट से सम्बंधित होती हैं और मंथली मोड में प्रीमियम अदा करने से नुकसान होने की सम्भावना काफी कम हो जाती है। इसके अलावा अगर आपकी पॉलिसी लम्बे समय तक चलती है तो 15 -20% का रिटर्न भी मिल सकता है।

पॉलिसी चुनने में वेबसाइट्स की मदद लीजिये – अगर आप सही पॉलिसी का चुनाव करना चाहते हैं तो इसके लिए किसी कंपनी के एडवाइज़र के पास जाने से पहले वेबसाइट्स के ज़रिये लाइफ इंश्योरेंस कंपनियों के प्लान्स की तुलना कीजिये और ऐसा करने के बाद आप अपने लिए सबसे सही पॉलिसी का चुनाव बहुत आसानी से कर पाएंगे।

इंटरनेट से पॉलिसी खरीदे – ज़्यादातर लोग किसी एजेंट या एडवाइजर के ज़रिये ही पॉलिसी खरीदना पसंद करते हैं लेकिन अगर आप चाहे तो इंटरनेट पर किसी भी कंपनी की वेबसाइट पर जाकर भी पॉलिसी ले सकते हैं। ऐसा करने पर आपको प्रीमियम थोड़ा कम देना पड़ेगा।

आपकी लाइफ इंश्योरेंस कंपनी को सही जानकारी ही दें – लाइफ इंश्योरेंस कंपनी के नियमों के अनुसार कंपनी और ग्राहक को एकदूसरे के बारे में सही जानकारी देनी होती है इसलिए अपने बारे में सारी सही जानकारियां ही दें।

ऐसा नहीं करने की स्थिति में पॉलिसी के लाभ से वंचित भी हो सकते हैं जैसे किसी ग्राहक द्वारा अपनी बीमारी की जानकारी छुपाई जाए जिसके चलते कुछ वक़्त बात उसकी मृत्यु हो जाए तो इस पॉलिसी का लाभ उसके परिवार को नहीं मिल सकेगा इसलिए पूरी सावधानी के साथ फॉर्म भरें और उसकी फोटोकॉपी अपने पास रखें।

लुभावने वादों में ना उलझे – IRDA के नियम के अनुसार कोई भी लाइफ इंश्योरेंस कमपनी आपको 10% से ज़्यादा के हिसाब से रिटर्न नहीं दिला सकती। ऐसे में अगर कोई कंपनी आपके पैसों को तीन साल में दुगुना करने जैसे वादे करें तो ऐसी कंपनी में पॉलिसी मत करवाइये।

फ्री लुक पीरियड का फायदा उठाइये – कई बार जाने अनजाने हम ग़लत पॉलिसी ले लेते हैं। ऐसे में आप फ्री लुक पीरियड का लाभ उठा सकते हैं जो पॉलिसी लेने के 15 दिन तक चलता है जिसमें आप पॉलिसी वापिस करके अपने पैसे वापिस ले सकते हैं या उसे किसी और प्लान में बदलवा सकते हैं।

राइडर लगवाना ना भूलें – आप अपनी पॉलिसी के साथ कुछ राइडर्स भी लगवा सकते हैं जैसे एक्सीडेंट डेथ बेनेफिट, क्रिटिकल इलनेस राइडर्स। इनमें बहुत कम खर्च आता है और इनसे मिलने वाले फायदे बहुत अधिक होते हैं जैसे किसी दुर्घटना में मृत्यु होने पर नोमिनी को बीमा राशि कि दुगुना राशि मिल जाती है। अक्सर एडवाइजर आपको इस बारे में जानकारी नहीं देते हैं इसलिए पॉलिसी लेते समय आप इस बात का ध्यान ज़रूर रखें।

हम सभी चाहते हैं कि हम और हमारा परिवार हमेशा स्वस्थ और सुरक्षित बना रहे और अब तो आप ये भी जान चुके हैं कि लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी लेते समय किन ज़रूरी बातों काध्यान रखना चाहिए। तो बस, देर किस बात की ! अपने रिटायरमेंट का इंतज़ार करने की बजाए अभी अपनी ज़रूरतों के अनुसार पॉलिसी ले लीजिये ताकि आपका और आपके परिवार का हर पल सुरक्षित गुज़रे।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“टर्म प्लान क्या होता है और हमारे लिए क्यों जरुरी है?”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।