लीवर की खराबी के कारण

अक्टूबर 17, 2017

लीवर हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। इसके ठीक से काम ना कर पाने का मतलब है आपके स्वास्थ्य लिए भयंकर खतरा होना। ऐसे में लीवर की खराबी से जुड़ी किसी भी समस्या को नजरअंदाज करना आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है। यह शरीर का ऐसा हिस्सा है जो दोबारा खुद बन सकता है लेकिन इसके लिए जरूरी शर्त है कि इसका एक-चौथाई हिस्सा ठीक से काम करे। लीवर को ज्यादा शराब पीना, ज्यादा तला हुआ भोजन करना आदि कारण प्रभावित करते हैं।

यह अंग केवल आपके खाने को ही नहीं पचाता है बल्कि शरीर में कई तरह के जरूरी एंजाइम्स का निर्माण भी करता है। लीवर खून से विषैली चीजों को अलग करके उसे साफ करने का काम और दूसरे अंगे के लिए जरूरी रसायनों के निर्माण में अहम भूमिका निभाता है। शरीर से एसिड को बाहर करने का काम भी लीवर करता है। इन्हीं वजहों से आपके लीवर का ठीक तरह से काम करते रहना जरूरी है। ये तो थी लीवर की जानकारी अब हम आपको बताते हैं लीवर की खराबी के कारण जिनकी वजह से लीवर को नुकसान पहुंचता है।

1. शराब – आज के समय में बहुत से लोग शौक के लिए या लत की वजह से शराब का सेवन करते हैं। यह आपके लीवर को नुकसान पहुंचाती है। ज्यादा समय तक शराब पीने वाले लोगों का अक्सर लीवर खराब हो जाता है। जिसकी वजह से आपका शरीर कई तरह की बीमारियों की चपेट में आसानी से आ जाता है।

2. पेनकिलर – क्या आप थोड़ा सा दर्द होने पर तुरंत पेनकिलर खाते हैं तो सावधान हो जाइए। क्योंकि आपके द्वारा खाई जाने वाली पेनकिलर आपके लीवर को नुकसान पहुंचाती हैं। बुखार को दूर भगाने के लिए खाई जाने वाली पैरासिटामॉल बुखार को तो दूर कर देती है लेकिन आपके लीवर पर अपना साईड इफेक्ट छोड़ देती है। इसके अलावा कैंसर का इलाज करने में इस्तेमाल होने वाली कुछ दवाएं भी लीवर को नुकसान पहुंचाती हैं।

3. फैट – फैट जमा होने से आपके लीवर का आकार बढ़ जाता है। जिससे आपको कई तरह की बीमारियां हो सकती है। लीवर में फैट बढ़ने की मुख्य वजहें-शराब पीना, मोटापा, खून में ज्यादा फैट का होना, डायबिटीज और किसी दवा का साइड इफेक्ट हो सकता है।

4. हेपेटाइटिस – हेपेटाइटिस सी और बी लीवर में कैंसर को जन्म देती है। बेहतर होगा शुरुवाती लक्षण दिखने पर ही डॉक्टर से अपना चेकअप करवाएं।

5. तला हुआ भोजन – यदि आप नियमित तौर पर बाहर का तला हुआ भोजन करते हैं तो आप खुद अपने लीवर को बीमार कर रहे हैं। बाहर आप जिस चाट-पकौड़ी आदि का स्वाद लेते हैं उन्हें पकाने के लिए एक ही तेल का बार-बार इस्तेमाल किया जाता है। जिसका असर आपके लीवर पर पड़ता है।

6. अनियमित दिनचर्या – अनियमित दिनचर्या में खासतौर से समय पर सोने, उठने, खाने जैसी क्रियाएं आती हैं, जो कभी पूर्ण तो कभी आंशिक रूप से लीवर को प्रभावित करती हैं।

ये तो थे लीवर की खराबी के कारण अब हम आपको इसके कुछ लक्षण बता देतें हैं ताकि आप सतर्क हो जाएं और इन्हें बिलकुलल भी नजरअंदाज ना करें।

“याद्दाश्त कमजोर होने के कारण”

शेयर करें